Submit your post

Follow Us

'कबीर सिंह' की स्क्रीनिंग रोकने के लिए डॉक्टर स्वास्थ्य और सूचना-प्रसारण मंत्रालय तक पहुंच गए

18
शेयर्स

शाहिद कपूर स्टारर ‘कबीर सिंह’ सिनेमाघरों में दबाकर चल रही है. इस फिल्म को अधिकतर क्रिटिक्स ने स्त्रीविरोधी और समाज को गलत संदेश देने वाली फिल्म बताकर अंगूठा दिखा दिया था. सोशल मीडिया पर महिलाओं का भी गुस्सा इस फिल्म को लेकर नज़र आ रहा है. अब इस फिल्म के प्रति डॉक्टर्स भी अपना गुस्सा ज़ाहिर कर रहे हैं. एक डॉक्टर ने तो फिल्म की स्क्रीनिंग रुकवाने के लिए पुलिस कंप्लेंट करने के साथ मंत्रालयों से भी इस मामले में संज्ञान लेने की बात कह दी है.

जिस डॉक्टर ने इस फिल्म के खिलाफ पुलिस केस किया है, वो मुंबई से हैं. उनका मानना है कि ये फिल्म पूरी डॉक्टर बिरादरी को गलत तरीके से दिखाती है. इसलिए इसकी स्क्रीनिंग तत्काल प्रभाव से रोक दी जानी चाहिए. इस मामले में डॉक्टर साहब पुलिस के साथ-साथ सेंसर बोर्ड (सीबीएफसी), स्वास्थ्य मंत्रालय, राज्य स्वास्थ्य मंत्रालय और सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय को भी ले आए हैं. उन्होंने कंप्लेंट के साथ फिल्म के खिलाफ एक लेटर लिखकर इन मंत्रालयों से इसकी स्क्रीनिंग रोकने की गुज़ारिश की है.

उनकी शिकायत का बेस ये है कि शाहिद फिल्म में एक सर्जन बने हैं. और इस सर्जन यानी कबीर सिंह ने अपनी अधिकतर सर्जरी ड्रग्स, गांजे या शराब के नशे में की है. उन लोगों का मानना है कि डॉक्टरों को ऐसे दिखाने से उनकी इस पूरे प्रोफेशन की इमेज बिगड़ जाएगी और पब्लिक का भरोसा उनसे खत्म हो जाएगा.

फिल्म के एक सीन में नशे में ऑपरेशन करता कबीर सिंह.
फिल्म के एक सीन में नशे में ऑपरेशन करता कबीर सिंह. दाएं से दूसरे.

इसके अलावा सेंसर बोर्ड की मेंबर वाणी त्रिपाठी टिकू ने भी अपने सोशल मीडिया हैंडल पर फिल्म को खूब सुनाया. वाणी ने इसे घोर स्त्रीविरोधी और हिंसक फिल्म बताया. साथ ही उन्होंने लिखा कि वो इस बात से हैरान हैं कि ये काफी पसंद की जा रही है. इतना कहना था कि ‘कबीर सिंह’ के फैंस उन पर टूट पड़े. सेंसर बोर्ड में थीं, तो कांट-छांट क्यों नहीं की? ‘वीरे दी वेडिंग’ के टाइम आपकी समझ कहां गई थी? जैसे तमाम सवाल उनके पूछे जाने लगे. इसके बाद वाणी को आकर बताना पड़ा कि ये फिल्म उनके काम के स्तर पर ठीक लेकिन नैतिक रूप से गलत है. इसके बाद जनता रेगुलर लाइन ‘फिल्म ही तो है’ पे उतर आई. वाणी का ट्वीट आप नीचे देख सकते हैं:

Vani tripathi tikoo

एक के बाद एक आ रही मुसीबतों का ‘कबीर सिंह’ के बॉक्स ऑफिस परफॉर्मेंस पर कोई असर नहीं पड़ा रहा. 20.21 करोड़ रुपए की ओपनिंग पाने वाली इस फिल्म ने मंगलवार तक 104.90 करोड़ रुपए की कमाई कर ली थी. साथ ही इस साल ‘भारत’ (4 दिन) के बाद सबसे कम समय (5 दिन) में 100 करोड़ का आंकड़ा छूने वाली फिल्म भी बन गई. कुल मिलाकर बात ये है कि शाहिद कपूर के अच्छे दिन आ गए. आ रही खबरों के मुताबिक शाहिद एक और तेलुगू फिल्म के रीमेक में नज़र आ सकते हैं. उस फिल्म को करण जौहर बनाने जा रहे हैं.


वीडियो देखें: कबीर सिंह- क्यों बहुत खटकती है शाहिद कपूर की ये फिल्म?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Kabir Singh: Doctor files police complaint to stop the screening of this Shahid Kapoor Kiara Advani film

टॉप खबर

मायावती ने गठबंधन क्या तोड़ा, खुद की लुटिया ही डुबो ली है

गठबंधन तोड़कर अखिलेश और माया चवन्नी भर सीटें भी नहीं जीत रहे हैं.

खट्टर सरकार रेपिस्ट बाबा की जेल से छुट्टी का समर्थन कर रही, लेकिन जानिए ऐसा होना संभव क्यूं नहीं

जेल से छुट्टी क्यों चाह रहा है बलात्कारी बाबा राम रहीम?

चमकी बुखार में जिनके बच्चे मरे, उन्होंने विरोध किया तो केस दर्ज हो गया

बिहार में एक दो नहीं पूरे 39 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है.

चमकी बुखार से पीड़ित परिवार से मिलने गए सांसद-विधायक को लोगों ने बंधक बना लिया

उधर सुप्रीम कोर्ट ने राज्य और केंद्र सरकार को नोटिस भेज दिया है.

जिन SP अजय पाल शर्मा को हीरो बताया जा रहा, उन्होंने "रेपिस्ट" पर गोली चलाई ही नहीं

न वो मौके पर थे, न रेप की वजह से गोली चली और न ही "रेपिस्ट" की मौत हुई.

पंजाब में गुरु ग्रंथ की बेअदबी के आरोपी और डेरा सच्चा सौदा के अनुयायी मोहिंदर की जेल में हत्या

जानिए क्या है पूरा मामला जिसके चलते पूरे पंजाब में अफवाहों और कानाफूसियों का माहौल है और सीएम ने भी लोगों से शांति बनाए रखने की रिक्वेस्ट की है.

मज़दूर के बेटे ने तीरंदाज़ी में भारत को सिल्वर मेडल दिला डाला

गरीब बस्ती में पले बढ़े इस लड़के ने भारत का नाम रोशन कर दिया.

क्या सन्नी देओल से छिन जाएगी उनकी सांसदी?

वजह चुनाव आयोग का एक नियम है.

CM नीतीश कुमार अस्पताल में थे, बच्चे की मौत हो गई

चमकी कहें या इंसेफेलाइटिस, अब तक 129 बच्चों की मौत हो चुकी है.

मनमोहन सिंह को राज्य सभा में भेजने के लिए कांग्रेस ये तिगड़म भिड़ा रही है

अपना एक मात्र चुनाव हारने वाले मनमोहन सिंह पिछले 28 साल में पहली बार संसद के सदस्य नहीं होंगे.