Submit your post

Follow Us

महाराष्ट्र : चुनाव से तीन महीने पहले मुख्य निर्वाचन अधिकारी बदले गए

महाराष्ट्र. इस साल यहां विधानसभा चुनाव होने हैं. सितंबर या अक्टूबर में हो सकते हैं, ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं. चुनाव से लगभग तीन महीने पहले 11 जुलाई को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) अश्वनी कुमार का तबादला कर दिया है. बलदेव हरपाल सिंह उनकी जगह लेंगे.

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, अधिकारी अश्विनी कुमार 1987 बैच के आईएएस है. 16 अगस्त 2016 को उन्हें महाराष्ट्र का मुख्य निर्वाचन अधिकारी नियुक्त किया गया था. वह अपने तीन साल का कार्यकाल पूरा करने से सिर्फ एक महीना दूर थे. सीनियर ब्यूरोक्रेट्स का कार्यकाल कम से कम दो साल का होता है, लेकिन महाराष्ट्र सरकार में ऐसे लगभग 6 अधिकारी हैं जो अपने पद पर तीन साल से ज्यादा समय से हैं.

क्या है पीएम मोदी का कनेक्शन?

अश्विनी कुमार ने 2019 लोकसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन के दो मामलों पर अपनी रिपोर्ट दी थी. 1 अप्रैल को महाराष्ट्र के लातूर और वर्धा में नरेंद्र मोदी के भाषण की शिकायत की गई. इस शिकायत पर जांच हुई. चुनाव अधिकारी बैठे, जिनमें अश्वनी कुमार भी शामिल थे. अश्वनी कुमार ने ओस्मानाबाद और वर्धा में जिला चुनाव अधिकारियों से इस मामले में रिपोर्ट मांगी. और इन रिपोर्टों के आधार पर केंद्रीय चुनाव आयोग को अपनी रिपोर्ट भेजी थी.

केंद्रीय चुनाव आयोग ने इन मामलों में नरेंद्र मोदी को 2-1 के फैसले से क्लीनचिट दे दी थी. अपनी भाषा में समझें तो दो अधिकारियों ने मोदी को कहा था कि वे सही थे, और एक ने कहा कि नहीं, साहब! कुछ तो गड़बड़ है.

मामले में चुनाव आयुक्त अशोक लवासा ने शिकायत की थी. कहा था कि इन फैसलों में उनकी असहमतियों को दर्ज नहीं किया गया.

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, सूत्रों ने बताया कि अश्वनी कुमार के काम करने के तरीकों को लेकर कुछ कलेक्टर्स ने आपत्ति जताई थी. भले ही अश्वनी कुमार का तबादला कर दिया गया है लेकिन उनकी नई नियुक्ति कहां होगी इसे लेकर कोई जानकारी सामने नहीं आई है.

कौन हैं बलदेव सिंह?

मुख्य निर्वाचन अधिकारी बलदेव हरपाल सिंह, 1989 बैच के आईएएस अधिकारी हैं. इससे पहले सेज मुंबई में सांता क्रूज विशेष प्रसंस्करण जोन के विकास आयुक्त के पद पर तैनात थे. पहले राज्य के श्रम विभाग में मुख्य सचिव थे.

महाराष्ट्र की 288 सीटों पर 2014 में विधानसभा चुनाव हुआ था. भारतीय जनता पार्टी को 122, शिवसेना को 63, कांग्रेस को 42 और एनसीपी को 41 सीटें मिली थीं. बीजेपी और शिवसेना ने मिलकर सरकार बनाई थी.


उत्तराखंड: भाजपा विधायक ‘चैंपियन’ का हथियार लहराते हुए डांस का वीडियो वायरल

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

एंटी-CAA प्रोटेस्ट को उकसाने के आरोप में कपल गिरफ्तार, पुलिस ने कहा- ISIS से लिंक हो सकता है

दिल्ली के शाहीन बाग में 15 दिसंबर से प्रोटेस्ट चल रहा है.

सबसे ज्यादा रणजी मैच और सबसे ज्यादा रन, इस खिलाड़ी ने 24 साल बाद लिया संन्यास

42 की उम्र तक खेलते रहे, अब बल्ला टांगा.

लखनऊ में CAA विरोधी प्रदर्शन के दौरान 'तोड़फोड़ करने वाले' 57 लोगों के होर्डिंग लगाए

होर्डिंग पर पूर्व IPS एसआर दारापुरी और कांग्रेस कार्यकर्ता सदफ ज़फर जैसे लोगों का नाम.

दिल्ली दंगे के 'हिन्दू पीड़ितों' की मदद के लिए कपिल मिश्रा ने जुटाये 71 लाख, खुद एक पईसा नहीं दिया

अब भी कह रहे हैं, 'आप धर्म को बचाइये, धर्म आपको बचायेगा'

कांग्रेस सांसद का आरोप : अमित शाह का इस्तीफा मांगा, तो संसद में मुझ पर हमला कर दिया गया

कांग्रेस सांसद ने कहा, 'मैं दलित महिला हूं, इसलिए?'

निर्भया केस: चार दोषियों की फांसी से एक दिन पहले कोर्ट ने क्या कहा?

राष्ट्रपति ने पवन गुप्ता की दया याचिका खारिज कर दी है.

कश्मीर : हथियारों के फर्जी लाइसेंस बनवाने वाला IAS अधिकारी कैसे धरा गया?

हर लाइसेंस पर 8-10 लाख रूपए लेता था!

गृहमंत्री अमित शाह की रैली में आई भीड़ ने लगाया देश के गद्दारों को गोली मारो... का नारा!

ये नारा डरावना है, उससे भी डरावना है इसका गृहमंत्री की रैली में लगाया जाना.

दिल्ली के बाद मेघालय में भी हिंसा भड़की, दो की मौत, कई जिलों में इंटरनेट बंद

मामला CAA प्रोटेस्ट से जुड़ा है.

एक्टिंग छोड़ बीजेपी जॉइन की थी, अब कपिल मिश्रा और अनुराग ठाकुर की वजह से पार्टी छोड़ दी

बीजेपी नेता ने अपनी पार्टी के नेताओं पर बड़ा बयान दिया है.