Submit your post

Follow Us

पिता को मरे दो महीने हो गए, IPS बेटा लाश का इलाज करवा रहा है

3.06 K
शेयर्स

आशुतोष महाराज तो याद ही होंगे आपको. पंजाब के लुधियाना में नूरमहल डेरा के प्रमुख और दिव्य ज्योति जागृति संस्थान के संत. वही जिनको डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया था. मगर कोई पांच साल से उनका शव -22 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर फ्रीजर में रखा हुआ है. आशुतोष महाराज को 28 जनवरी, 2014 को लुधियाना के सद्गुरु प्रताप अपोलो अस्पताल में क्लीनिकली डेड घोषित किया गया था. पर आज भी उनका शव उनके डेरे के एक कमरे में रखा है. भक्तों के मुताबिक आशुतोष महाराज ने समाधि ली है. और वे समाधि से जल्दी ही जागेंगे. ऐसा ही एक और मामला सामने आया है.

ताजा मामला भोपाल का है. पुलिस अफसर राजेंद्र मिश्रा के पिता कुलमणि मिश्रा की 14 जनवरी, 2019 को मृत्यु हो गई थी. मगर बीते दो महीने से वो अपने पिता का शव अपने सरकारी बंगले में रखे हुए हैं. और उनका आयुर्वेदिक इलाज करा रहे हैं. उनका दावा है कि इलाज सही चल रहा है. कुलमणि मिश्रा के शव के पास उनकी पत्नी शशिमणि, कुछ परिजनों और एक डॉक्टर को ही जाने की इजाजत है. ये डॉक्टर पचमढ़ी से कुछ आयुर्वेदिक दवाएं लाकर उनका इलाज कर रहे हैं. 84 साल के कुलमणि मिश्रा भी ओडिशा सरकार में अफसर रहे थे.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक 84 साल के कुलमणि मिश्रा की 13 जनवरी, 2019 को तबियत बिगड़ी. इस पर उनको भोपाल के एक प्राइवेट अस्पताल ‘बंसल हास्पिटल’ में भर्ती कराया गया. अगले दिन 14 जनवरी को डॉक्टरों ने उनको मृत घोषित कर दिया. अस्पताल ने उनका डेथ सर्टिफिकेट भी दे दिया. मगर आईपीएस राजेंद्र मिश्रा, जो मध्य प्रदेश पुलिस के को़ऑपरेटिव फ्रॉड सेल में एडीजीपी हैं, उन्होंने इसे नहीं माना. वे पिता को घर ले आए. और उनका आयुर्वेदिक पद्धति से इलाज कराने लगे.

डॉक्टर पचमढ़ी से कुछ आयुर्वेदिक दवाएं लाकर उनका इलाज कर रहे हैं.
डॉक्टर पचमढ़ी से कुछ आयुर्वेदिक दवाएं लाकर उनका इलाज कर रहे हैं. सांकेतिक तस्वीर. इंडिया टुडे.

एलोपैथी एकमात्र विकल्प नहीं

राजेंद्र मिश्रा ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि एलोपैथी इलाज आखिरी विकल्प नहीं है. दुनिया में साइंस के अलावा भी बहुत कुछ है. मेरे पिता जीवित हैं. और उनका इलाज चल रहा है. वे बीते 6 दशक से योग कर रहे थे. और इस वक्त ‘योग निद्रा’ में हैं. डॉक्टर उनको जगाने का प्रयास कर रहे हैं, इसमें क्या गलत है? ये काम कोई मर्डर तो कहा नहीं जाएगा? अगर मेरे पिता की मृत्यु हो गई होती तो उनका शरीर अब तक खराब हो चुका होता. आप किसी मृत शरीर का इलाज नहीं कर सकते? किसी छिपकली या चूहे के मरने पर आप उस कमरे में एक घंटे भी नहीं रह सकते? मैं समझ नहीं पा रहा हूं कि बाहरी लोग मेरे निजी मामले में क्यों दखल दे रहे हैं? पिता का इलाज कराना उनका हक है. मैं कोई अपराध या भ्रष्टाचार नहीं कर रहा हूं.

