Submit your post

Follow Us

कठुआ केस में दोषी सांजी राम की बेटी और प्रवेश कुमार की मां ने फैसले पर क्या कहा?

कठुआ में जनवरी 2018 में 8 साल की बच्ची के साथ गैंगरेप के बाद हत्या हुई. मामले में 8 लोगों की गिरफ्तारी हुई. लगभग डेढ़ साल केस चला, फिर अदालत का फैसला आया. पठानकोट की एक अदालत ने फैसला सुनाते हुए 6 लोगों को दोषी करार दिया, एक को बरी कर दिया जबकि एक नाबालिग का ट्राएल चल रहा है. वारदात के तीन दोषी सांजी राम, दीपक खजूरिया और प्रवेश कुमार को उम्र कैद की सज़ा मिली. तीन लोग आनंद दत्ता, तिलक राज और सुरेंद्र को सबूत छिपाने के आरोप में दोषी पाए जाने पर 5-5 साल की कैद की सज़ा मिली. जबकि सबूतों के अभाव में विशाल जंगोत्रा को बरी कर दिया गया. विशाल जंगोत्रा सांजी राम का ही बेटा है.

कोर्ट से आरोप मुक्त होने के बाद विशाल जंगोत्रा के परिवार की तरफ से सांजी राम के फैसले पर भी टिप्पणी आई. इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक सांजी राम की पत्नी दार्शना और बेटी मोनिका विशाल जंगोत्रा के ही रिहा होने पर खुद को तसल्ली देने की कोशिश की. क्योंकि इस मामले में एक ही परिवार के दो लोग आरोपी थे. विशाल जंगोत्रा के आरोप मुक्त होने पर मोनिका ने कहा:

जब विशाल के खिलाफ कोई सबूत ही नहीं था, तब सांजी राम किसके लिए इसमें शामिल होंगे. अदालत को उन्हें भी बरी कर देना चाहिए था.

2017 में रिटायरमेंट के बाद सांजी राम जम्मू में ही था. रिटायरमेंट के बाद उसने अपने घर के पास एक हॉल बनवाया था. उसी हॉल के पास वो बैठा करता था. सांजी राम के दो बेटे और बेटियां हैं. दोनो बेटिंयों की शादी हो चुकी है. सांजी राम का बड़ा बेटा नौसेना में है, वहीं दूसरा बेटा विशाल जंगोत्रा है जो इसी मामले में कोर्ट से बरी हुआ है. दूसरी तरफ प्रवेश कुमार के दोषी साबित होने पर उसकी मां तृषला देवी का भी बयान आया. फैसले के बाद अपने घर में रोते हुए उन्होंने कहा:

क्राइम ब्रांच वाले चाहते थे कि वह दूसरे आरोपियों के खिलाफ एक गवाह बन जाए, लेकिन उसने उनके खिलाफ गलत बयान देने से इनकार कर दिया. इसलिए उन्होंने बेटे को फंसा दिया.

कठुआ मामले में तीन को उम्र कैद की सज़ा मिली. साजी राम (बाएं), दीपक (बीच में), प्रवेश कुमार (दाएं). तस्वीर पीटीआई
कठुआ मामले में तीन को उम्र कैद की सज़ा मिली. साजी राम (बाएं), दीपक (बीच में), प्रवेश कुमार (दाएं). तस्वीर पीटीआई

19 साल का प्रवेश कुमार, सांजी राम का पड़ोसी था. उसने 2017 में ही ग्यारवीं क्लास की परीक्षा दी थी जिसमें वो एक विषय में फेल हो गया था. 2018 में इस केस में गिरफ्तार होने के बाद प्रवेश के पिता मुंबई में मजदूरी करने चले गए. प्रवेश का परिवार आर्थिक रूप से कमज़ोर था जिसकी वजह से पूरा परिवार एक ही कमरे में रहता था. इस केस में प्रवेश को भी आजीवन कारावास यानी कि उम्र कैद की सज़ा मिली है.

