Submit your post

Follow Us

पाकिस्तान के किस बयान में इंडिया ने एक के बाद एक पांच झूठ पकड़ लिए हैं?

एक बयान को लेकर भारत और पाकिस्तान आमने-सामने हैं. UN में पाकिस्तान के बयान और उसके बाद भारत के जवाब की बात. भारत का जवाब समझ आए, इसीलिए ज़रूरी है कि आप जानें कि पाकिस्तान ने अपने बयान में क्या कहा.

ये बयान UN में पाकिस्तान के मिशन की वेबसाइट पर जारी किया गया. इसे मिशन के आधिकारिक हैंडल से ट्वीट भी किया गया. इसका शीर्षक है- ”Statement by Ambassador Munir Akram, Permanent Representative of Pakistan to the United Nations, at the Open Debate of the Security Council on the Report of the Secretary-General on the Threats to International Peace and Security posed by Terrorism Actions’’

आतंकवाद के चलते अंतराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा को खतरे पर सेक्रेटरी जनरल की एक रिपोर्ट आई. 24 अगस्त, 2020 को इस रिपोर्ट पर सुरक्षा परिषद में खुली बहस हुई. वेबसाइट देखने पर यही लगता है कि बयान इस बहस के दौरान एम्बेसडर मुनीर अकरम ने दिया. अकरम UN में पाकिस्तान के स्थायी प्रतिनिधि हैं. बयान की शुरुआत में भी Mr President, माने अध्यक्ष महोदय लिखा हुआ है. लेकिन सच ये है कि पाकिस्तान को 24 अगस्त को हुई सुरक्षा परिषद की ऑनलाइन बैठक में आमंत्रित ही नहीं किया गया था. एम्बेसडर मुनीर का बयान सीधे वेबसाइट पर अपलोड किया गया था. समझदारी इसमें होती कि मुनीर एक लाइन में ये भी लिखते कि ये मिशन द्वारा जारी किया गया बयान है, न कि बहस के दौरान पढ़ा गया बयान.

UN में भारत के मिशन ने इस तरफ ध्यान दिलाया है. मिशन ने ट्वीट किया,

सुरक्षा परिषद में पांच स्थायी और 10 अस्थायी सदस्य होते हैं. एक साधारण गूगल सर्च आपको बताएगा कि पाकिस्तान फिलहाल सुरक्षा परिषद में कहीं नहीं है. तो जो सदस्य है ही नहीं, वो सिर्फ सदस्यों वाली मीटिंग में जाता तो कैसे?

अब आते हैं बयान में किए गए दावों पर-

“हम सीमापार के आतंकवाद से दशकों से प्रभावित है. इस वजह से हमारे 70 हज़ार से ज़्यादा लोग मारे जा चुके हैं. और अर्थव्यवस्था को हज़ारों करोड़ का नुक़सान हो चुका है.”

पाकिस्तान ने ये भी दावा किया है कि उसने अपनी सीमाओं के भीतर आतंकवाद को ख़त्म किया है. अल-क़ायदा को भी ख़त्म किया है. कहा है कि अन्तरराष्ट्रीय सहयोग से वो दूसरे आतंकी संगठनों को भी ख़त्म करने के लिए तत्पर है.

इसके बाद पाकिस्तान ने चार क़िस्म के आतंकी सेटअप का ज़िक्र किया है, जिससे उसकी लड़ाई जारी है.

पहला : तहरीक़-ए-तालिबान और जमात-उल-अहरार

अपने देश में इन दो संगठनों की गतिविधियों के लिए पाकिस्तान ने भारत को दोषी ठहराया. कहा कि अंगारा अप्पाजी, गोबिंदा पटनायक, अजोय मिस्त्री और वेणुमाधव डोंगरा उस ग्रुप के सदस्य हैं, जिनकी मदद से पाकिस्तान में ये दोनों संगठन ऑपरेट कर रहे हैं. पाकिस्तान ने कहा कि 1267 की सैंक्शन लिस्ट के लिए  पाकिस्तान द्वारा UN को इन आतंकियों का नाम दिया जा चुका है. 1267 सैंक्शन लिस्ट बनी थी सुरक्षा परिषद के संकल्प नंबर 1267 से. ये संकल्प 1999 में पारित हुआ था. इस लिस्ट में शामिल लोगों की संपत्ति सरकारें जब्त करती हैं. अकाउंट फ्रीज़ हो जाता है. आने-जाने पर पाबंदी लग जाती है. देश इन्हें हथियार भी नहीं बेच सकते.

