Submit your post

Follow Us

सुरक्षा बलों के लिए जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने 49 बरस पुराना नियम बदल दिया है

जम्मू कश्मीर प्रशासन ने हाल ही में 49 बरस पुराने एक सर्कुलर को वापल ले लिया है. अब आर्मी, BSF, CRPF या इसी तरह सुरक्षा संबंधी किसी दूसरी संस्था को J&K में ज़मीन अधिग्रहण के नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट (NOC) की ज़रूरत नहीं है. दरअसल, आर्मी और बाकी संस्थाओं को अपने पक्ष में ज़मीन अधिग्रहित करने के लिए 1971 के एक सर्कुलर के तहत यहां के होम डिपार्टमेंट से NOC लेना होता था, लेकिन अब इसकी ज़रूरत नहीं है.

अब ये अधिग्रहण ‘भूमि अधिग्रहण में उचित मुआवजा और पारदर्शिता का अधिकार, पुनर्वास एवं पुनर्स्थापन एक्ट, 2013’ के तहत किए जाएंगे.

कब आया ये आदेश?

‘दी इंडियन एक्सप्रेस’ की रिपोर्ट के मुताबिक, ये आदेश 24 जुलाई को आया. जम्मू कश्मीर प्रशासन के रेवेन्यू डिपार्टमेंट ने इसे जारी किया. कहा,

“केंद्र शासित प्रदेश में ‘भूमि अधिग्रहण में उचित मुआवजा और पारदर्शिता का अधिकार, पुनर्वास एवं पुनर्स्थापन एक्ट, 2013’ के विस्तार को ध्यान में रखते हुए, 27 अगस्त 1971 की तारीख के सर्कुलर को वापस लिया जाता है. इस सर्कुलर के तहत आर्मी, BSF/CRPF या इसी तरह की संस्था के फेवर में ज़मीन अधिग्रहण के लिए होम डिपार्टमेंट से NOC की ज़रूरत होती थी.”

अगर ‘भूमि अधिग्रहण में उचित मुआवजा और पारदर्शिता का अधिकार, पुनर्वास एवं पुनर्स्थापन एक्ट, 2013’ की बात करें, तो इसके एक सेक्शन के तहत केंद्र शासित प्रदेशों में (पुडुचेरी को छोड़कर) नेवी, आर्मी, एयर फोर्स, सुरक्षा बलों, पैरामिलिट्री फोर्सेज़ के रणनीतिक मकसद और देश की सुरक्षा के किसी मकसद के लिए अगर ज़मीन की ज़रूरत होती है, तो उसके आवंटन का काम केंद्र सरकार देखती है.

1971 के सर्कुलर को वापस लेने के फैसले से कुछ दिन पहले जम्मू कश्मीर प्रशासन ने एक और फैसला लिया था. प्रशासन ने ‘कंट्रोल ऑफ बिल्डिंग ऑपरेशन एक्ट- 1988’ और ‘जम्मू-कश्मीर डेवलपमेंट एक्ट- 1970’ में एक संशोधन को मंज़ूरी दी थी. जो कि सशस्त्र बलों को ‘रणनीतिक क्षेत्रों’ में कंस्ट्रक्शन करने के लिए खास व्यवस्था देता है.


वीडियो देखें: जम्मू-कश्मीर सरकार ने कहा- पर्याप्त मात्रा में एलपीजी सिलेंडर स्टॉक कर लें

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

जिस मेट्रो स्टेशन के नीचे दंगे हुए, 5 महीने बाद भी दिल्ली पुलिस ने वहां से CCTV फ़ुटेज नहीं निकाली!

कोर्ट ने कहा, 'पुलिस में अजीब-सी सुस्ती है वीडियो फ़ुटेज को लेकर'

मास्क बांटने के बहाने बच्चे को किडनैप किया, चार करोड़ मांगे, पुलिस ने 24 घंटे में पकड़ लिया

यूपी के गोंडा का मामला, पांच आरोपी भी गिरफ्तार.

चुनाव आयोग ने बीजेपी IT सेल से जुड़ी कंपनी से चुनावी कामधाम करवाया!

ये कम्पनी पूर्व महाराष्ट्र सरकार और दूसरे सरकारी विभागों का भी काम देख रही थी.

इंडिया में कोरोना की वैक्सीन का दाम पता चल गया है, लेकिन पैसे आपको नहीं देने होंगे!

क्या कहा बनाने वाले आदर पूनावाला ने?

बाइक चला रहे CJI बोबड़े पर ट्वीट करने पर twitter और वकील प्रशांत भूषण पर अवमानना का केस हो गया!

सुनवाई में ट्वीट डिलीट करने की बात पर कोर्ट ने क्या कहा?

जाटों-पंजाबियों को बिना बुद्धि का बोलकर माफ़ी मांगने लगे बीजेपी के सीएम

और कौन? वही त्रिपुरा के सीएम बिप्लब देब.

इन तीन परिवारों के उजड़ने की कहानी से समझिए कि कोरोना से बचाव कितना ज़रूरी है

पहले मां की मौत, फिर एक के बाद एक 5 बेटों की मौत

दिशा सालियान की मौत के बाद क्या सुशांत सिंह ने डिप्रेशन की दवाइयां लेनी बंद कर दी थीं?

डॉक्टर ने पुलिस द्वारा की गई पूछताछ में बताया

मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन नहीं रहे

वो 85 बरस के थे, कई दिनों से अस्पताल में भर्ती थे.

उत्तर बिहार में हर साल क्यों आती है बाढ़, अभी कैसे हैं हालात

भौगोलिक स्थिति समझना बहुत जरूरी है.