Submit your post

Follow Us

इंडिया में कोरोना की वैक्सीन की क़िल्लत का ये रहा पूरा सच!

केंद्र सरकार भले ही इंकार कर रही हो, लेकिन राज्यों और अस्पतालों से आ रही ख़बर एक ही बात कह रही है. देश में कोरोना की वैक्सीन की भारी क़िल्लत है. हां. अपनी बात को और ज़्यादा सही तरीक़े से रखने के लिए कुछ ख़बरें बतायेंगे आपको.

उत्तर प्रदेश : बनारस से ख़बर आयी है कि कई सारे वैक्सीनेशन केंद्र वैक्सीन की कमी होने की वजह से बंद हो गए हैं. ग़ाज़ियाबाद और नोएडा में वैक्सीन लगवाने के कई सारे स्लॉट कैंसिल कर दिए गए. ख़बरें बताती हैं कि इसका भी कारण वैक्सीन की कमी है.

महाराष्ट्र : महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि राज्य में कोरोना की वैक्सीन का बस तीन दिनों का स्टॉक बचा हुआ है, और वैक्सीन नहीं होगी तो केंद्रों को बंद करना पड़ेगा.

छत्तीसगढ़ : राज्य के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव ने भी दी प्रिंट से बातचीत में वैक्सीन की मांग और सप्लाई में अंतर को बताते हुए ये सम्भावना ज़ाहिर की है कि अगर आने वाले दिनों में वैक्सीन की सप्लाई पक्की नहीं हुई तो लोगों को वैक्सीन केंद्र से लौटाना पड़ेगा.

इसके अलावा ओडिशा, आंध्र प्रदेश और झारखंड से इसी तरह की ख़बरें आ रही हैं. राज्यों ने केन्द्र सरकार से कहा है कि वैक्सीन भेजिए, कुछेक दिन का स्टॉक बचा हुआ है. ओडिशा के बारे में तो 700 वैक्सीन केंद्र बंद कर देने की भी ख़बरें चलने लगी हैं.

मतलब भारत के कई राज्य वैक्सीन की कमी होने की बात कर रहे हैं, केंद्र सरकार से और वैक्सीन भेजने की बात कह रहे हैं. लेकिन इस पर भारत सरकार का क्या कहना है? कहना ये कि वैक्सीन की कोई कमी नहीं है और राज्य वैक्सीन के मुद्दे पर राजनीति कर रहे हैं.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने ट्वीट करके भी इसी बात को दोहराया है.

उन्होंने ये भी कहा है कि देश में 9 करोड़ से ज़्यादा वैक्सीन के डोज़ लगाए जा चुके हैं और स्टॉक में मौजूद 4.5 करोड़ से ज़्यादा डोज़ राज्यों को भेजे जा रहे हैं.

लेकिन सच क्या है?

मार्च के शुरुआती हफ़्ते में चलते हैं. भारत में कोविशील्ड वैक्सीन बना रही कम्पनी सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया के प्रमुख अदार पूनावाला. उन्होंने 5 मार्च को दिए अपने बयान में कहा कि अमेरिका कच्चे माल की सप्लाई रोक रहा है. सप्लाई रोके जाने से वैक्सीन का प्रोडक्शन धीमा पड़ सकता है.

कैसे कच्चे माल की ओर पूनावाला इशारा कर रहे थे? वैक्सीन के निर्माण और वायल संबंधी माल की ओर. दरअसल अमेरिका में सत्ता परिवर्तन हुआ तो जो बाइडन की सरकार बनी. बाइडन सरकार ने डिफ़ेन्स प्रोडक्शन एक्ट का हवाला दिया, और कच्चे माल के निर्यात को सीमित कर दिया. ऐसा करने से कोरोना की ही वैक्सीन बना रही अमेरिकी कम्पनी फ़ाइज़र के पास कच्चे माल की सप्लाई बढ़ गयी. इसके बाद फ़ाइज़र का प्रोडक्शन बढ़ गया.

इसका ज़िक्र करते हुए पूनावाला ने ये भी कहा था कि अगर बाइडन सरकार कच्चे माल की दिक़्क़त की ओर ध्यान नहीं देती है, तो दुनिया भर में वैक्सीन की सप्लाई में दिक़्क़त आएगी.

और संभवत: हुआ भी यही. 8 अप्रैल को पूनावाला की कम्पनी सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया को एस्ट्राजेनेका की ओर से क़ानूनी नोटिस भेज दिया गया. एस्ट्राजेनेका यानी वो दवा कम्पनी जिसने ऑक्स्फ़र्ड यूनिवर्सिटी के साथ मिलकर कोरोना की वैक्सीन डिवेलप की, जो भारत में कोविशील्ड के नाम से मिल रही है.

बिज़नेस स्टैंडर्ड में छपी ख़बर के मुताबिक़, पूनावाला ने बताया है कि एस्ट्राजेनेका ने वैक्सीन की सप्लाई में देर होने के कारण सीरम इंस्टिट्यूट को नोटिस भेजा है. इसके अलावा सीरम इंस्टिट्यूट ने भारत सरकार से एक्स्ट्रा ग्रांट की मांग की है. पूनावाला के मुताबिक़, कम्पनी इस ग्रांट का उपयोग अपनी फ़ैसिलिटी को इम्प्रूव करने में करेगी, जिससे वैक्सीन का उत्पादन बढ़ाया जा सके. ख़बरों के मुताबिक़, कम्पनी फ़िलहाल रोज़ाना 20 लाख कोरोना की वैक्सीन के डोज़ का निर्माण कर रही है. महीने भर में लगभग 6 करोड़ डोज़. पूनावाला के मुताबिक़, अगर कंपनी को ये आर्थिक मदद मिल जाती है, (ख़बरों के मुताबिक़ जिसकी मात्रा लगभग 3 हज़ार करोड़ रुपयों की है) तो कम्पनी जून के आख़िर तक हर महीने वैक्सीन के 11 करोड़ डोज़ तैयार कर सकेगी.

