Submit your post

Follow Us

केरल के साथ उत्तराखंड में भी बारिश का कहर, सड़कें, इमारतें, पुल ध्वस्त, 16 की मौत

केरल में भारी बारिश और बाढ़ से अब तक 35 लोगों की मौत हो चुकी है. यहां बड़ी संख्या में घर और इमारतें ढह गए हैं, जिनके मलबे से लोगों को निकालने का काम जारी है. हजारों लोग विस्थापित हुए हैं. ऐसा ही भयावह मंज़र उत्तराखंड में देखने को मिल रहा है. पिछले 3 दिनों में उत्तराखंड में भारी बारिश ने बड़ी आपदा का रूप ले लिया है. सड़कों और इमारतों में पानी भर गया है, पुल नष्ट हो गए हैं और नदियां ओवरफ़्लो पर हैं. नैनीताल का तो बाकी राज्य से संपर्क ही कट गया है. ताजा अपडेट ये है कि मंगलवार 19 अक्टूबर को 11 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की गई है. इस तरह उत्तराखंड में भारी बारिश से मारे गए लोगों का आंकड़ा 16 तक पहुंच गया है.

प्रदेश के कई इलाक़ों में स्थानीय लोग और पर्यटक फंसे हुए हैं. हालात देखते हुए सरकार ने बचाव और राहत कार्य के लिए एनडीआरएफ़ की कई टीमों को तैनात किया है.

अभी क्या स्थिति है?

रामगढ़ से 6 किलोमीटर दूर सकुना क्षेत्र में डामरीकरण का काम कर रहे कुछ मजदूरों के मलबे में दबने की खबर है. इनकी संख्या 9 बताई गई है. खबर के मुताबिक, बीती रात को भूस्खलन की चपेट में आने से वहां बने मकान की दीवार गिर गई, जिसमें ये मजदूर दब गए. कुल 10 मजदूरों में से केवल एक के किसी तरह बच जाने की जानकारी आई है. वहीं एसडीआरएफ़ की टीमें घटनास्थल पर पहुंच गई हैं.  

न्यूज़ एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़, कल तक नेपाल के 3 मज़दूरों समेत कम से कम 5 लोगों की मौत हो चुकी थी. जिलाधिकारी विजय कुमार जोगदंडे ने बताया कि ये मज़दूर पौड़ी ज़िले के लैंसडाउन के पास रह रहे थे. भूस्खलन ने उन्हें चपेट में ले लिया.

इसके अलावा चंपावत ज़िले में एक घर के गिरने से दो लोगों की मौत हो गई थी. यहां जल स्तर बढ़ने के कारण चलठी नदी पर बन रहा है एक पुल भी बह गया.

इस इलाके से कई डराने वाले वीडियो सामने आ रहे हैं. एक वीडियो में दिख रहा है कि कैसे एक पर्यटक की गाड़ी बाढ़ में बह गई. वो आगे एक चट्टान से अड़ कर रुक गई तब जाकर स्थानीय लोगों की मदद से पर्यटक को निकाला गया.
एक दूसरे वीडियो में पुल पर कुछ लोग खड़े हैं और पुल ध्वस्त हो रहा है. वे पुल के दूसरी ओर से आ रहे लोगों को चिल्लाकर चेता रहे हैं कि वे इधर ना आएं.

कांग्रेस नेता रहीं शर्मिष्ठा मुखर्जी ने ट्वीट के ज़रिए बताया कि वे रानीखेत में रह रही हैं, जहां 2 दिन से लगातार बारिश हो रही है. आसपास के इलाक़े में कई पेड़ गिरे हैं, जिसकी वजह से सड़कों पर आना-जाना ख़तरनाक है.

नैनीताल की स्थिति सबसे बुरी है

उत्तराखंड के पर्यटकीय आकर्षण नैनीताल की स्थिति सबसे बुरी है. यहां इमारतों और घरों में पानी घुस गया है और कई लोग फंसे हुए हैं. ज़िले के रामगढ़ गांव में 19 अक्टूबर की सुबह बादल फट गया जिससे पैदा हुए मलबे में कई लोग दब गए. पुलिस और प्रशासन की टीम मौक़े पर पहुंची. नैनीताल एसएसपी प्रीति प्रियदर्शनी ने बताया,

“कई घायलों को रेस्क्यू कर लिया गया है. अभी तक आंकड़ों की पुष्टि नहीं की गई है.”

आजतक को मिली जानकारी के मुताबिक, नैनीताल झील ओवरफ्लो होकर भवाली और हल्द्वानी दोनों मार्गों की तरफ बिल्कुल पानी की नदी जैसी बह रही है. हालात ये हो गए कि कैंट की तरफ जो दुकानें भवाली रोड पर थीं, वहां करीब 25-30 लोग पिछले 14 घंटों से फंसे हुए थे जिन्हें सेना की मदद से बाहर निकला गया.

Heavy Rain
तस्वीर- आजतक.

