Submit your post

Follow Us

इस टीचर की ज़लील हरकत देखकर, शैतान भी शर्म से डूब मरेगा

मां-बाप अपने बच्चों को स्कूल भेजते हैं कि वो अच्छे इंसान बनने के साथ कामयाबी हासिल करेंगे. मगर जब स्कूल में असम के इस टीचर की तरह शैतान बैठा हो, तो बच्चों का भविष्य क्या होगा? असम के इस टीचर ने स्कूल की लड़कियों को सेक्शुअली हैरेस किया. उनके साथ फोटो खींचे और उन्हें बदनाम करने के लिए फोटो इंटरनेट पर डाल दिए. इस ज़लील हरकत को देखकर शैतान भी शर्म से डूब मरेगा.

असम में इन तस्वीर को लेकर बवाल मच गया है. टीचर का नाम फैजुद्दीन लश्कर बताया जा रहा है, जो हैलाकांडी जिले के कत्लीचेरा इलाके में रहता है. टीचर के खिलाफ लोग कड़ी कार्रवाई करने की मांग कर रहे हैं. एनजीओ ‘उत्साह’ ने इस मामले को लेकर टीचर के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है.

एनजीओ ने असम राज्य के बाल अधिकार संरक्षण आयोग को भी इस मामले से अवगत कराया है. ये जानकारी एनजीओ ने अपनी फेसबुक पोस्ट के जरिए दी है. इसके अलावा संगठन ने नाजिर मोहम्मद नाम के शख्स के खिलाफ भी शिकायत दर्ज कराई है. एनजीओ का कहना है कि नाजिर ने बिना लड़की का चेहरा छिपाए लड़की के सम्मान को चोट पहुंचाई है, जो बहुत गलत है.


scoopwhoop की रिपोर्ट के मुताबिक ये पूरा मामला तब सामने आया, जब एक लोकल न्यूज चैनल DY-365 ने इस पर रिपोर्ट की. चैनल का दावा था कि वो लगातार ऐसी हरकतें करता रहा है. ये टीचर पहले भी एक महिला से छेड़छाड़ कर चुका है, तब भीड़ ने उसे खूब पीटा था और गुस्साई भीड़ ने उसकी अंगुली तोड़ दी थी.

assam teacher

स्टोरीपिक की रिपोर्ट के मुताबिक, आरोपी टीचर के खिलाफ लड़की के मां-बाप ने एफआईआर दर्ज कराई, लेकिन पूछताछ कर उसे रिहा कर दिया गया.

फोटो इतनी शर्मनाक हैं कि इन्हें देखकर किसी को भी गुस्सा आ सकता है. टीचर के खिलाफ जल्द से जल्द और सख्त एक्शन लिया जाना इसलिए ज़रूरी है ताकि कोई ऐसा करने के बारे में सोचे भी नहीं. ये खतरनाक इसलिए है, क्योंकि अभी हमारे समाज में लड़कियों को घर से ही निकलने की पूरी आज़ादी नहीं है. ऐसे में इन लड़कियों के साथ वो समाज किस तरह बर्ताव करेगा कुछ नहीं पता.

teacher 3

इन तस्वीरों को देखकर गांवों का माहौल याद आ रहा है, जहां बच्चों को स्कूल भेजकर लोग बेफिक्र हो जाते हैं. न ये जानने की कोशिश करते कि आज उनके बच्चे ने स्कूल में क्या किया? न ये पूछते कि आज का उसका दिन कैसा गुज़रा. कोई परेशानी तो नहीं. गांव अक्सर देखा है कि पिता बच्चों के मन में इतना खौफ होता है कि लड़कियां तो घर में घुसकर बैठ जाती हैं. और अगर बाप कहे कि पानी लाओ, मेरा ये सामान कहां है, तो ये लड़कियां दबे पांव पानी लाकर देती हैं, और सामान उठाकर देने लगती हैं. लड़कियों का अपनी बातें शेयर करना तो दूर पिता के सामने बोल भी नहीं पाती. जिसका फायदा अनजान लोग उठा लेते हैं और लड़कियों को धमका देते हैं कि किसी से कहा तो ऐसा कर देंगे. वैसा कर देंगे. तो कुछ बच्चे पिता के खौफ से ही बात नहीं बता पाते.

इन तस्वीरों को देखकर कोई कह सकता है कि ये लड़कियों ने अपनी मर्ज़ी से खिंचवाई. लेकिन ये तब तक नहीं हुआ होगा जब तक कि उन्हें या तो बहलाया नहीं गया हो या फिर किसी और तरह से तैयार न किया गया हो. लड़कियों की सुरक्षा के लिहाज से इन तस्वीरों को सोशल मीडिया पर अपलोड कर देना बहुत खतरनाक है. 

ऐसे में ज़रूरी है कि मां-बाप अपने बच्चों के साथ दोस्ताना व्यवहार करें, उनमें विश्वास जगाएं. ताकि बच्चे अपनी हर बात घर आकर शेयर कर सकें. ऐसा करने पर शायद बच्चे ज्यादा सुरक्षित हो.


ये भी पढ़िए :

सो रही लड़की की जांघ पर हाथ रखा, फिर लड़की ने जो किया, वो करना बहुत ज़रूरी था

खुद को ‘सेक्स का सुल्तान’ कहने वाला वीडियो बनाकर करता था ब्लैकमेल, पकड़ा गया

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

प्लेन और ट्रेन से जाने के लिए टिकट और किराए के नियम सरकार ने बताए हैं

जानिए, रेलवे के ऑफलाइन टिकट कहां से मिल सकते हैं.

क्या गुजरात में खराब वेंटीलेटर की वजह से 300 कोरोना मरीज़ों की मौत हो गई?

कांग्रेस ने विजय रूपाणी सरकार पर वेंटीलेटर घोटाले का आरोप लगाया है.

अब इस तारीख से देश के अंदर फ्लाइट्स से यात्रा कर सकेंगे

इससे पहले 200 नॉन एसी ट्रेन चलने की सूचना दी गई थी.

'अम्फान' आ चुका है, पश्चिम बंगाल में दो की मौत, कई घरों को नुकसान

ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में अपना असर दिखा रहा है.

प्रियंका गांधी ने जो गाड़ियां यूपी भेजी हैं, उनमें कितनी बसें हैं, कितने ऑटो?

छह सूचियों में कुल 1049 गाड़ियों की डिटेल्स भेजी गई है.

देशभर में 200 और ट्रेनें चलने की तारीख़ आ गई है

इस बार ख़ुद रेल मंत्री ने बताया है.

लॉकडाउन 4: दफ़्तरों के लिए क्या गाइडलाइंस हैं?

इस लॉकडाउन में तमाम तरह की छूट दी गई हैं.

प्रियंका गांधी वाड्रा की 1000 बसों में कुछ नंबर ऑटो और कार के कैसे निकल गए?

हालांकि संबित पात्रा ने भी जिस बस को स्कूटर बताया, वहां एक पेच है.

मज़दूरों की लाश की ऐसी बेक़द्री पर झारखंड के सीएम कसके गुस्साए हैं

घायल मज़दूरों के साथ अमानवीय व्यवहार करने का आरोप.

कोरोना की वैक्सीन को लेकर अच्छी खबर, जल्द ही आखिरी स्टेज का टेस्ट होने की उम्मीद

जुलाई के महीने को लेकर अहम बात भी कह डाली है.