Submit your post

Follow Us

Facebook का नाम बदलने के बाद क्या अब आपका अकाउंट Meta पर खुलेगा?

सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक (Facebook) ने अपना नाम बदल लिया है. अब इसका नाम होगा मेटा (Meta). गुरुवार 28 अक्टूबर को इस बात की घोषणा फेसबुक के फाउंडर मार्क जकरबर्ग ने की. आइए बताते हैं कि जकरबर्ग का ऐसा करने के पीछे क्या मकसद है. क्या इससे फेसबुक में कोई बदलाव होगा?

दरअसल, फेसबुक को अब तक एक सोशल मीडिया कंपनी माना जाता रहा है, वहीं मेटा एक सोशल टेक्नॉलजी कंपनी होगी. फेसबुक की तरह के दूसरे कई प्रोडक्ट अब मेटा ब्रैंड की छतरी के नीचे आएंगे. कहने का मतलब ये कि आपका फेसबुक अकाउंट पहले की तरह ही खुलेगा. बस फेसबुक ने अपनी बाकी कंपनियों को मिलाकर एक बड़ी कंपनी Meta बना ली है.

मार्क जकरबर्ग ने कंपनी ने कनेक्ट वर्चुअल रियलिटी कॉन्फ्रेंस में कहा कि हम जो कुछ भी करते हैं, उसे शामिल करने के लिए एक नया कंपनी ब्रांड अपनाने का समय आ गया है. अब हम मेटावर्स होने जा रहे हैं, फेसबुक नहीं. उनका ये भी कहना था कि मेटावर्स ही मोबाइल इंटरनेट का भविष्य होगा.

असल में फेसबुक अब एक खास प्रोडक्ट मेटावर्स को लॉन्च करने की तैयारी में है. इसमें वर्चुअल रिएलिटी और ऑग्मेंटेड रिएलिटी को जोड़कर एक खास वर्चुअल दुनिया रची जाएगी. मेटावर्स, मतलब वो दुनिया जो असल नहीं है लेकिन तकनीक उसे असल जितनी ही साक्षात बना देती है. ऑग्मेंटेड रिएलिटी को वर्चुअल रिएलिटी का ही अडवांस रूप कहा जाता है. इस तकनीक में आपके आसपास के वातावरण से मेल खाता ऐसा माहौल रच दिया जाता है जो वास्तविक सा मालूम पड़ता है.

मेटावर्स की तरफ बढ़ रहा है फेसबुक

कंपनी का भविष्य ‘मेटावर्स’ में है, ये बात फेसबुक के फाउंडर मार्क जकरबर्ग ने जुलाई 2021 में भी कही थी. फेसबुक जो लक्ष्य बना रहा है, वह एक अल्फाबेट इंक जैसी होल्डिंग कंपनी है. इसके जरिए इंस्टाग्राम, वॉट्सएप, ओकुलस और मैसेंजर जैसे कई सोशल नेटवर्किंग ऐप को वह अपने भीतर रखेगी. बता दें कि साल 2015 में गूगल ने अपना नाम बदलकर अल्फाबेट इंक रखा था, अब गूगल और इसके दूसरे प्रोडक्ट्स इसी में आते हैं.

18 अक्टूबर को फेसबुक ने बताया था कि वह अगले पांच साल में यूरोपीय यूनियन देशों में 10,000 लोगों को काम पर रखने की योजना बना रहा है ताकि मेटावर्स बनाने में मदद मिल सके. मेटावर्स (metaverse) एक नई ऑनलाइन दुनिया है, जहां लोग शेयर्ड वर्चुअल स्पेस में कनेक्ट हो सकेंगे. मतलब ऑनलाइन दुनिया में एकदूसरे से साक्षात जुड़ सकेंगे. फेसबुक ने वर्चुअल रियलिटी (VR) और ऑग्मेंटेड रियलिटी (AR) में भारी निवेश किया है. वह अपने लगभग तीन अरब यूजर्स को कई डिवाइसेस और ऐप्स के माध्यम से जोड़ने का इरादा रखता है.

ये भी पढ़ेंः Facebook ऐसा क्या बनाने जा रहा है कि दुनिया अभी से हिली हुई है?

क्यों बदलना पड़ा नाम?

