Submit your post

Follow Us

इंडियन फास्ट बोलर्स के ये आंकड़े देखेंगे, तो गर्व से छाती चौड़ी हो जाएगी

भारतीय क्रिकेट और इसके फैंस ने काफी कुछ देखा है. साल 1932 में टेस्ट क्रिकेट का दर्जा पाने वाले भारत ने अपनी पहली जीत 1952 में दर्ज की थी. लगभग 20 साल तक पहली टेस्ट जीत का इंतजार करने से लेकर लगातार 7 टेस्ट जीतने तक काफी कुछ बदल चुका है. अपने पहले 50 साल में सिर्फ 35 मैच जीतने वाली टीम इंडिया पिछले 10 साल में 56 टेस्ट जीत चुकी है.

इस विनिंग मेंटैलिटी के साथ टीम में एक और बात बदली है. एक दौर था जब भारतीय क्रिकेट टीम में तेज गेंदबाज सिर्फ बॉल को पुरानी करने के लिए रखे जाते थे. जहीर खान के युग से पहले तक कभी ऐसा नहीं हुआ जब हमारे पास दो वर्ल्ड क्लास पेसर्स एक साथ रहे हों. अब आप जवागल श्रीनाथ और वेंकटेश प्रसाद की जोड़ी को याद कर रहे होंगे लेकिन यार वो इतना लंबा वक्त नहीं था.

# आ गया वह दौर भी

एक वो दौर था, एक आज का दौर है जब इंडियन टीम के पास इतने पेसर्स हैं कि उन्हें मौका दे पाना मुश्किल हुआ जा रहा है. भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह जैसे बोलर बैठे हैं लेकिन इसका टीम पर कोई फर्क नहीं पड़ा है. टीम अब भी कमाल का प्रदर्शन किए जा रही है.

मोहम्मद शमी, उमेश यादव और ईशांत शर्मा की तिकड़ी गज़ब की फॉर्म में है. बीते संडे को ईडन गार्डन्स में खत्म हुए भारत के पहले पिंक बॉल टेस्ट में इन तीनों ने मिलकर बांग्लादेश को सिर्फ 71.4 ओवर्स में समेट दिया. और हां, इन ओवर्स में दोनों पारियां सिमटीं, एक नहीं. इस मैच में बांग्लादेश के 19 विकेट्स गिरे और यह 19 के 19 भारतीय पेस बोलर्स ने लिए. ईशांत ने जहां 9 वहीं, उमेश ने 8 विकेट निकाले, बचे हुए 2 विकेट्स शमी को मिले.

इस साल इंडियन पेसर्स का स्ट्राइक रेट 31 का रहा है. इस कैलेंडर साल में यह सारी टीमों में बेस्ट है. यह किसी भी कैलेंडर साल में भारत के टेस्ट इतिहास का बेस्ट पेस बोलिंग स्ट्राइक रेट है. इतना ही नहीं दूसरे नंबर पर मौजूद ऑस्ट्रेलियन पेसर्स का स्ट्राइक रेट 46.6 है. साफ दिख रहा है कि भारतीय पेसर्स इस मामले में कितना आगे हैं.

ये आंकड़े दिखाते हैं कि मौजूदा भारतीय पेस अटैक पूरी दुनिया में बेस्ट है. और अब वह वक्त आ गया है जब हम स्पिनर्स नहीं ‘बोलर्स’ पर भरोसा कर सकते हैं.


ईडन गार्डन में फैन्स का रिएक्शन देख सचिन तेंदुलकर चुप हो गए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अब केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने लगवाया नारा, "देश के गद्दारों को, गोली मारो *लों को"

क्या केन्द्रीय मंत्री ऐसे बयान दे सकता है?

माओवादियों ने डराया तो गांववालों ने पत्थर और तीर चलाकर माओवादी को ही मार डाला

और बदले में जलाए गए गांववालों के घर

बंगले की दीवार लांघकर पी. चिदम्बरम को गिरफ्तार किया, अब राष्ट्रपति मेडल मिला

CBI के 28 अधिकारियों को राष्ट्रपति पुलिस मेडल दिया गया.

झारखंड के लोहरदगा में मार्च निकल रहा था, जबरदस्त बवाल हुआ, इसका CAA कनेक्शन भी है

एक महीने में दूसरी बार झारखंड में ऐसा बवाल हुआ है.

BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय लोगों को पोहा खाते देख उनकी नागरिकता जान लेते हैं!

विजयवर्गीय ने कहा- देश में अवैध रूप से रह रहे लोग सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा हैं.

CAA-NRC, अयोध्या और जम्मू-कश्मीर पर नेशन का मूड क्या है?

आज लोकसभा चुनाव हुए तो क्या होगा मोदी सरकार का हाल?

JNU हिंसा केस में दिल्ली पुलिस की बड़ी गड़बड़ी सामने आई है

RTI से सामने आई ये बात.

CAA पर सुप्रीम कोर्ट में लगी 140 से ज्यादा याचिकाओं पर बड़ा फैसला आ गया

असम में NRC पर अब अलग से बात होगी.

दिल्ली चुनाव में BJP से गठबंधन पर JDU प्रवक्ता ने CM नीतीश को पुरानी बातें याद दिला दीं

चिट्ठी लिखी, जो अब वायरल हो रही है.

CAA और कश्मीर पर बोलने वाले मलयेशियाई PM अब खुद को छोटा क्यों बता रहे हैं?

हाल में भारत और मलयेशिया के बीच रिश्तों में खटास बढ़ती गई है.