Submit your post

Follow Us

कांग्रेस नेता अधीर रंजन बोले, अगर ये एक काम करती मोदी सरकार तो ना बढ़ता कोरोना

कांग्रेस नेता और लोकसभा के नेता प्रतिपक्ष अधीर रंजन चौधरी 30 मई को आज तक के ई-एजेंडा कार्यक्रम से जुड़े. लॉकडाउन से जुड़ी मोदी सरकार की नीतियों पर, राहुल गांधी पर और महाराष्ट्र की सरकार में को-ऑर्डिनेशन पर बात की. अधीर रंजन ने कहा कि देश में 30 जनवरी को कोरोना वायरस का पहला मामला आया था. अगर एक फरवरी से ही इंटरनेशनल उड़ानों को रोक दिया जाता, फरवरी से ही लॉकडाउन लगाया जाता तो आज हालत ऐसा नहीं होता. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने लॉकडाउन लगाने में काफी देर की.

अधीर रंजन से पूछा गया कि राहुल गांधी ने तो लॉकडाउन को फेल ही करार दे दिया. क्यों? इस पर वे बोले –

“राहुल गांधी का कहना है कि जब लॉकडाउन शुरू हुआ तो दुनिया में हमारा रैंकिंग थी 25-26. अभी हम टॉप-10 में हैं. चीन से भी आगे. इसके अलावा राहुल गांधी ने शुरू से कहा है कि ज़्यादा से ज़्यादा टेस्ट कराइए. उन्होंने शुरू से कहा कि ये (इंफेक्शन) बढ़ेगा. लेकिन फिर भी अब तक हमारे देश में टेस्ट बाकी कई देशों से कम हैं. इन्हीं बातों के आधार पर हमें ये देखना चाहिए कि लॉकडाउन सफल रहा या असफल.”

महाराष्ट्र में फैसले कौन लेता है?

महाराष्ट्र में कांग्रेस-शिवसेना की गठबंधन सरकार है. फिर राहुल गांधी ने कहा था कि फैसले हम (कांग्रेस) नहीं लेते. इस पर अधीर रंजन बोले-

“इस देश में एक पूरा सिस्टम राहुल गांधी की बातों को तोड़ने-मरोड़ने के लिए काम कर रहा है. राहुल गांधी का बस इतना ही कहना था कि हम महाराष्ट्र में सुझाव देने का काम कर सकते हैं, लेकिन अंतिम फैसला तो मुख्यमंत्री ही करेंगे. ठीक उसी तरह जैसे देश में अंतिम फैसला प्रधानमंत्री ही करते हैं.”

प्रियंका गांधी, यूपी सरकार और एक हज़ार बसों वाले मुद्दे पर अधीर रंजन बोले –

“यूपी सरकार ने ही हमें कहा कि बसें भेजिए. अगर न भेजते तो वो कहते कि इनकी बातों में दम नहीं. भेज दी तो उनको लगा कि अब ये बसें चलवाएंगे तो बदनामी होगी.”

जब पूछा गया कि महाराष्ट्र, पंजाब सरकार को कांग्रेस पार्टी ने कितनी बसें मुहैया कराईं तो अधीर रंजन बोले कि उनके पास उनके राज्य बंगाल की जानकारी है. बाकी राज्यों का आंकड़ा उनके पास नहीं है.


लॉकडाउन बढ़ाने को लेकर पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ने की मुलाकात

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

मशहूर एस्ट्रोलॉजर बेजान दारूवाला नहीं रहे, कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

बेटे ने कहा- निमोनिया और ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत.

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.

जिस मंदिर के पास हजारों करोड़ रुपये हैं, उसके 50 प्रॉपर्टी बेचने के फैसले पर हंगामा क्यों हो गया

साल 2019 में इस मंदिर के 12 हजार करोड़ रुपये बैंकों में जमा थे.

पुलवामा हमले के लिए विस्फोटक कहां से और कैसे लाए गए, नई जानकारी सामने आई

पुलवामा हमला 14 फरवरी, 2019 को हुआ था.

दो महीने बाद शुरू हुई हवाई यात्रा, जानिए कैसा रहा पहले दिन का हाल?

दिल्ली में पहले दिन 80 से ज्यादा उड़ानें कैंसिल क्यों करनी पड़ी?

बलबीर सिंह सीनियर: तीन बार के हॉकी गोल्ड मेडलिस्ट, जिन्होंने 1948 में इंग्लैंड को घुटनों पर ला दिया था

हॉकी लेजेंड और भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और कोच बलबीर सिंह सीनियर का 96 साल की उम्र में निधन.

दूसरे राज्य इन शर्तों पर यूपी के मजदूरों को अपने यहां काम करने के लिए ले जा सकते हैं

प्रवासी मजदूरों को लेकर सीएम योगी ने बड़ा फैसला किया है.