फेसबुक भले ही इसे एक सोशल मीडिया कंपनी से सोशल टेक्नॉलजी कंपनी की तरफ बढ़ने वाला कदम बता रहा हो लेकिन जानकार इसे दूसरे नजरिए से देख रहे हैं. उनका मानना है कि फेसबुक इस वक्त स्क्रूटनी के सबसे बुरे दौर से गुजर रहा है. पिछले कुछ सालों में फेसबुक पर प्राइवेसी के हनन से लेकर हेट स्पीच को बढ़ावा देने और फेक न्यूज पर एक्शन न लेने तक के कई गंभीर आरोप लगे हैं. इससे कंपनी की छवि को काफी नुकसान पहुंचा है. हाल ही में फेसबुक की कर्मचारी रही फ्रैंसिस ह्यूगेन ने कंपनी के काम करने के तरीके को लेकर बड़े खुलासे किए थे. उसने बताया था कि कंपनी को पता था कि हेट स्पीच और फेक न्यूज़ को रोकने का कोई मैकेनिजम काम नहीं कर रहा, फिर भी उसने कोई एक्शन नहीं लिया.

न्यू यॉर्क टाइम्स में छपे लेख के मुताबिक, कंपनी ने भले ही अपना नाम बदल लिया है लेकिन मूल रूप से कंपनी में कुछ बदल नहीं रहा है. इसका कारण ये है कि कंपनी के सीईओ मार्क जकरबर्ग ही रहेंगे. सभी मुख्य अधिकारियों की जिम्मेदारी भी पहले जैसी ही रहेंगी. कंपनी फिलहाल फेसबुक में कोई नया बदलाव नहीं करने जा रही है. ये सिर्फ एक बुरी इमेज से बाहर आने की एक कसरत भर लग रही है.


वीडियो – नए यूज़र्स चाहें न चाहें, फेसबुक उनके सामने किस तरह परोसता है हिंसात्मक कंटेंट?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

विराट के टेस्ट कप्तानी छोड़ने पर क्यों हैरान हैं रोहित शर्मा?

विराट के टेस्ट कप्तानी छोड़ने पर क्यों हैरान हैं रोहित शर्मा?

रोहित शर्मा ने कैसे दी कप्तान को विदाई.

अमेरिका: पाकिस्तानी साइंटिस्ट की रिहाई की मांग करने वाला संदिग्ध मारा गया

अमेरिका: पाकिस्तानी साइंटिस्ट की रिहाई की मांग करने वाला संदिग्ध मारा गया

हथियारों से लैस संदिग्ध ने एक पूजा स्थल में 4 लोगों को बंधक बना लिया था.

जेल से बाहर आए आजम खान के बेटे अब्दुल्ला ने BJP सरकार के लिए क्या कहा?

जेल से बाहर आए आजम खान के बेटे अब्दुल्ला ने BJP सरकार के लिए क्या कहा?

जमानत पर रिहा हुए अब्दुल्ला. इस बार चुनाव लड़ सकते हैं.

किस मामले में हुई यति नरसिंहानंद की गिरफ्तारी, उत्तराखंड पुलिस ने बताया

किस मामले में हुई यति नरसिंहानंद की गिरफ्तारी, उत्तराखंड पुलिस ने बताया

क्या हरिद्वार धर्म संसद हेट स्पीच मामले में ये गिरफ्तारी हुई है?

इमोशनल लेटर लिख विराट ने छोड़ी टेस्ट कप्तानी, BCCI ने कही ये बात

इमोशनल लेटर लिख विराट ने छोड़ी टेस्ट कप्तानी, BCCI ने कही ये बात

विराट ने अपने लेटर में रवि शास्त्री और एमएस धोनी का जिक्र किया है.

डीआरएस विवाद पर विराट कोहली से क्या बोला ICC?

डीआरएस विवाद पर विराट कोहली से क्या बोला ICC?

कोई आधिकारिक आरोप नहीं लगाया है.

DRS विवाद पर अब क्या बोल गए विराट कोहली?

DRS विवाद पर अब क्या बोल गए विराट कोहली?

'बाहरी लोग नहीं जानते.'

किसने सोचा था पुजारा-रहाणे के भविष्य पर ऐसा कुछ बोल देंगे विराट कोहली!

किसने सोचा था पुजारा-रहाणे के भविष्य पर ऐसा कुछ बोल देंगे विराट कोहली!

कोहली ने क्या कहा?

हार के बाद कोहली के किस फैसले पर भड़क उठे गावस्कर?

हार के बाद कोहली के किस फैसले पर भड़क उठे गावस्कर?

भारत का टेस्ट सीरीज जीतने का सपना टूटा.

इस खास कैटेगरी की कारों में अब 2 नहीं 6 एयरबैग लगाने होंगे

इस खास कैटेगरी की कारों में अब 2 नहीं 6 एयरबैग लगाने होंगे

नितिन गडकरी ने ट्वीट कर दी जानकारी.