इस मामले में तीसरा दोषी दीपक खजुरिया है. जिसे कोर्ट की तरफ से आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है. दीपक एक पुलिस अधिकारी था. जिसके पिता अवधेश खजुरिया 5 महीने पहले ही कांस्टेबल के पद से रिटायर हुए थे. दीपक की शादी पिछले साल 26 अप्रैल में तय हुई थी. लेकिन उससे पहले ही उसे गिरफ्तार कर लिया गया. चार्जशीट में दीपक खजूरिया को लेकर ऐसी कई बातें लिखी हैं, जिसे पढ़कर किसी भी आम इंसान की रूह कांप जाए.

दीपक खजूरिया ने बच्ची को बेहोश करने के लिए इपिट्रिल की 10 गोलियां खरीदीं
दीपक खजूरिया ने बच्ची को बेहोश करने के लिए इपिट्रिल की 10 गोलियां खरीदी थी

इस मामले में चौथा आरोपी सुरिंदर कुमार है. सुरिंदर हीरानगर पुलिस स्टेशन में तैनात था. सुरिंदर कुमार ही वो शख्स है जो पीड़िता की माता-पिता के साथ बच्ची की तलाश के लिए जंगल में गया था. सुरिंदर को सबूत मिटाने के लिए 5 साल की सज़ा सुनाई गई है.

कोर्ट ने बाकी 3 लोगों को सबूत मिटाने के जुर्म में 5 साल की सज़ा सुनाई. आनंद दत्ता (बाएं), सुरेंदर वर्मा (बीच में), तिलक राज (दाएं) फोटो पीटीआई
कोर्ट ने 3 लोगों को सबूत मिटाने के जुर्म में 5 साल की सज़ा सुनाई. आनंद (बाएं), सुरेंदर (बीच में), तिलक राज (दाएं). फोटो पीटीआई

कठुआ मामले में पांचवें आरोपी का नाम तिलक राज है. जिस वक्त ये घटना हुई वो हीरानगर पुलिस स्टेशन में तैनात था. वो दीपक खजुरिया के पड़ोस में ही रहता था. सबूतों को नष्ट करने के आरोप में कोर्ट ने पांच साल की सजा सुनाई है. वहीं इस मामले में छठा दोषी आनंद दत्ता को भी कोर्ट की तरफ से 5 साल की सज़ा  मिली है. कोर्ट ने उसे सबूत मिटाने के आरोप में दोषी पाया है.


 

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अब केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने लगवाया नारा, "देश के गद्दारों को, गोली मारो *लों को"

क्या केन्द्रीय मंत्री ऐसे बयान दे सकता है?

माओवादियों ने डराया तो गांववालों ने पत्थर और तीर चलाकर माओवादी को ही मार डाला

और बदले में जलाए गए गांववालों के घर

बंगले की दीवार लांघकर पी. चिदम्बरम को गिरफ्तार किया, अब राष्ट्रपति मेडल मिला

CBI के 28 अधिकारियों को राष्ट्रपति पुलिस मेडल दिया गया.

झारखंड के लोहरदगा में मार्च निकल रहा था, जबरदस्त बवाल हुआ, इसका CAA कनेक्शन भी है

एक महीने में दूसरी बार झारखंड में ऐसा बवाल हुआ है.

BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय लोगों को पोहा खाते देख उनकी नागरिकता जान लेते हैं!

विजयवर्गीय ने कहा- देश में अवैध रूप से रह रहे लोग सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा हैं.

CAA-NRC, अयोध्या और जम्मू-कश्मीर पर नेशन का मूड क्या है?

आज लोकसभा चुनाव हुए तो क्या होगा मोदी सरकार का हाल?

JNU हिंसा केस में दिल्ली पुलिस की बड़ी गड़बड़ी सामने आई है

RTI से सामने आई ये बात.

CAA पर सुप्रीम कोर्ट में लगी 140 से ज्यादा याचिकाओं पर बड़ा फैसला आ गया

असम में NRC पर अब अलग से बात होगी.

दिल्ली चुनाव में BJP से गठबंधन पर JDU प्रवक्ता ने CM नीतीश को पुरानी बातें याद दिला दीं

चिट्ठी लिखी, जो अब वायरल हो रही है.

CAA और कश्मीर पर बोलने वाले मलयेशियाई PM अब खुद को छोटा क्यों बता रहे हैं?

हाल में भारत और मलयेशिया के बीच रिश्तों में खटास बढ़ती गई है.