Submit your post

Follow Us

म्यांमार में खदान में लैंडस्लाइड, 110 से ज्यादा लोगों की मौत

म्यांमार. यहां भारी बारिश के कारण गुरुवार, 2 जुलाई की सुबह लैंडस्लाइड हुआ. इस हादस में 113 मजदूरों की मौत हो गई. मौत का ये आंकड़ा बढ़ सकता है, क्योंकि कई अन्य मजदूर मलबे में दबे हैं. म्यांमार फायर ब्रिगेड ने जानकारी दी है कि अब तक 113 शवों को मलबे से निकाला गया है, जबकि अन्य की तलाश जारी है. हादसा म्यांमार के काचिन प्रांत में हुआ.

एक स्थानीय अधिकारी टार लिन माउंग ने कहा कि उन्होंने 100 से अधिक शव बरामद किए हैं. कई शव कीचड़ में फंसे हुए हैं. मृतकों की संख्या बढ़ सकती है. इस इलाके में पिछले एक हफ्ते से भारी बारिश हो रही है, इससे बचाव कार्य में भी परेशानी हो रही है.

परिवारों को मुआवजा मिलने की उम्मीद नहीं है क्योंकि वे फ्रीलांस माइनर्स थे. फोटो-एपी
परिवारों को मुआवजा मिलने की उम्मीद नहीं है, क्योंकि वे फ्रीलांस माइनर्स थे. फोटो-एपी

म्यांमार फायर सर्विसेज डिपार्टमेंट ने फेसबुक पोस्ट में कहा कि काचिन राज्य के जेड-समृद्ध हापकांत क्षेत्र में मजदूर स्टोन जमा कर रहे थे.  खदान खिसकने के कारण हुए भूस्खलन से खनिकों की मौत हो गई. बचाव टीम का कहना है कि कीचड़ का एक बड़ा सैलाब लहर की तरह आया और उसके नीचे स्टोन इकट्ठा कर रहे लोग दब गए.

मौके पर मौजूद 38 साल के मून खैंग ने कहा कि उन्होंने कचरे के ढेर को देखा, जो ढहने की कगार पर था. जब वह एक तस्वीर लेने ही वाले थे, तब लोग भागने के लिए चिल्लाने लगे. उन्होंने बताया कि एक मिनट के भीतर सब लोग उसके नीचे आ गए. वहां कीचड़ में फंसे लोग मदद के लिए चिल्ला रहे थे, लेकिन कोई उनकी मदद नहीं कर पा रहा था.

Untitled Design
बचाव टीम का कहना है कि कीचड़ का एक बड़ा सैलाब लहर की तरह आया और उसके नीचे स्टोन इकट्ठा कर रहे लोग दब गए. फोटो-एपी

लोकल सिविल सोसायटी ग्रुप, जो हादसे के बाद मदद कर रहा है, उसके सदस्य थान हिलिंग ने कहा कि परिवारों को मुआवजा मिलने की उम्मीद नहीं है, क्योंकि वे फ्रीलांस माइनर्स थे. इस तरह के हादसे से बचने के लिए उन्हें कोई रास्ता नहीं दिख रहा है. लोग जोखिम उठाते हैं, लैंडफिल में जाते हैं, क्योंकि उनके पास कोई विकल्प नहीं है.

हापकांत में इस तरह खराब तरीके से हैंडल की जाने वाली खदानों में लैंडस्लाइड आम बात है. पीड़ित बहुत गरीब परिवारों से होते हैं, जो अपनी जाम जोखिम में डालकर इस तरह के काम करते हैं. म्यांमार में एक साल पहले भी इसी तरह का हादसा हुआ था. इसमें 59 लोगों की जान चली गई थी. आंग सान सू की ने 2016 में सत्ता में आने के बाद इस तरह की इंडस्ट्री की सफाई की बात की थी, लेकिन एक्टिविस्ट का कहना है कि जो बदलाव हुआ है, वो न के बराबर है.


 

Video: कोई सबूत न छोड़ने वाला कुख्यात रेपिस्ट सीरियल किलर 40 साल बाद कैसे पकड़ा गया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

इस साल के आख़िर तक मिलने लगेगी कोरोना की 'मेड इन इंडिया' वैक्सीन!

भारत बायोटेक के अधिकारी ने क्या बताया?

'कोरोनिल' पर पतंजलि के आचार्य बालकृष्ण पूरी तरह यू-टर्न मार गए!

पतंजलि का दावा था कि 'कोरोनिल' दवा कोरोना वायरस ठीक करने में कारगर होगी.

चीन के ऐप तो बैन हो गए, पर उन भारतीयों का क्या जो इनमें काम करते हैं

चीनी ऐप के कर्मचारियों में घबराहट है.

चीनी ऐप पर बैन के बाद चीन ने भारत के बारे में क्या बयान दिया है?

भारत को कैसी जिम्मेदारी याद दिलाई चीन ने?

लगभग 16 मिनट के राष्ट्र के नाम संदेश में नरेंद्र मोदी ने क्या काम की बात की?

संदेश का सार यहां पढ़िए.

भारत सरकार के चाइनीज़ ऐप बंद करने के स्टेप पर TikTok ने चिट्ठी में क्या लिखा?

अपने यूज़र्स के बारे में भी कुछ कहा है.

PM CARES के तहत बने देसी वेंटिलेटर इस हाल में मिले कि लौटाने की नौबत आ गई

और ख़राब वेंटिलेटर बनाने वालों ने क्या सफ़ाई दी?

भारत में चीन के 59 मोबाइल ऐप बैन, टिकटॉक, यूसी, वीचैट भी लपेटे में

कहा कि देश की सुरक्षा की ख़ातिर इन्हें बैन किया जा रहा है.

गैंगस्टर आनंदपाल एनकाउंटर के बाद हुई हिंसा के लिए CBI ने चार्जशीट में किस-किस का नाम जोड़ा है?

एनकाउंटर की सीबीआई जांच की मांग को लेकर हिंसा हुई थी.

क्या अरुणाचल में चीन भारतीय सीमा में 50 किलोमीटर तक घुस गया है?

बीजेपी सांसद ने यह दावा किया है.