Submit your post

Follow Us

AIMIM सांसद की धमकी- मस्जिद खोलने की इजाज़त नहीं मिली, तो रोड पर पढ़ेंगे नमाज

हम आखिर कब तक इंतज़ार करेंगे? यह लोकशाही है, आप की हुक्मशाही और बेतुके निर्णय को अब जनता भी कब तक बर्दाश्त करेगी? तो हमने ये फैसला किया है कि एक तारीख़ के दिन जब यहां महाराष्ट्र के अंदर गणेश विसर्जन किया जाता है, बड़ा दिन होता है, हमारे हिंदू भाइयों के लिए. मैं तमाम हिन्दू भाइयों से अनुरोध करूंगा कि एक तारीख के दिन तमाम मंदिरें खुलवाने लग जाइएगा, 2 तारीख़ के दिन हम तमाम मस्जिदों को खोलने का आह्वान करेंगे. सरकार अगर इजाज़त दे तो ठीक, नहीं तो हम रोड पर नमाज पढ़ेंगे.

ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन. यानी AIMIM से औरंगाबाद से सांसद इम्तियाज जलील ने न्यूज चैनल ABP से बातचीत में ये बातें कहीं. उन्होंने धार्मिक स्थल खोलने को लेकर 26 अगस्त को दो ट्वीट किए थे. सरकार से पूछा था कि सिर्फ धार्मिक स्थलों को ही क्यों बंद रखा गया है?

‘जब बिजनेस, फैक्ट्रियां, बाज़ार, हाइवे खोल दिए गए हैं, यहां तक कि बसें, रेलगाड़ियां और फ्लाइट्स संचालित हो रही हैं, तो ऐसे में सरकार को किसने बताया कि कोरोना सिर्फ धार्मिक स्थलों से फैलेगा. सरकार की राजस्व-कमाई वाली शराब की दुकानें भी खोल दी गई हैं, सीमित लोग शादी-विवाह के लिए इकट्ठा हो सकते हैं, ऐसे में केवल धार्मिक स्थल क्यों बंद हैं?

हम सभी ने मेडिकल के बुनियादी ढांचे में सुधार के लिए छह महीने तक सरकार के साथ सहयोग किया और इंतजार किया. अब जब सब कुछ खुल रहा है, तो केवल धार्मिक स्थल क्यों बंद रखे गए हैं ? यह लॉजिकल नहीं है. मैं महाराष्ट्र सरकार को अल्टीमेटम देता हूं कि 1 सितंबर से सभी मंदिरों को खोल दे और हम 2 सितंबर से सभी मस्जिद खोल देंगे!

Tweet
ट्वीट का स्क्रीनशॉर्ट

सांसद के इस बयान का विरोध शुरू हो गया है. पूर्व प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा राव के बेटे और बीजेपी नेता एनवी सुभाष ने कहा कि सरकार को अल्टीमेटम देना हास्यास्पद है. ‘इंडिया टुडे’ की खबर के मुताबिक, एनवी सुभाष ने कहा-

एक सांसद होने के नाते एआईएमआईएम के नेता को धार्मिक तौर पर मुसलमानों को उकसाना नहीं चाहिए. ऐसे समय में जब देश कोरोना संकट से जूझ रहा है. वह राज्य सरकार को वॉर्निंग कैसे दे सकते हैं. वो सड़कों को नमाज के लिए मुस्लिमों से भर देंगे.

एनवी सुभाष ने महामारी के दौरान धार्मिक मामलों पर लोगों को उकसाने के लिए सांसद के खिलाफ मामला दर्ज करने की भी मांग की. उन्होंने गणेश विसर्जन के साथ मस्जिदों के खुलने की तुलना को खारिज करते हुए कहा कि यह उचित नहीं है, क्योंकि गणेश की मूर्तियों का विसर्जन एक ऐसा कार्यक्रम है, जो एक या दो दिनों में पूरा हो जाएगा. लॉकडाउन की सावधानियों के साथ इसे किया जाएगा.

देश में कोरोना केस के मामले में महाराष्ट्र पहले नंबर पर है. ऐसे में AIMIM सांसद धार्मिक स्थल खोलने की मांग कर रहे हैं. हालांकि 25 अगस्त को ट्वीट कर कोरोना के समय JEE और NEET के एग्जाम कराने पर वो सवाल उठा रहे थे. उन्होंने ट्वीट किया था-

क्या परीक्षा जीवन से ज्यादा महत्वपूर्ण है? जाहिर है कि सरकार छात्रों के जीवन की बहुत परवाह नहीं करती है, वरना जब महामारी अभी भी है, तो वे परीक्षा क्यों आयोजित करेंगे. अगर कोरोना का डर चला गया है, तो पहले संसद सत्र बुलाएं और देखें कि बीजेपी के कितने सांसद इसमें भाग लेते हैं.


सुप्रीम कोर्ट ने मुहर्रम के जुलूस को लेकर बहुत ज़रूरी बात कह दी है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

NEET, JEE आगे बढ़ाने की मांग कर रहे छात्र ये पांच कारण बता रहे हैं

तय समय पर परीक्षा कराने के लिए 150 शिक्षाविदों ने लिखी PM मोदी को चिट्ठी.

कोर्ट ने कहा, ये शर्त पूरी किए बिना अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा पर दिल्ली दंगों में हेट स्पीच का केस नहीं

बीजेपी नेताओं के खिलाफ़ याचिका ख़ारिज करते हुए अदालत ने और क्या कहा, ये भी पढ़िए.

पाकिस्तान के किस बयान में इंडिया ने एक के बाद एक पांच झूठ पकड़ लिए हैं?

पाकिस्तान ने आतंकवाद फैलाने में भारत का नाम ले लिया, बस हो गया काम.

सोनिया-राहुल को पत्र लिखने पर कांग्रेस मंत्री ने नेताओं से कहा, ‘खुल्लमखुल्ला टहलने नहीं दूंगा’

माफ़ी नहीं मांगने पर परिणाम भुगतने की बात कर डाली.

प्रशांत भूषण के खिलाफ़ अवमानना का मुक़दमा सुन रहे सुप्रीम कोर्ट के इन तीन जजों की कहानी क्या है?

पूरी रामकहानी यहां पढ़िए.

महाराष्ट्र: रायगढ़ में पांचमंज़िला इमारत ढही, 50 से ज़्यादा लोग दबे

एनडीआरएफ की तीन टीमें राहत के काम में जुटी हैं.

क्या 73 दिन में कोरोना वैक्सीन आ रही है? बनाने वाली कंपनी ने बताई सच्ची-सच्ची बात

कन्फ्यूजन है कि खुश होना है या अभी रुकना है?

प्रशांत भूषण ने कही ये बात, तो कोर्ट बोला- हजार अच्छे काम से गुनाह करने का लाइसेंस नहीं मिल जाता

बचाव में उतरे केंद्र की अपील, सजा न देने पर विचार करें, सुप्रीम कोर्ट ने दिया दो-तीन दिन का वक्त

सुशांत पर सुप्रीम कोर्ट ने CBI जांच का आदेश दिया, महाराष्ट्र के वकील को आपत्ति

कोर्ट ने कहा, सारे काग़ज़ CBI को दे दीजिए.

बिहार : महीनों से बिना सैलरी के पढ़ा रहे हैं गेस्ट टीचर, मांगकर खाने की आ गई नौबत!

इस पर अधिकारियों ने क्या जवाब दिया?