मानवाधिकार टीम को वापस लौटाया

इस मामले को कुछ लोगों ने राज्य मानवाधिकार आयोग तक पहुंचा दिया है. इस पर आयोग ने 23 फरवरी, 2019 को छह डॉक्टरों की एक टीम राजेंद्र मिश्रा के घर भेजी थी. इस टीम में तीन डॉक्टर एलौपेथी के और तीन आयुर्वेदिक चिकित्सा के थे. आयोग ने डॉक्टरों की इस टीम को कुलमणि मिश्रा की जांच के लिए भेजा था. मगर आईपीएस राजेंद्र मिश्रा के घर की सिक्योरिटी ने टीम के सदस्यों को घर के अंदर नहीं जाने दिया.

कुछ वक्त पहले राजेंद्र मिश्रा की मां शशिमणि ने मध्य प्रदेश हाईकोर्ट में एक रिट फाइल की थी. इसमें उन्होंने कहा था कि इस मामले में कोई दखल न दिया जाए. उन्होंने राज्य मानवाधिकार आयोग को भी एक चिट्ठी लिखी है. इसमें कहा गया है कि डॉक्टरों की टीम उनके जीवन के अधिकार, सम्मान और स्वतंत्रता में खलल डाल रही है. हाईकोर्ट ने मध्य प्रदेश सरकार और मानवाधिकार आयोग को नोटिस भी जारी किए हैं.

आयोग कार्रवाई करेगा

मध्य प्रदेश मानवाधिकार आयोग के रजिस्ट्रार ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि आयोग कानून के आधार पर कार्रवाई करेगा. राज्य सरकार के डीजीपी से कहा जाएगा कि राजेंद्र मिश्रा के घर कोई सीनियर पुलिस अफसर को भेजा जाए. और उसके आदेश को लागू कराया जाए. बंसल हास्पिटल के प्रवक्ता लोकेश झा के मुताबिक कुलमणि मिश्रा की मृत्यु अगले ही दिन हो गई थी. उनके डेड बॉडी घर वालों को सौंप दी गई थी. अस्पताल ने मृत्यु प्रमाण पत्र भी दे दिया था. डेड बॉडी के साथ कोई क्या करता है ये देखना वैसे भी अस्पताल का काम नहीं.


वीडियोः तमिलनाडु: फर्ज़ी फेसबुक आईडी से 50 लड़कियों को मोलेस्ट किया गया|दी लल्लनटॉप शो| Episode 173

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Madhya Pradesh Police officer giving medical treatment to dead fathers body

टॉप खबर

आखिर क्यों क्रैश हो रहे हैं Boeing 737 MAX प्लेन, जिन्हें पूरी दुनिया में बैन किया जा रहा है

बोइंग के इस प्लेन के क्रैश होने से 5 महीनों में कुल 346 लोगों की मौत हो चुकी हैं.

पाकिस्तान से हुई लड़ाई में कैप्टन अमरिंदर का क्या रोल था?

कैप्टन हर जगह 65 की जंग की बात करते हैं. आज बड्डे है. जानते हैं उनसे जुड़े किस्से.

रॉयटर्स के मुताबिक भारत की बालाकोट स्ट्राइक फेल हुई! सैटेलाइट इमेज में क्या दिखा?

एक्सपर्ट के मुताबिक हाई रेजॉल्यूशन फोटो में जैश के मदरसे को कोई साफ नुकसान नहीं दिखता.

IND vs AUS : वो 5 फैक्टर, जिन्होंने भारत को दूसरा वनडे जिता दिया

कोहली तो हैं हीं...मगर असली काम तो बॉलरों ने किया.

किन तीन वजहों से दलित-आदिवासी संगठनों ने 5 मार्च को 'भारत बंद' बुलाया?

चुनाव के माहौल में इनकी नाराज़गी का क्या असर होगा? कोई असर होगा भी कि नहीं होगा...

वो पांच जवान, जो बड़गाम हेलिकॉप्टर क्रैश में शहीद हुए

ये वही क्रैश है जिसे पहले मिग विमान क्रैश समझ लिया गया था.

बडगाम में क्रैश हेलिकॉप्टर MI-17, जिसे बार-बार रूस से मंगाया जाता है

इसी हेलिकॉप्टर से एक और हादसा हो चुका है.

पाकिस्तान का लड़ाकू विमान F-16, जिसके दम पर वो इंडिया को धमकाता है

सुबह से ये खबरें चल रही हैं कि भारतीय वायुसेना ने एक F-16 गिरा दिया है.

12 लड़ाकू विमान, तीन कैंप, 1000 किलो के बम, इंडियन एयरफोर्स के हमले की खास बातें

12 दिन के अंदर पुलवामा हमले की जवाबी कार्रवाई की डिटेल्स जानिए.