लेकिन वैक्सीन की किल्लत अभी है. जो प्राथमिक तौर पर आ रही ख़बरों के मुताबिक़ कच्चे माल की किल्लत की वजह से है और अदार पूनावाला ने कच्चे माल की किल्लत पर इंडिया टुडे से बातचीत में कहा है,

“काश मैं वहांजाकर प्रदर्शन कर पाता और ये कह पाता कि आप देश के कई हिस्सों में वैक्सीन के उत्पादन में रोड़े अटका रहे हैं.”

तो क्या कोई और देश कच्चा माल नहीं दे सकता है?

एकदम दे सकता है. लेकिन सवाल क्वालिटी का है. ख़बरों की मानें तो अदार पूनावाला ने साफ़ कर दिया है कि वो चीन या दूसरे देशों से कच्चा माल कमतर क्वालिटी की वजह से नहीं ले रहे हैं.

 

पूरी बातचीत का फ़लसफ़ा क्या निकलता है? क्या कहें. केंद्र इस बात पर ज़ोर दे रहा है कि देश में वैक्सीन की कोई किल्लत नहीं है, और जबकि वैक्सीन का निर्माण कर रहे लोग भी साफ़ कह रहे हैं कि कच्चे माल की आमद नहीं है, और वैक्सीन का निर्माण इससे प्रभावित हो रहा है. क़ानूनी नोटिस है, वो अलग.


लल्लनटॉप वीडियो : वैक्सीन लगवाने बाद भी लोग कोरोना पॉजिटिव क्यों हो रहे हैं, पता चल गया!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

किस “घपले” के चक्कर में अंबानी के भाई, भौजी, सब पर 25 करोड़ का जुर्माना हो गया

किस “घपले” के चक्कर में अंबानी के भाई, भौजी, सब पर 25 करोड़ का जुर्माना हो गया

इससे पहले इसी साल जनवरी महीने में भी सेबी ने RIL पर बड़ा जुर्माना ठोका था.

बीजापुर नक्सली हमले में अगवा हुए CRPF जवान राकेश्वर सिंह को नक्सलियों ने छोड़ा

बीजापुर नक्सली हमले में अगवा हुए CRPF जवान राकेश्वर सिंह को नक्सलियों ने छोड़ा

CRPF ने राकेश्वर सिंह की वापसी की पुष्टि की है.

फिल्ममेकर की पत्नी और बेटी ने खुद को आग लगाकर जान दे दी

फिल्ममेकर की पत्नी और बेटी ने खुद को आग लगाकर जान दे दी

मुंबई में हुई है ये हृदयविदारक घटना.

मोदी सरकार पर वैक्सीन में भेदभाव का आरोप लगा रहे महाराष्ट्र के मंत्री को मिनटों में ही जवाब मिल गया

मोदी सरकार पर वैक्सीन में भेदभाव का आरोप लगा रहे महाराष्ट्र के मंत्री को मिनटों में ही जवाब मिल गया

क्या मोदी सरकार बीजेपी शासित राज्यों को वैक्सीन बांटने में तवज्जो दे रही है?

मुलायम सिंह कुनबे के वो नेता, जिन्होंने पंचायत चुनाव से उगाई सियासी फसल

मुलायम सिंह कुनबे के वो नेता, जिन्होंने पंचायत चुनाव से उगाई सियासी फसल

इस बार यादव परिवार से कौन चुनाव मैदान में है?

आंखों का ये हाल क्या वाकई पतंजलि की आई ड्रॉप ने कर दिया है?

आंखों का ये हाल क्या वाकई पतंजलि की आई ड्रॉप ने कर दिया है?

आंखों के डॉक्टर का तो यही कहना है.

फिल्मी कहानी सच हो गई, कुंभ में बिछड़ी महिला 5 साल बाद कुंभ में ही मिली

फिल्मी कहानी सच हो गई, कुंभ में बिछड़ी महिला 5 साल बाद कुंभ में ही मिली

पुलिस की मुहिम ने एक नेक काम कर दिया.

IIT के 900 से ज्यादा स्टूडेंट्स को कैसे लगा दी गई कोरोना वैक्सीन?

IIT के 900 से ज्यादा स्टूडेंट्स को कैसे लगा दी गई कोरोना वैक्सीन?

45 साल से कम उम्र के लोगों के लिए वैक्सीन का रजिस्ट्रेशन कैसे हो गया?

मुख्तार अंसारी को पंजाब से यूपी लाने वाली एंबुलेंस में भी बड़ा झोल था

मुख्तार अंसारी को पंजाब से यूपी लाने वाली एंबुलेंस में भी बड़ा झोल था

बुधवार को मुख्तार अंसारी यूपी की बांदा जेल लाया गया था.

वैक्सीन की कमी से कई राज्यों के सेंटरों पर लगे ताले, केंद्र सरकार का जवाब सुन लीजिए

वैक्सीन की कमी से कई राज्यों के सेंटरों पर लगे ताले, केंद्र सरकार का जवाब सुन लीजिए

पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र बनारस तक में वैक्सीनेशन रोकना पड़ा है.