नैनीताल से क़रीब 30 किलोमीटर दूर खैरना और बेतालघाट में बहने वाली शिप्रा नदी में भी पानी ख़तरे के निशान से ऊपर बह रहा है. इससे खैरना और गरमपानी बाज़ार इलाके में बनी कई इमारतें बह गई हैं. प्रशासन लगातार क्षेत्र की निगरानी कर रहा है. तहसील और सरकारी इंटर कॉलेजों में आपदा ग्रस्त लोगों को अस्थायी कैंप मुहैया करवा रहा है.  

रामनगर और नैनीताल में लगातार हो रही बारिश से कोसी नदी का जलस्तर बढ़ रहा है. इसकी वजह से उत्तर प्रदेश को भी अलर्ट जारी किया गया है. नदी के पास रहने वाले लोगों को हटा लिया गया है.

सरकार क्या कर रही है?

मौसम विभाग ने 17 से 19 अक्टूबर के बीच उत्तराखंड के सभी 13 जिलों के लिए भारी बारिश के साथ बिजली गिरने, ओला वृष्टि और तूफ़ानी हवाओं की चेतावनी दी थी. अब राज्य के संकट को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और केंद्रीय मंत्री अजय भट्ट से आपदा प्रबंधन के संबंध में बात की है.

एक सरकारी अधिकारी ने मीडिया से बात करते हुए बताया,

“वायु सेना से हमने हेलीकॉप्टर के लिए विनती की है. अगले 1 घंटे में राहत के लिए दो हेलीकॉप्टर नैनीताल पहुंच जाएंगे. जो लोग टापू इलाक़ों में फंसे हैं, उनको निकालने का प्रयास है.”

केरल के हालात

अब बात केरल की जहां भारी बारिश के बाद आई बाढ़ और भूस्खलन से मरने वालों की संख्या 35 हो चुकी है. बेहद संकटपूर्ण हालात के मद्देनजर पी विजयन सरकार ने 18 अक्टूबर को ही अलर्ट जारी किया था. इसमें उसने लोगों से अपील की थी कि वे सुरक्षित जगहों पर चले जाएं. साथ ही सरकार ने केरल के कई बांधों का पानी छोड़ने की भी बात कही थी. इसके बाद मंगलवार 19 अक्टूबर की सुबह 11 बजे इडुक्की स्थित डैम से पानी छोड़ा गया. ये केरल का सबसे बड़ा जलाशय है.

मौसम विभाग ने तिरुवनंतपुरम, कोट्टायम, एर्नाकुलम, इडुक्की, त्रिशूर, पलक्कड़, मलप्पुरम, कोझीकोड, वायनाड और कन्नूर में 20 अक्टूबर तक के लिए ऑरेंज अलर्ट और कासरगोड, अलापुझा और कोल्लम में येलो अलर्ट जारी किया है. कई दूसरे हिस्सों में 20 अक्टूबर के बाद के तीन दिनों तक भारी बारिश होने की चेतावनी भी दी गई है.


केरल में भारी बारिश के चलते लैंडस्लाइड, अब तक 25 से ज़्यादा लोगों की मौत –

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

शाहजहांपुर में वकील ने ही मारी थी वकील को गोली, कहा- मजबूरी थी

“या तो सुसाइड कर लेता या उसे मार देता.”

वायुसेना की इन वैकेंसी के रिजल्ट घोषित नहीं होने से कैंडिडेट क्यों इतने डरे हुए हैं?

हाल में सोशल मीडिया पर कैंपेन चलाकर रिजल्ट जारी करने की मांग कर रहे थे कैंडिडेट्स.

यूपी : BJP विधायक ने फ़र्ज़ी मार्कशीट पर पढ़ाई की थी, कोर्ट ने जेल में डाल दिया

अयोध्या का मामला, साथ में दो और नेता नप गए

T20 वर्ल्ड कप से पहले टीम इंडिया ने किया बाकी टीमों को डराने वाला काम!

राहुल और ईशान ने तो गर्दा उड़ा दिया.

लखीमपुर खीरी हिंसा: पुलिस ने 4 फरार आरोपी गिरफ्तार किए, एक थार गाड़ी में था

लाइसेंसी रिवॉल्वर और 3 गोलियां भी मिली हैं.

कौन हैं नितिन अग्रवाल, जिन्हें बीजेपी ने विधानसभा उपाध्यक्ष बनाया है?

2017 में सपा के टिकट पर चुने गए थे विधायक.

भारत-पाकिस्तान मैच पर भड़के गिरिराज सिंह को मिला BCCI से जवाब!

इस मुद्दे पर क्या बोला BCCI?

यूपी पुलिस के दारोगा ने चोरी के पैसे वसूले और खुद डकार गया, SP बोले- बेरहम कार्रवाई करूंगा

चोर और पुलिस में कोई अंतर है या नहीं?

'रामायण के राम को फिर से वही रोल मिल गया, वो भी अक्षय की फ़िल्म में

अरुण गोविल बनेंगे राम और कृष्ण के रोल में दिखाई देंगे अक्षय कुमार

राम रहीम ने ही बनाया था वो खेल, जिसमें इंडिया ओलंपिक के सारे मेडल जीत लाता!

नाम भी एकदम गजब!