दूसरा : भारत के किराये के आतंकी

पाकिस्तान ने कहा है कि भारत ने किराये के आतंकियों के गुटों को पश्चिमी सीमा पर बिठा रखा है, जो हम पर हमला करके पश्चिमी और दक्षिणी पाकिस्तान की शांति भंग कर रहे हैं. पाकिस्तान स्टॉक एक्सचेंज और कराची में चीनी दूतावास के पीछे पाकिस्तान ने इन्हीं गुटों का हाथ होना बताया. कहा कि क़ैद में लिए गए कूलभूषण जाधव ने भी ऐसे गुटों के संचालन की बात स्वीकार की थी.

तीसरा : भाजपा और आरएसएस

पाकिस्तान ने कहा है कि भारत में शासन कर रहे बीजेपी और आरएसएस भारत को एक हिंदू राष्ट्र बनाने की जुगत में लगे हुए हैं. यहां अल्पसंख्यकों को या तो हिंदू धर्म में कन्वर्ट कर दिया जाता है, अन्यथा सेकंड क्लास नागरिक या तो बिना देश के व्यक्ति में बदल दिया जाता है. पाकिस्तान ने कहा है कि बीजेपी और आरएसएस ने ऐसा करने के लिए असम के 20 लाख ईसाइयों और मुस्लिमों से उनकी भारतीय नागरिकता छीन ली. उन्होंने 1992 में बाबरी मस्जिद गिरा दी, और अब वहां हिन्दुओं का एक मंदिर बना रहे हैं. शिलापूजन भी नरेंद्र मोदी ने उस दिन किया, जिस दिन जम्मू और कश्मीर का स्वायत्त स्टेटस छीन लिया गया.

चौथा : भारत सरकार

कहा है कि भारत सरकार अवैध रूप से कब्जा किए गए जम्मू और कश्मीर (जैसा पाकिस्तान हमेशा से दावा करता आया है) के दबे-कुचले लोगों के बीच आतंकवाद फैलाने के लिए ज़िम्मेदार है. पाकिस्तान ने ये भी कहा है कि भारत सरकार ने कश्मीर में हज़ारों-लाखों युवाओं और नेताओं को टॉर्चर किया है और एक भी भारतीय सैनिक को सज़ा नहीं हुई है. पाकिस्तान ने यूएन सुरक्षा परिषद के सामने उन्हें सज़ा देने की मांग रखी है.

आख़िर में ये बात भी कि अल-क़ायदा और इस्लामिक स्टेट से तो लड़ना ही होगा, साथ हिंदूवादी चरमपंथ से भी लड़ना होगा.

पाकिस्तान के इस बयान को पंचर करने के लिए UN में भारतीय मिशन ने इसमें पांच झूठ खोज निकाले.

पहला झूठ : पाकिस्तान का ये कहना कि वो दशकों से सीमापार आतंक के निशाने पर है

भारत का जवाब: पाकिस्तान भारत में सीमापार आतंकवाद का सबसे बड़ा स्पॉन्सर है. पाकिस्तान में ही यूएन द्वारा प्रतिबंधित सबसे ज़्यादा आतंकवादी रहते हैं. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने खुद 2019 में UN जनरल असेंबली में कहा था कि पाकिस्तान में 40 -50 हज़ार आतंकवादी हैं. ऐसे में पाकिस्तान भारत द्वारा फैलाए जा रहे कथित आतंकवाद के शिकार में खुद को पेश नहीं कर सकता.

दूसरा झूठ: पाकिस्तान का ये कहना कि उसने अपने इलाके से अलकायदा का निशान मिटा दिया है

भारत का जवाबः शायद पाकिस्तान के स्थायी प्रतिनिधि ये भूल गए कि ओसामा बिन लादेन उन्हीं के देश में छिपा हुआ था. अमेरिकी सेना ने पाकिस्तान में घुसकर उस पर कार्रवाई की थी. शायद उन्होंने अपने प्रधानमंत्री को ओसामा को ”शहीद” बताते हुए भी नहीं सुना.

