Submit your post

Follow Us

बाबा रामदेव ने ऐलोपैथी पर क्या कह दिया कि IMA ने केस दर्ज करने की मांग की है

बाबा रामदेव का एक वीडियो ट्विटर पर काफी शेयर हो रहा है. इस वीडियो में वह इलाज की ऐलोपैथी पद्धति को निशाना बनाते दिख रहे हैं. उनके बयान पर विवाद शुरू हो गया है. डॉक्टरों के संगठन IMA ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बाबा रामदेव से माफी मांगने को कहा है.

क्या है इस वीडियो में

वीडियो में बाबा रामदेव एक मंच पर बैठे दिखते हैं. वह माइक के जरिए दावा करते हुए कहते हैं,

“गजब का तमाशा है, ऐलोपैथी एक ऐसी स्टुपिड और दिवालिया साइंस है कि पहले क्लोरोक्वीन फेल हुई, फिर रेमडेसिविर फेल हो गई, फिर एंटीबायोटिक फेल हो गए, फिर स्टेरॉयड फेल हो गए. फिर प्लाज्मा थेरेपी के ऊपर भी कल बैन लग गया. और बुखार के लिए जो दे रहे हैं फैबिफ्लू, वह भी फेल है. जितनी भी दवाएं दे रहे हैं. ये तमाशा हो क्या रहा है.”

“बुखार की कोई दवाई कोरोना पर काम नहीं कर रही, क्योंकि आप बॉडी का टेंपरेचर उतार देते हैं लेकिन टेंपरेचर जिस कारण से आ रहा है उस वायरस को, उस बैक्टीरिया को, उस फंगस को, जिस कारण से भी बुखार हो रहा है, उसका निवारण तुम्हारे पास में है नहीं. तो कैसे ठीक करोगे. इसलिए मैं बहुत बड़ी बात कह रहा हूं. हो सकता है कि इस पर कुछ लोग विवाद करें. लाखों लोगों की मौत ऐलोपैथी की दवा खाने से हुई है.”

वीडियो में बाबा रामदेव कहते दिखते हैं कि जितने लोगों की मौत हॉस्पिटल ना जाने के कारण से हुई है, ऑक्सीजन ना मिलने के कारण से हुई है. उससे ज्यादा लोगों की मौत ऑक्सीजन के बावजूद हुई है, ऐलोपैथी की दवा मिलने के बावजूद हुई है. स्टेरॉयड के कारण हुई है. लोग समझ नहीं रहे कि करें क्या. इसलिए अभी लाखों लोगों की मौत का कारण ऐलोपैथी है.

“मैं कहता हूं कि ऐलोपैथी पूरी खराब नहीं है. मॉडर्न साइंस का हम स्वागत करते हैं. उससे हमारा विरोध नहीं है लेकिन उसमें इस्तेमाल किए जाने वाले अलग अलग जो मेडिसन्स हैं, जो थ्योरीज हैं, फाइंडिंग्स हैं, झूठी रिसर्च हैं, उनका विरोध है.”

बयान के विरोध में आए डॉक्टर

बाबा रामदेव ने ऐलोपैथी को लेकर जो कुछ भी कहा, उससे तमाम डॉक्टर और डॉक्टरों के संगठन नाराज हो गए हैं. 22 मई को इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने इस मामले पर एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की है. IMA ने अपने बयान में कहा कि अभी तक 1200 से अधिक डॉक्टर कोरोना के कारण अपनी जान गंवा चुके हैं. बाकी सभी, संसाधनों और मैनपावर में कमी के बाद भी इस बीमारी से जूझ रहे हैं. बयान में कहा गया है,

“ये आधुनिक ऐलोपैथी पर कीचड़ उछालने की कोशिश है. योगा गुरू ने कहा है कि ऐलोपैथी स्टुपिड और दिवालिया साइंस है. पहले वो आदरणीय स्वास्थ्य मंत्री की मौजूदगी में डॉक्टर्स को कातिल बोल चुके हैं जहां उन्होंने अपनी वंडर ड्रग पेश की थी. ये भी एक फैक्ट है कि योग गुरु और उनके सहयोगी बालकृष्ण बीमार होने पर खुद आधुनिक मेडिकल ऐलोपैथी ट्रीटमेंट ले चुके हैं. अब वह ऐसे दावे इसलिए कर रहे हैं ताकि अपनी दवाइयों को बेच सकें.”

“DCGI द्वारा अप्रूव की गई रेमडेसिविर, फैबीफ्लू और अन्य दवाइयों को उन्होंने फेल बता दिया और कहा कि लाखों लोगों की मौत ऐलोपैथी की दवाई खाने से हुई है. ये बयान DCGI पर सवाल खड़े करता है जिसके मुखिया हमारे स्वास्थ्य मंत्री हैं. रेमडेसिविर और फैबीफ्लू CDSCO द्वारा भी अप्रूव हैं. बाबा रामदेव के खिलाफ महामारी एक्ट की धारा 188 के तहत कार्रवाई होनी चाहिए. वे एक इंटरनेशनल  योग गुरु हैं और एक दवा कंपनी भी चलाते हैं. वे पहले भी अपनी कंपनी के उत्पादों को लेकर झूठे दावे कर चुके हैं और पब्लिक को गुमराह करने की कोशिश कर चुके हैं.”

