Submit your post

Follow Us

महाराष्ट्र में रातों रात बदला गेम, देवेंद्र फडणवीस सीएम और एनसीपी के अजित पवार डिप्टी सीएम बने

महाराष्ट्र में बड़ा राजनीतिक उलटफेर हो गया है. शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस पिछले कुछ दिनों से सरकार बनाने के लिए मीटिंग पर मीटिंग कर रहे थे. 22 नवंबर को ऐसी खबरें आईं कि 23 नवंबर यानी शनिवार को तीनों पार्टियां सरकार बनाने का दावा पेश करेंगी. लेकिन शनिवार सुबह बीजेपी ने एनसीपी के साथ मिलकर सरकार बना ली. राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने देवेंद्र फडणवीस को सीएम पद की शपथ दिलाई. वहीं, अजित पवार को डिप्टी सीएम का पद मिला है. इससे पहले शरद पवार ने कहा था कि महाराष्‍ट्र में शिवसेना के नेतृत्‍व में सरकार बनेगी, लेकिन रातों रात बाजी पलट गई. और फडणवीस सीएम बन गए.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फडणवीस को दोबारा सीएम बनने पर बधाई दी. प्रधानमंत्री ने कहा कि मुझे विश्‍वास है कि दोनों नेता महाराष्‍ट्र के बेहतर भविष्‍य के लिए मिलकर काम करेंगे. शपथ लेने के बाद देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि हमने चुनाव जीता था. और शिवसेना पीछे हट गई. महाराष्‍ट्र को स्थिर शासन की जरूरत थी. इसलिए हम साथ आए हैं. हम राज्‍य को एक स्थिर सरकार देंगे. फडणवीस ने कहा कि राज्‍य को खिचड़ी सरकार की जरूरत नहीं थी. शिवसेना ने जनादेश का अपमान किया. इसलिए हमें यह कदम उठाना पड़ा.

अजीत पवार ने कहा कि चुनाव परिणाम के दिन से ही कोई भी पार्टी सरकार बनाने की स्थिति में नहीं थी. महाराष्‍ट्र कई समस्‍याओं का सामना कर रहा है जिसमें किसानों का मुद्दा शामिल है. महाराष्‍ट्र में किसानों की समस्‍या हमारी प्राथमिकता है. इसलिए हमने एक स्थिर सरकार बनाने का फैसला किया.

वही एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा कि ये फैसला पार्टी का नहीं है. शरद पवार ने उद्धव ठाकरे से बात की है. बीजेपी को समर्थन देना का फैसला एनसीपी का नहीं है. एनसीपी इस फैसले के साथ नहीं है. शरद पवार ने कहा कि अजित पवार ने पार्टी तोड़ दी. एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल ने कहा कि शरद पवार का महाराष्ट्र में गठित सरकार से कोई लेना-देना नहीं है. हम अजित पवार के फैसले का समर्थन नहीं करते हैं. बीजेपी को समर्थन अजित पवार का निजी फैसला है.

शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि अजित पवार वकील से मिलने के बहाने बाहर गए थे. सत्ता और पैसे के दम पर पूरा खेला हुआ है. अजित पवार नजर नहीं मिला पा रहे थे. अंधेरे में अजित पवार ने डाका डाला है. संजय राउत ने कहा कि राज्यपाल भी इसमें शामिल हैं. राजभवन की शक्तियों का दुरुपयोग हुआ है. बीजेपी और फडणवीस सत्ता के लिए कुछ भी कर सकते हैं.अजित पवार और उनके साथियों ने छत्रपति शिवाजी का नाम बदनाम किया है. आज सुबह दो बार उद्धव ठाकरे से शरद पवार की बात हुई थी. अजित पवार को ईडी की जांच का डर है.


उद्धव ठाकरे को महाराष्ट्र का सीएम बनाने पर कैसे राजी हुई कांग्रेस और एनसीपी?।दी लल्लनटॉप शो। एपिसोड 351

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

जब सौरव गांगुली के गॉडफादर ने बचाया शोएब अख्तर का करियर

ये 'उन' दिनों की बात है...

WWE ने अपने कई रेसलर्स को काम से निकाला, ट्विटर पर रो पड़े ड्रक मैवरिक

लॉकडाउन के बीच WWE के दर्शकों की संख्या घट गई है.

अस्पताल से भागकर कोरोना पॉजिटिव मरीज ने हंगामा किया, रस्सियों से बांधकर अंदर लाया गया

बताया जा रहा है कि शख्स की मानसिक हालत सही नहीं थी.

जिस फिल्म फेस्ट में जाने के लिए डायरेक्टर खतम हो जाते हैं, वो इस बार क्यों नहीं हो रहा?

जहां मिले स्टैंडिंग ओवेशन का ज़िक्र करके फिल्ममेकर बहुत इतराते हैं.

पुलित्ज़र अवॉर्डी डॉक्टर ने बताए, कोरोना की दवा तैयार होने के चार प्रोसेस

डॉक्टर मुखर्जी ने ये भी बताया कि दवा का भारत में बनना ही ज़रूरी क्यों है.

लॉकडाउन: कोटा में फंसे UP के छात्रों के लिए योगी सरकार ने ये बड़ा काम कर दिया

कोटा में यूपी के लगभग 7000 छात्र फंसे हुए हैं.

मुरादाबाद केस: सुबह तीन बजे अदालत बैठी, पांच बजे जेल भेज दिए गए सारे आरोपी

कोरोना मरीज को लेने आए डॉक्टरों की टीम पर हमला किया था.

इंदौर में एक दिन में आए अब तक के सबसे ज्यादा कोरोना पॉजिटिव मामले

इसके बाद इंदौर प्रशासन ने बड़ा फैसला लिया है.

भारत में कोरोना के जितने टेस्ट होने चाहिए, उतने हो रहे हैं कि नहीं? एक्सपर्ट्स से जानिए

टेस्ट को लेकर COVID-19 पैनल में शामिल डॉक्टरों की क्या राय है.

कोरोना के बाद खेल की दुनिया में आने वाले बदलावों पर क्या बोलीं सानिया मिर्ज़ा?

फैंस के बिना खेलने में सानिया को नहीं है दिक्कत.