Submit your post

Follow Us

कांग्रेस के दिग्गज नेता अहमद पटेल का निधन, एक महीने तक कोविड-19 से लंबी जंग लड़ी

अहमद पटेल. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्य सभा सांसद थे. 25 नवंबर की सुबह करीब साढ़े तीन बजे उनका निधन हो गया. वो 71 बरस के थे. उनके गुज़रने की जानकारी उनके बेटे फैसल पटेल ने ट्वीट कर दी. लिखा,

“दुख के साथ ये बताना पड़ रहा है कि मेरे पिता मिस्टर अहमद पटेल का 25 नवंबर की सुबह साढ़े तीन बजे निधन हो गया. करीब एक महीने पहले कोरोना पॉज़िटिव पाए जाने के बाद, उनकी हेल्थ मल्टिपल ऑर्गन फेलियर (कई अंगों का फेल हो जाना) की वजह से और खराब होती गई. उन्हें अल्लाह जन्नत नसीब कराए. हर किसी से अपील है कि कोविड-19 के नियमों का पालन करें. भीड़भाड़ में न जाएं. सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें.”

अहमद पटेल के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस नेता राहुल गांधी समेत कई नेताओं ने दुख जताया. पीएम ने ट्वीट कर कहा,

“अहमद पटेल जी के निधन से दुखी हूं. उन्होंने पब्लिक लाइफ में कई साल बिताए थे, सोसायटी की सेवा की थी. अपने तेज़ दिमाग के लिए जाने जाते थे. कांग्रेस को मजबूत करने में उनकी जो भूमिका थी, उसे हमेशा याद रखा जाएगा. उनके बेटे फैसल से बात की और अपनी संवेदनाएं जताईं. अहमद भाई जी की आत्मा को शांति मिले.”

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने दुख जताया. कांग्रेस के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से सोनिया का संदेश पोस्ट किया गया. उन्होंने कहा,

“श्री अहमद पटेल के जाने से मैंने अपना एक कलीग खो दिया, जिनकी पूरी ज़िंदगी कांग्रेस पार्टी को समर्पित थी. उनकी वफ़ादारी और समर्पण, कर्तव्य के प्रति प्रतिबद्धता, मदद के लिए हमेशा मौजूद रहना, उनकी उदारता, उनके ऐसे दुर्लभ गुण थे, जो उन्हें दूसरों से अलग करते थे. मैंने एक ऐसा कॉमरेड खो दिया, जिसकी जगह कोई नहीं ले सकता, एक विश्वसनीय कलीग और दोस्त खो दिया. मैं उनके निधन पर शोक व्यक्त करती हूं. और उनके शोकाकुल परिवार के साथ मेरी सहानुभूति और सपोर्ट है.”

कांग्रेस नेता और सांसद राहुल गांधी ने भी ट्वीट कर कहा,

“ये दुखद दिन है. श्री अहमद पटेल कांग्रेस पार्टी के पिल्लर थे. वो कांग्रेस के लिए जिए. वो हमेशा मुश्किल वक्त में कांग्रेस पार्टी के साथ खड़े रहे. वो एक शानदार संपत्ति थे. हमें उनकी याद आएगी. फैसल, मुमताज़ और परिवार के साथ मेरी संवेदनाएं.”

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा,

“सीनियर कांग्रेस लीडर और सांसद अहमद पटेल के जाने से दुखी हूं. वो एक अनुभवी नेता थे, जिन्होंने अपनी पार्टी और सार्वजनिक जीवन में उल्लेखनीय योगदान दिया. अहमद भाई के पार्टी लाइन के इतर भी दोस्त थे. इस दुख की घड़ी में उनके परिवार के साथ मेरी संवेदनाएं हैं.”

कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने भी दुख जताते हुए ट्वीट किया-

प्रियंका गांधी ने भी ट्वीट कर शोक जताया. लिखा,

“अहमद जी न केवल एक बुद्धिमान और अनुभवी कलीग थे, जिनसे मैं लगातार सलाह लेती रही, वो एक ऐसे दोस्त थे, जो हमेशा हमारे साथ खड़े रहे, आखिर तक लॉयल रहे. उनके निधन से एक बड़ा खालीपन हो गया है. उनकी आत्मा को शांति मिले.”

सचिन पायलट ने भी ट्वीट कर कहा,

“अहमद पटेल जी के निधन से बहुत दुखी हूं. उनके जाने से ऐसा खालीपन हुआ है, जिसे भरा नहीं जा सकता. वो समर्पित कांग्रेसी थे. एक राष्ट्रवादी थे. बहुतों के लिए दोस्त और मेंटर थे. इस दुख की घड़ी में मैं फैसल, मुमताज़ और उनके पूरे परिवार के साथ हूं.”