IMA ने कहा कि ICMR, AIIMS, DCGG और हेल्थ मिनिस्ट्री की साख पर सवाल उठाना क्या एंटीनेशनल नहीं है? सुप्रीम कोर्ट भी रेमडेसिविर की उपलब्धता को सुनिश्चित करने को कह चुका है, ऐसे में क्या इस बयान को कोर्ट का अनादर नहीं माना जाएगा? रामदेव, हालात का फायदा उठाकर, डर फैलाकर अपनी अवैध और अनअप्रूव दवाएं बेचना चाहते हैं और पैसा बनाना चाहते हैं. अगर हेल्थ मिनिस्टर इस मामले में सुओ-मोटो एक्शन नहीं लेते हैं तब हम कोर्ट जाने के लिए मजबूर होंगे.

‘दी लल्लनटॉप’ ने IMA के अध्यक्ष जयालाल को उनका पक्ष जानने के लिए फोन भी किया. जयालाल ने कहा कि IMA के स्टेटमेंट को ही उनका बयान माना जाए.

IMA से पहले सफदरजंग अस्पताल दिल्ली के रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन ने भी 21 मई को एक प्रेस-नोट जारी किया था जिसमें बाबा रामदेव से बिना शर्त माफी मांगने को कहा गया है.

“रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन, मिस्टर राम किशन यादव उर्फ बाबा रामदेव के दिए पब्लिक स्टेटमेंट की निंदा करती है. उन्होंने खुलेआम ऐलोपैथी की बेइज्जती की और असंसदीय भाषा का इस्तेमाल किया. बाबा रामदेव के इस बयान को हेट स्पीच माना जाए और उन पर एपीडेमिक डिजीज एक्ट 1987 के तहत कार्रवाई की जाए. साथ ही हम रामदेव बाबा ऐलोपैथी और उसके प्रैक्टिशनर से माफी मांगें”


वीडियो- कोरोना में प्राइवेट अस्पताल मनमानी करें तो क्या करें?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

लीड्स टेस्ट शुरू होने से पहले ही कोहली ने इंग्लैंड को ललकार दिया

लीड्स टेस्ट शुरू होने से पहले ही कोहली ने इंग्लैंड को ललकार दिया

'हमें उकसाने की कोशिश मत करना.'

राणे की गलत टिप्पणी से गुस्साए शिवसैनिकों की गुंडागर्दी, BJP नेताओं को टारगेट किया

राणे की गलत टिप्पणी से गुस्साए शिवसैनिकों की गुंडागर्दी, BJP नेताओं को टारगेट किया

राणे को उनकी टिप्पणी के लिए गिरफ्तार किया गया है.

पुलिस वालों के दाढ़ी रखने को लेकर क्या कहता है संविधान का आर्टिकल 25?

पुलिस वालों के दाढ़ी रखने को लेकर क्या कहता है संविधान का आर्टिकल 25?

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एक फैसले में कहा है कि धार्मिक स्वतंत्रता के बावजूद पुलिस बल में रहने के दौरान दाढ़ी रखने का अधिकार आपको नहीं है.

पाकिस्तान के खिलाफ सीरीज खेलने से पीछे क्यों हटा अफ़ग़ानिस्तान?

पाकिस्तान के खिलाफ सीरीज खेलने से पीछे क्यों हटा अफ़ग़ानिस्तान?

अनिश्चितकाल के लिए टली सीरीज.

सूर्यकुमार यादव के टेस्ट डेब्यू पर क्या बोले कप्तान कोहली?

सूर्यकुमार यादव के टेस्ट डेब्यू पर क्या बोले कप्तान कोहली?

लीड्स में कितने बदलावों के साथ उतरेगा भारत?

'कोई मूर्ख या दुस्साहसी ही कर सकता है ऋषभ पंत जैसी हरकतें!'

'कोई मूर्ख या दुस्साहसी ही कर सकता है ऋषभ पंत जैसी हरकतें!'

पंत मूर्ख हैं या उन्हें खुद पर बेशुमार भरोसा है?

जसप्रीत बुमराह की शॉर्ट पिच बोलिंग पर एंडरसन ने तोड़ी चुप्पी

जसप्रीत बुमराह की शॉर्ट पिच बोलिंग पर एंडरसन ने तोड़ी चुप्पी

क्या बोले एंडरसन?

राहुल गांधी के लिए Twitter के विरोध में बटेर तलने वाले कांग्रेस वर्कर का अंजाम ये हुआ

राहुल गांधी के लिए Twitter के विरोध में बटेर तलने वाले कांग्रेस वर्कर का अंजाम ये हुआ

ट्विटर द्वारा राहुल गांधी को ब्लॉक करने का विरोध कर रहे थे.

अब Whatsapp से कराएं कोरोना वैक्सीन की स्लॉट बुकिंग, ये है तरीका

अब Whatsapp से कराएं कोरोना वैक्सीन की स्लॉट बुकिंग, ये है तरीका

स्टेप बाई स्टेप जानकारी.

हिंदू रक्षा दल के पिंकी चौधरी की जमानत याचिका खारिज करते हुए कोर्ट ने तालिबान का जिक्र क्यों किया?

हिंदू रक्षा दल के पिंकी चौधरी की जमानत याचिका खारिज करते हुए कोर्ट ने तालिबान का जिक्र क्यों किया?

जंतर-मंतर भड़काऊ नारेबाजी मामले में पिंकी चौधरी अग्रिम जमानत लेना चाह रहे थे.