Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

'कानून अंधा है, जज नहीं', हिमाचल के चीफ जस्टिस ने जो किया, उसे जान आप भी यही कहेंगे

10.98 K
शेयर्स

आजकल एक नजारा बड़ा कॉमन है. कोई एक्सीडेंट हो जाए या कोई आदमी सड़क किनारे तड़प रहा हो. तो उसे घेरकर एक भीड़ खड़ी हो जाती है. और एक नया चसका लगा है लोगों को. वीडियो बनाने का. तो वो भी जारी रहता है. बजाए उसकी मदद करने को. कुछ ऐसा ही नजारा 13 सितंबर को था हिमाचल प्रदेश के शिमला शहर के लक्कड़ बाजार इलाके में. यहां एक आदमी सड़क किनारे बेहोश पड़ा था और लोग उसे घेरे खड़े थे. हालांकि अच्छे लोग भी हर जगह होते हैं जो तमाशबीन भीड़ का हिस्सा बनने की बजाए मदद करते हैं. और यहां मददगार बनकर आए हिमाचल प्रदेश हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस संजय करोल. वो इसी रास्ते से गुजर रहे थे और उन्होंने ये भीड़ देख गाड़ी रोकी. पता चला कि कोई बेहोश पड़ा है तो वो खुद गाड़ी से उतर गए और ड्राइवर के साथ उस बेहोश आदमी को अस्पताल भेज दिया. फिर खुद पैदल ही हाईकोर्ट के लिए चल दिए.

चीफ जस्टिस संजय करोल ने जिस आदमी को अस्पताल भिजवाया, वो 55 साल के इंद्रदेव थे. पास के ही गांव शोधी के रहने वाले. रोजाना शिमला दूध लेकर आते हैं. पर वो बीमार भी रहते हैं. अचानक चक्कर आ जाते हैं. उस दिन भी यही हुआ. वो चक्कर आने की वजह से बीच सड़क पर गिर गए. वो गिरे और भीड़ ने उन्हें घेर लिया. हालांकि समय से चीफ जस्टिस ने वहां पहुंचकर उन्हें अस्पताल भिजवा दिया. चीफ जस्टिस के इस काम को देखकर जॉली एलएलबी फिल्म में सौरभ शुक्ला का वो डायलॉग याद आ गया कि कानून अंधा होता है, जज नहीं. उसे सब दिखता है.

हिमाचल के चीफ जस्टिस ने सड़क पर बेहोश पड़े आदमी को अस्पताल भिजवाया.
हिमाचल के चीफ जस्टिस ने सड़क पर बेहोश पड़े आदमी को अस्पताल भिजवाया.

इंद्रदेव की मदद के बाद जस्टिस करोल करीब आधा रास्ता पैदल चल चुके थे. हालांकि फिर उनके साथ चलने वाली पायलट गाड़ी उनके पास आ गई क्योंकि उनके ड्राइवर ने उसे कॉल कर दिया था. फिर जस्टिस करोल इसी पायलट गाड़ी में बैठकर हाईकोर्ट के लिए निकल गए. जस्टिस करोल के इस कदम की जितनी तारीफ की जाए कम है. चाहते तो वो भी जैसे तमाम लोग गुजर जाते हैं, वैसे गुजर जाते. मगर उन्होंने उस आदमी की मदद करने को सोची. हर आदमी ऐसा करने लगे तो एक्सीडेंट या ऐसी स्थिति में जान गंवाने वाले लाखों लोगों की जान बचाई जा सकती है.


लल्लनटॉप वीडियो देखें –

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Chief Justice of Himachal Pradesh High court Sanjay Karol left his car for a patient in Shimla

क्या चल रहा है?

अनूप ने जसलीन को उनके मुंह पर ही कह दिया कि वो उनकी गर्लफ्रेंड नहीं हैं

एक बार फिर से बिग बॉस के घर में पहुंचे अनूप जलोटा.

जेएनयू के कंडोम गिनने वाले ज्ञानदेव आहूजा का दांव उल्टा पड़ा, तो झट से भाजपा छोड़ दी

लगा कि अब बाकी यूनिवर्सिटीज़ में जाकर कंडोम गिनने के लिए टाइम होगा. मगर इन्होंने खुद को दोबारा बिज़ी कर लिया.

फर्जी डिग्री के आरोपी अंकिव बसोया की छुट्टी हो गई

डीयू छात्रसंघ अध्यक्ष अंकिव बसोया को अपने सब्जेक्ट याद थे न प्रोफेसर.

बिग बॉस ने घरवालों के 27 लाख रुपए क्यों काट लिए?

और ये सिर्फ गेम में नहीं सच में हुआ है.

मस्जिद में खुला हेल्थ सेंटर, होता है सबका इलाज

इसमें इलाज कराने आने वालों पर भी मज़हब की कोई बंदिश नहीं है.

बिग बॉस 12: किसको कुत्ते की मौत मारने की धमकी दे रहे हैं श्रीसंत?

इस बार श्रीसंत ने गलत पंगा ले लिया है.

जब नेहरू को मवेशियों के रहने की जगह पर रहना पड़ा था

पेन चुराने के लिए पड़ी थी मार. बाल दिवस पर पढ़िए जवाहर लाल नेहरू के किस्से.

UP में DM ने सरकारी हॉस्पिटल में करवाई पत्नी की डिलिवरी

और ऐसा उन्होंने जिस वजह से किया, वो नहीं जानेंगे तो उनका मकसद अधूरा रह जाएगा.

बिग बॉस 12: श्रीसंत से बिग बॉस ने जो टीवी पर करवाया वो उन्हें शोभा नहीं देता

इस शो के चक्कर में कहीं इस एक्ट्रेस की शादी ही न टूट जाए!

बिन्नी बंसल को अपनी ही बनाई फ्लिपकार्ट कंपनी क्यों छोड़नी पड़ी?

सचिन बंसल पहले ही अलग हो चुके थे, अब बिन्नी बंसल ने इस्तीफा दिया.