Submit your post

Follow Us

क्या कोरोना के चलते बच जाएगी MP में कमलनाथ सरकार?

मध्य प्रदेश. 16 मार्च, सोमवार से यहां विधानसभा का बजट सेशन शुरू होने वाला है. राज्यपाल लालजी टंडन ने मुख्यमंत्री कमलनाथ को इस सेशन के पहले दिन बहुमत साबित करने का आदेश दिया था. लेकिन पहले दिन फ्लोर टेस्ट होगा या नहीं, इस पर अभी भी सवाल बना हुआ है, क्योंकि स्पीकर एनपी प्रजापति का कुछ और ही कहना है. उनसे जब इस मामले पर 15 मार्च के दिन सवाल किया गया, तो उन्होंने साफ कह दिया कि फ्लोर टेस्ट होगा या नहीं, ये सभा के पहले दिन ही पता चलेगा.

‘इंडियन एक्सप्रेस’ की रिपोर्ट के मुताबिक, एनपी प्रजापति ने फ्लोर टेस्ट के मुद्दे पर बीती शाम रिपोर्टरों से कहा,

‘फ्लोर टेस्ट होगा या नहीं, ये काल्पनिक सवाल है. कल (16 मार्च) ही मैं बताऊंगा कि गवर्नर फ्लोर टेस्ट का ऑर्डर दे सकते हैं या नहीं. अभी मुझे ज्यादा चिंता तेज़ी से फैल रहे कोरोना वायरस की है.’

कांग्रेस ने अपने समर्थन वाले विधायकों को जयपुर भेजा था, जो कि बजट सेशन के पहले भोपाल वापस आ गए. उनके लौटने पर सभी का कोरोना टेस्ट कराया गया. डॉक्टर्स की एक टीम 15 मार्च को कोर्टयार्ड मैरियट पहुंची, जहां विधायकों का कोरोना टेस्ट हुआ. रिपोर्ट्स के मुताबिक, गुरुग्राम गए हुए BJP विधायकों और बेंगलुरू में ठहरे कांग्रेस के 22 बागी विधायकों के लौटने पर उनका भी कोरोना टेस्ट कराया जाएगा.

PTI की रिपोर्ट के मुताबिक, एनपी प्रजापति ने ये भी कहा कि वो इस मामले में कोई पार्टी नहीं बनना चाहते. वो अपना फैसला पहले से तय करके नहीं लेंगे.

वहीं राज्यपाल लालजी टंडन का कहना है कि कमलनाथ सरकार को विधानसभा के पहले दिन गवर्नर की स्पीच के बाद फ्लोर टेस्ट के जरिए बहुमत साबित करना होगा. राज्यपाल ने कहा,

‘विधानसभा की कार्यवाही 16 मार्च को शुरू होगी और किसी भी हालत में ये कैंसिल या टाली या फिर सस्पेंड नहीं की जाएगी.’

साथ ही ये भी कहा कि वोटिंग ‘हाथ उठाकर मत देने’ वाली प्रक्रिया से होगी. ये सारी बात गवर्नर ने सीएम कमलनाथ को लिखे एक लेटर में कही.

मध्य प्रदेश में चल क्या रहा है?

मध्य प्रदेश में कमलनाथ की सरकार बचेगी या नहीं, इस पर सवाल मंडरा रहा है. विधानसभा में 230 सीटें हैं. ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पिछले हफ्ते कांग्रेस से इस्तीफा देकर BJP जॉइन कर ली थी. उनके साथ ही कांग्रेस के 22 विधायकों ने भी इस्तीफा दे दिया था. इनमें से 6 विधायक जो राज्य में मंत्री थे, उनके इस्तीफे को विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति ने मंजूर कर लिया था. इसके बाद विधानसभा सदस्यों की मौजूदा संख्या 222 हो गई, क्योंकि दो सीटें विधायकों की मौत की वजह से पहले से ही खाली थीं.

अब बचे इस्तीफा देने वाले 16 और विधायक. इन पर स्पीकर को फैसला लेना बाकी है. अगर इस्तीफे स्वीकार हो जाते हैं, तो 16 और विधायकों की सदस्यता चली जाएगी. ऐसे में कांग्रेस सरकार में शामिल सदस्यों की संख्या 121 से 99 हो जाएगी. विधानसभा के सदस्यों की संख्या 206 और बहुमत का आंकड़ा 104 पर आ जाएगा.

रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस्तीफा देने वाले 22 कांग्रेसी विधायक इस वक्त बेंगलुरु में हैं. उन्हें 16 मार्च की सुबह भोपाल लाया जाएगा. कांग्रेस नेता कह रहे हैं कि बेंगलुरु ले जाए गए विधायक दबाव में हैं और भोपाल आने के बाद उनमें से कई विधायक अपना फैसला बदल देंगे.


वीडियो देखें: पॉलिटिक्स का छोटा रीचार्ज: MP में कमलनाथ का दांव तो राहुल गांधी ने PM मोदी से क्यों कहा- सो रहे आप?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

NEET, JEE आगे बढ़ाने की मांग कर रहे छात्र ये पांच कारण बता रहे हैं

तय समय पर परीक्षा कराने के लिए 150 शिक्षाविदों ने लिखी PM मोदी को चिट्ठी.

कोर्ट ने कहा, ये शर्त पूरी किए बिना अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा पर दिल्ली दंगों में हेट स्पीच का केस नहीं

बीजेपी नेताओं के खिलाफ़ याचिका ख़ारिज करते हुए अदालत ने और क्या कहा, ये भी पढ़िए.

पाकिस्तान के किस बयान में इंडिया ने एक के बाद एक पांच झूठ पकड़ लिए हैं?

पाकिस्तान ने आतंकवाद फैलाने में भारत का नाम ले लिया, बस हो गया काम.

सोनिया-राहुल को पत्र लिखने पर कांग्रेस मंत्री ने नेताओं से कहा, ‘खुल्लमखुल्ला टहलने नहीं दूंगा’

माफ़ी नहीं मांगने पर परिणाम भुगतने की बात कर डाली.

प्रशांत भूषण के खिलाफ़ अवमानना का मुक़दमा सुन रहे सुप्रीम कोर्ट के इन तीन जजों की कहानी क्या है?

पूरी रामकहानी यहां पढ़िए.

महाराष्ट्र: रायगढ़ में पांचमंज़िला इमारत ढही, 50 से ज़्यादा लोग दबे

एनडीआरएफ की तीन टीमें राहत के काम में जुटी हैं.

क्या 73 दिन में कोरोना वैक्सीन आ रही है? बनाने वाली कंपनी ने बताई सच्ची-सच्ची बात

कन्फ्यूजन है कि खुश होना है या अभी रुकना है?

प्रशांत भूषण ने कही ये बात, तो कोर्ट बोला- हजार अच्छे काम से गुनाह करने का लाइसेंस नहीं मिल जाता

बचाव में उतरे केंद्र की अपील, सजा न देने पर विचार करें, सुप्रीम कोर्ट ने दिया दो-तीन दिन का वक्त

सुशांत पर सुप्रीम कोर्ट ने CBI जांच का आदेश दिया, महाराष्ट्र के वकील को आपत्ति

कोर्ट ने कहा, सारे काग़ज़ CBI को दे दीजिए.

बिहार : महीनों से बिना सैलरी के पढ़ा रहे हैं गेस्ट टीचर, मांगकर खाने की आ गई नौबत!

इस पर अधिकारियों ने क्या जवाब दिया?