अहमद पटेल का अंतिम संस्कार गुजरात के भरूच में उनके पैतृक गांव में किया जाएगा. अहमद पटेल 1 अक्टूबर को कोरोना पॉज़िटिव पाए गए थे. कोविड-19 से जूझ रहे थे. रविवार यानी 22 नवंबर को उन्हें क्रिटिकल केयर में रखा गया था. उनके परिवार ने बताया कि उन्हें गुड़गांव के मेदांता अस्पताल में ICU में भर्ती कराया गया था.

Bharuch
अहमद पटेल के निधन की सूचना के बाद भरूच में लोग.

अहमद पटेल तीन बार लोकसभा सांसद रहे. 1977 से 1989 तक. 1993 से गुजरात को रिप्रेजेंट करते हुए पांच बार राज्य सभा सांसद रहे. उन्होंने सोनिया गांधी के पॉलिटिकल सेक्रेटरी के तौर पर भी काम किया. कांग्रेस के बड़े नेताओं में शुमार थे.


वीडियो देखें: लंबे समय से किडनी की बीमारी से परेशान एक्टर आशीष रॉय का निधन

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

सरकार ने अब स्नैक वीडियो, अली एक्स्प्रेस समेत 43 चाइनीज ऐप्स ब्लॉक किए

सरकार ने अब स्नैक वीडियो, अली एक्स्प्रेस समेत 43 चाइनीज ऐप्स ब्लॉक किए

शॉर्ट वीडियो ऐप स्नैक काफ़ी पॉपुलर हो रहा था!

बिना ‘लव जिहाद’ का जिक्र किए यूपी सरकार के नए अध्यादेश में क्या है?

बिना ‘लव जिहाद’ का जिक्र किए यूपी सरकार के नए अध्यादेश में क्या है?

इसका नाम है विधि विरुद्ध धर्म संपरिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश.

वकील साहब भूल गए थे कि वो वकील हैं हक़ीम नहीं, बार काउंसिल ने याद दिला दिया

वकील साहब भूल गए थे कि वो वकील हैं हक़ीम नहीं, बार काउंसिल ने याद दिला दिया

वकील होकर साहब ने 2 नियम तोड़े...

कुमार सानू ने बताया कि वो अपने बेटे से मिलने क्यों नहीं जाते थे

कुमार सानू ने बताया कि वो अपने बेटे से मिलने क्यों नहीं जाते थे

जान ने कुमार सानू के लिए बहुत सी तीखी बातें कही थीं.

गूगल का नया ऐप आपसे छोटे-मोटे काम कराके पैसे देगा, मगर एक लोचा है!

गूगल का नया ऐप आपसे छोटे-मोटे काम कराके पैसे देगा, मगर एक लोचा है!

अगर मगर किंतु परंतु लेकिन... सारी दिक्कत इन्हीं शब्दों से शुरू होती है.

गुजरात के कोबरा कमांडो की मौत का मामला क्या है, जिसे लेकर परिवार सवाल उठा रहा है

गुजरात के कोबरा कमांडो की मौत का मामला क्या है, जिसे लेकर परिवार सवाल उठा रहा है

सोशल मीडिया पर भी अजीत सिंह परमार के लिए न्याय मांगा जा रहा है.

क्या अक्षय की 'लक्ष्मी' पर हुए बवाल से डरकर भूमि की फिल्म 'दुर्गावती' का नाम बदला गया?

क्या अक्षय की 'लक्ष्मी' पर हुए बवाल से डरकर भूमि की फिल्म 'दुर्गावती' का नाम बदला गया?

भूमि पेडणेकर की इस हॉरर फिल्म का नाम अब 'दुर्गामती' कर दिया गया है.

'स्वदेस' में शाहरुख को जाति की व्याख्या समझाने वाले एक्टर वीएम बडोला नहीं रहे

'स्वदेस' में शाहरुख को जाति की व्याख्या समझाने वाले एक्टर वीएम बडोला नहीं रहे

बेटे वरुण बडोला ने इमोशनल पोस्ट किया.

सलामत-प्रियंका की शादी पर हाई कोर्ट ने कहा, उनकी मर्जी

सलामत-प्रियंका की शादी पर हाई कोर्ट ने कहा, उनकी मर्जी

क्या इससे 'लव जिहाद' पर मचे बवाल पर कुछ रोक लगेगी?

विरेंदर सहवाग को घर बैठे कैसे मिल गया बहुब्बड़े काम का क्रेडिट?

विरेंदर सहवाग को घर बैठे कैसे मिल गया बहुब्बड़े काम का क्रेडिट?

दादा से इसकी उम्मीद तो वीरू ने नहीं ही की होगी.