Submit your post

Follow Us

महाराष्ट्र : चुनाव से तीन महीने पहले मुख्य निर्वाचन अधिकारी बदले गए

5
शेयर्स

महाराष्ट्र. इस साल यहां विधानसभा चुनाव होने हैं. सितंबर या अक्टूबर में हो सकते हैं, ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं. चुनाव से लगभग तीन महीने पहले 11 जुलाई को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) अश्वनी कुमार का तबादला कर दिया है. बलदेव हरपाल सिंह उनकी जगह लेंगे.

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, अधिकारी अश्विनी कुमार 1987 बैच के आईएएस है. 16 अगस्त 2016 को उन्हें महाराष्ट्र का मुख्य निर्वाचन अधिकारी नियुक्त किया गया था. वह अपने तीन साल का कार्यकाल पूरा करने से सिर्फ एक महीना दूर थे. सीनियर ब्यूरोक्रेट्स का कार्यकाल कम से कम दो साल का होता है, लेकिन महाराष्ट्र सरकार में ऐसे लगभग 6 अधिकारी हैं जो अपने पद पर तीन साल से ज्यादा समय से हैं.

क्या है पीएम मोदी का कनेक्शन?

अश्विनी कुमार ने 2019 लोकसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन के दो मामलों पर अपनी रिपोर्ट दी थी. 1 अप्रैल को महाराष्ट्र के लातूर और वर्धा में नरेंद्र मोदी के भाषण की शिकायत की गई. इस शिकायत पर जांच हुई. चुनाव अधिकारी बैठे, जिनमें अश्वनी कुमार भी शामिल थे. अश्वनी कुमार ने ओस्मानाबाद और वर्धा में जिला चुनाव अधिकारियों से इस मामले में रिपोर्ट मांगी. और इन रिपोर्टों के आधार पर केंद्रीय चुनाव आयोग को अपनी रिपोर्ट भेजी थी.

केंद्रीय चुनाव आयोग ने इन मामलों में नरेंद्र मोदी को 2-1 के फैसले से क्लीनचिट दे दी थी. अपनी भाषा में समझें तो दो अधिकारियों ने मोदी को कहा था कि वे सही थे, और एक ने कहा कि नहीं, साहब! कुछ तो गड़बड़ है.

मामले में चुनाव आयुक्त अशोक लवासा ने शिकायत की थी. कहा था कि इन फैसलों में उनकी असहमतियों को दर्ज नहीं किया गया.

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, सूत्रों ने बताया कि अश्वनी कुमार के काम करने के तरीकों को लेकर कुछ कलेक्टर्स ने आपत्ति जताई थी. भले ही अश्वनी कुमार का तबादला कर दिया गया है लेकिन उनकी नई नियुक्ति कहां होगी इसे लेकर कोई जानकारी सामने नहीं आई है.

कौन हैं बलदेव सिंह?

मुख्य निर्वाचन अधिकारी बलदेव हरपाल सिंह, 1989 बैच के आईएएस अधिकारी हैं. इससे पहले सेज मुंबई में सांता क्रूज विशेष प्रसंस्करण जोन के विकास आयुक्त के पद पर तैनात थे. पहले राज्य के श्रम विभाग में मुख्य सचिव थे.

महाराष्ट्र की 288 सीटों पर 2014 में विधानसभा चुनाव हुआ था. भारतीय जनता पार्टी को 122, शिवसेना को 63, कांग्रेस को 42 और एनसीपी को 41 सीटें मिली थीं. बीजेपी और शिवसेना ने मिलकर सरकार बनाई थी.


उत्तराखंड: भाजपा विधायक ‘चैंपियन’ का हथियार लहराते हुए डांस का वीडियो वायरल

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

5 जनवरी की रात तीन बजे तक JNU कैम्पस में क्या-क्या हुआ?

जेएनयू कैम्पस में 5 जनवरी को नकाबपोशों ने स्टूडेंट्स और टीचर्स पर हमला किया.

2015 और इस बार के दिल्ली विधानसभा चुनाव में क्या अंतर है?

चुनाव के नतीजे 11 फरवरी को आएंगे.

JNU छात्रों पर हमले के बाद VC एम जगदीश कुमार क्या बोले?

नकाबपोश गुंडों ने कैंपस में मारपीट की थी.

जानिए, 5 जनवरी की दोपहर और शाम JNU कैंपस में क्या हुआ?

दो-तीन दिनों से कैंपस में तनाव था. अगले सेमेस्टर के रजिस्ट्रेशन पर स्टूडेंट्स में झड़पों की भी ख़बरें आईं थीं.

कोर्ट के आदेश के बाद वो 3 मौके, जब योगी सरकार ने 'दंगाइयों' से जुर्माना नहीं वसूला

और सवाल उठ रहे कि इस बार ही क्यों?

मोदी के जिस ड्रीम प्रोजेक्ट पर सरकार ने करोड़ों खर्च किये वो फ्लॉप हो गया

इसके प्रचार के लिए सरकार ने जगह-जगह बड़े-बड़े होर्डिंग्स लगवाए थे.

नए साल की पहली खुशखबरी आ गई, रेलवे का किराया बढ़ गया

सेकंड क्लास, स्लीपर, फ़र्स्ट क्लास, एसी सबका किराया बढ़ा है रे फैज़ल...

CAA Protest : यूपी पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाने वालों को पुलिस ने क्यों ब्लॉक किया?

यूपी पुलिस की इस कार्रवाई का क्या मतलब है?

जिस अधिकारी पर प्रियंका गांधी ने गला दबाने का आरोप लगाया उसने क्या कहा है

भाई की मौत की खबर मिलने के बाद भी ड्यूटी पर तैनात थीं अफसर.

प्रियंका गांधी का UP पुलिस पर बड़ा आरोप, 'मुझे घेरा और मेरा गला दबाया'

लखनऊ दौरे पर हैं प्रियंका गांधी.