तीसरा झूठः भारत ने पाकिस्तान को निशाना बनाने के लिए आतंकवादियों को भाड़े पर लिया

भारत का जवाब: सीमापार आतंक फैलाने के लिए कुख्यात पाकिस्तान की तरफ से इस तरह का दावा हास्यास्पद है.

चौथा झूठ: 1267 सैंक्शन लिस्ट में भारतीयों को लेकर पाकिस्तान के दावे

भारत का जवाबः 1267 सैंक्शन लिस्ट सार्वजनिक है. इसे कोई भी देख सकता है. इसमें कोई भारतीय नहीं है. 1267 कमेटी सबूतों के आधार पर फैसला लेती है, न कि इधर-उधर से आने वाले आरोपों पर.

पांचवां झूठः भारत के आंतरिक मामलों पर पाकिस्तान की टिप्पणी

भारत का जवाबः पाकिस्तान एक ऐसा देश है, जहां 1947 के बाद से अल्पसंख्यकों की संख्या तेज़ी से गिरी है. अल्पसंख्यक अब वहां की आबादी का सिर्फ तीन फीसदी हैं. इसे ही सिस्टेमिक क्लेन्ज़िंग कहते हैं. माने संस्थागत रूप से एक समुदाय को खत्म करना. जम्मू-कश्मीर को लेकर पाकिस्तान के दावे झूठे हैं. वहां भारत के कदम लोगों की भलाई के लिए हैं.

तो ये थे पाकिस्तान के थोथे दावे, जिनमें भारत कथित तौर पर आतंकवाद को बढ़ावा दे रहा है, और उसके बाद भारत का मिथबस्टर स्वरूप, जिसमें भारत आरोपों को झूठा तो क़रार दे ही रहा है, साथ ही पाकिस्तान को गिरेबां में झांकने की नसीहत भी दे रहा है.


लल्लनटॉप वीडियो : पाकिस्तान ने आतंकियों की लिस्ट में दाऊद इब्राहिम को रखकर खुद ही सच बता दिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

NEET पर सुप्रीम कोर्ट ने अब क्या आदेश दिया है?

विदेश में रह रहे छात्रों के माता-पिता ने सुप्रीम कोर्ट में की थी अपील.

ट्विटर पर भिड़े सलमान और शाहरुख के फैंस, फिर अमाल मलिक क्यों ट्रेंड होने लगे!

अमाल मलिक ने 'जय हो' फिल्म से इंडस्ट्री में डेब्यू किया था.

पुलवामा हमलाः NIA ने जिन तीन पाकिस्तानियों को आरोपी बनाया है, वो कौन हैं

आत्मघाती हमले में CRPF के 40 जवानों की मौत हो गई थी.

अब डिजिटल तराजू में चिप लगाकर दुकानदार कर रहे हैं फर्जीवाड़ा, पुलिस ने पूरी फैक्ट्री पकड़ ली

यूपी STF ने एक गैंग का पर्दाफ़ाश किया है.

कोरोना के कारण ड्राइविंग लाइसेंस रिन्यू नहीं करवा पा रहे? सरकार ने आपकी दिक्कत दूर कर दी

इस साल अब ज़रूरी दस्तावेज़ रिन्यू कराने के लिए भटकना नहीं पड़ेगा.

कौन है ये हीर खान, जो हिंदू देवी-देवताओं को गालियां दे रही है?

सोशल मीडिया पर लोगों का फूटा गुस्सा, गिरफ़्तार करने की मांग तेज हो गई है.

'सड़क 2' के ट्रेलर के साथ हुए सलूक पर प्रकाश झा ने कायदे की बात कही है

प्रकाश झा की वेब सीरीज़ 'आश्रम' 28 तारीख को रिलीज़ होने वाली है.

बिल्डर अब फ्लैट्स की डिलीवरी लेट करने से पहले 10 बार सोचेंगे

बायर्स के हक में सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला आया है.

सैफ अली खान किताब लिखने वाले हैं, वो भी खुद पर

सैफ ने बताया कब रिलीज़ होगी उनकी ऑटोबायोग्राफी.

कानपुर पुलिस लाइन्स के बैरक की छत गिरी, एक कॉन्स्टेबल की दबकर मौत हो गई

दो पुलिसकर्मी बुरी तरह घायल.