Submit your post

Follow Us

'कबीर सिंह' की स्क्रीनिंग रोकने के लिए डॉक्टर स्वास्थ्य और सूचना-प्रसारण मंत्रालय तक पहुंच गए

शाहिद कपूर स्टारर ‘कबीर सिंह’ सिनेमाघरों में दबाकर चल रही है. इस फिल्म को अधिकतर क्रिटिक्स ने स्त्रीविरोधी और समाज को गलत संदेश देने वाली फिल्म बताकर अंगूठा दिखा दिया था. सोशल मीडिया पर महिलाओं का भी गुस्सा इस फिल्म को लेकर नज़र आ रहा है. अब इस फिल्म के प्रति डॉक्टर्स भी अपना गुस्सा ज़ाहिर कर रहे हैं. एक डॉक्टर ने तो फिल्म की स्क्रीनिंग रुकवाने के लिए पुलिस कंप्लेंट करने के साथ मंत्रालयों से भी इस मामले में संज्ञान लेने की बात कह दी है.

जिस डॉक्टर ने इस फिल्म के खिलाफ पुलिस केस किया है, वो मुंबई से हैं. उनका मानना है कि ये फिल्म पूरी डॉक्टर बिरादरी को गलत तरीके से दिखाती है. इसलिए इसकी स्क्रीनिंग तत्काल प्रभाव से रोक दी जानी चाहिए. इस मामले में डॉक्टर साहब पुलिस के साथ-साथ सेंसर बोर्ड (सीबीएफसी), स्वास्थ्य मंत्रालय, राज्य स्वास्थ्य मंत्रालय और सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय को भी ले आए हैं. उन्होंने कंप्लेंट के साथ फिल्म के खिलाफ एक लेटर लिखकर इन मंत्रालयों से इसकी स्क्रीनिंग रोकने की गुज़ारिश की है.

उनकी शिकायत का बेस ये है कि शाहिद फिल्म में एक सर्जन बने हैं. और इस सर्जन यानी कबीर सिंह ने अपनी अधिकतर सर्जरी ड्रग्स, गांजे या शराब के नशे में की है. उन लोगों का मानना है कि डॉक्टरों को ऐसे दिखाने से उनकी इस पूरे प्रोफेशन की इमेज बिगड़ जाएगी और पब्लिक का भरोसा उनसे खत्म हो जाएगा.

फिल्म के एक सीन में नशे में ऑपरेशन करता कबीर सिंह.
फिल्म के एक सीन में नशे में ऑपरेशन करता कबीर सिंह. दाएं से दूसरे.

इसके अलावा सेंसर बोर्ड की मेंबर वाणी त्रिपाठी टिकू ने भी अपने सोशल मीडिया हैंडल पर फिल्म को खूब सुनाया. वाणी ने इसे घोर स्त्रीविरोधी और हिंसक फिल्म बताया. साथ ही उन्होंने लिखा कि वो इस बात से हैरान हैं कि ये काफी पसंद की जा रही है. इतना कहना था कि ‘कबीर सिंह’ के फैंस उन पर टूट पड़े. सेंसर बोर्ड में थीं, तो कांट-छांट क्यों नहीं की? ‘वीरे दी वेडिंग’ के टाइम आपकी समझ कहां गई थी? जैसे तमाम सवाल उनके पूछे जाने लगे. इसके बाद वाणी को आकर बताना पड़ा कि ये फिल्म उनके काम के स्तर पर ठीक लेकिन नैतिक रूप से गलत है. इसके बाद जनता रेगुलर लाइन ‘फिल्म ही तो है’ पे उतर आई. वाणी का ट्वीट आप नीचे देख सकते हैं:

Vani tripathi tikoo

एक के बाद एक आ रही मुसीबतों का ‘कबीर सिंह’ के बॉक्स ऑफिस परफॉर्मेंस पर कोई असर नहीं पड़ा रहा. 20.21 करोड़ रुपए की ओपनिंग पाने वाली इस फिल्म ने मंगलवार तक 104.90 करोड़ रुपए की कमाई कर ली थी. साथ ही इस साल ‘भारत’ (4 दिन) के बाद सबसे कम समय (5 दिन) में 100 करोड़ का आंकड़ा छूने वाली फिल्म भी बन गई. कुल मिलाकर बात ये है कि शाहिद कपूर के अच्छे दिन आ गए. आ रही खबरों के मुताबिक शाहिद एक और तेलुगू फिल्म के रीमेक में नज़र आ सकते हैं. उस फिल्म को करण जौहर बनाने जा रहे हैं.


वीडियो देखें: कबीर सिंह- क्यों बहुत खटकती है शाहिद कपूर की ये फिल्म?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

क्या औरतों के ऑर्गैज़म पर तेजस्वी सूर्या का पुराना ट्वीट अरब देशों से हमारे संबंध ख़राब कर देगा?

अरब महिलाओं को लेकर पांच साल पहले ट्वीट किया था.

महाराष्ट्र के पालघर जिले में दो साधुओं सहित तीन की पीट-पीटकर हत्या, 110 आरोपी अरेस्ट

पालघर मॉब लिंचिग का वीडियो वायरल होने के बाद हुई कार्रवाई.

ऑनलाइन शॉपिंग: 20 अप्रैल की बाद वाली छूट से बाहर हो गईं ये चीजें

ई-कॉमर्स साइट्स ने तो तैयारी भी कर ली थी.

जो रैपिड टेस्ट किट छत्तीसगढ़ ने सस्ते में मंगाई, उसी किट के लिए अन्य राज्य दोगुनी कीमत क्यों दे रहे हैं?

रैपिड टेस्ट किट की कीमत पर सवाल उठ रहे हैं.

3 मई के बाद से ट्रेन और फ्लाइट शुरू होने की कितनी उम्मीद है?

जनता कर्फ्यू से ही धीरे-धीरे पब्लिक ट्रांसपोर्ट बंद होने लगे थे.

गुजरात को मिली पहली प्लाज्मा डोनर, कोरोना से ठीक हुई स्मृति ठक्कर ने डोनेट किया प्लाज्मा

एक व्यक्ति के प्लाज़्मा से कम से कम दो और अधिकतम पांच लोगों का इलाज किया जा सकता है.

इंदौर में फिर मेडिकल टीम पर हमला, पुलिस बोली गलतफहमी में हुआ अटैक

बीच-बचाव करने आए व्यक्ति को लगा चाकू.

लॉकडाउन के बीच मज़दूरों का क्या होगा, सीएम उद्धव ठाकरे ने फैसला कर दिया है

एक लाख तीस हज़ार गन्ना मज़दूरों का सवाल है.

पाकिस्तान में तबलीग़ी जमात के फैसलाबाद चीफ की कोरोना से मौत

पाकिस्तान में कोरोना वायरस के सात हज़ार से ज़्यादा केस आ चुके हैं.

लॉकडाउन के बीच इस कंपनी ने 600 लोगों को नौकरी से निकाल दिया?

स्थानीय विधायक ने मामले की शिकायत कर्नाटक सरकार और केंद्र सरकार से की है.