Submit your post

Follow Us

कैमरे के सामने गरबा कर रहा था, फिर कुछ ऐसा हुआ कि देखकर डर जाएंगे

कहते हैं हमारी मौत का पता हमारे पैरों को होता है. जहां हमारी मौत लिखी होती है हमारे कदम ठीक उसी जगह पर, तय समय पर लेकर पहुंच जाते हैं. ऐसा ही गुजरात के सूरत में रहने वाले एक शख्स के साथ हुआ है. इनका नाम जगदीश है. संगी साथी इन्हें जगदीश भाई के नाम से पुकारते थे. अपने साथी दोस्तों के साथ जगदीश गरबा कर रहे थे तभी उन्हें हार्ट अटैक आया और जगदीश भाई तुरंत ही फर्श पर गिर पड़े. वहीं पर उनकी मौत भी हो गई.

जगदीश भाई के शव को ले जाते हुए कुछ लोग.
जगदीश भाई के शव को ले जाते हुए कुछ लोग.

पूरा मामला ये है कि जगदीश सूरत से 6 दोस्तों की एक टोली में गुजरात और राजस्थान के कुछ हिस्से घूमने निकले. ये सभी कपल में थे यानी इनकी पत्नियां भी इनके साथ थीं. सबसे पहले इन्होनें गुजरात स्थित अम्बाजी शक्तिपीठ में देवी के दर्शन किए. वहां से ये राजस्थान के माउंट आबू पहुंचे. माउंट आबू में दो रातें गुजारने का प्लान था. सभी दोस्त शाम को खाना खाने के लिए एक होटल में पहुंचे. चूंकि ये समय नवरात्री का चल रहा है इसलिए होटल में गरबा हो रहा था. वहां लाईट और साउंड की अच्छी व्यवस्था थी. सभी दोस्तों का गरबा खेलने का मन कर आयाख़ु  सभी दोस्त खुशी-ख़ुशी गरबा खेल रहे थे. तभी अचानक से जगदीश भाई को सीने में कुछ दर्द महसूस हुआ. वह इक पल के रुके ही थे कि धड़ाम से धरती पर गिर गए. उनके मूंह से खून भी निकलने लगा. तुरंत ही जगदीश को नजदीकी अस्पताल ले जाया गया. जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया. आप इस घटना का वीडियो यहां भी देख सकते हैं-

वहां से पोस्टमार्टम के बाद जगदीश के शव को परिजनों को सौंप दिया. इस तरह मिनटों में ही जगदीश अपने परिवारीजनों, दोस्तों के बीच से हमेशा हमेशा के लिए चले गए.


ये स्टोरी हमारे यहां इंटर्नशिप कर रहे श्याम ने की है 


वीडियो देखें: Heart Attack और Cardiac Arrest से कैसे बचा जाए 

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

लॉकडाउन के बीच इस कंपनी ने 600 लोगों को नौकरी से निकाल दिया?

स्थानीय विधायक ने मामले की शिकायत कर्नाटक सरकार और केंद्र सरकार से की है.

आयुष्मान कार्ड वालों की फ़्री कोरोना जांच होगी, लेकिन 2 करोड़ परिवार इस लिस्ट से ही ग़ायब!

क्या गड़बड़ी हुई गिनती में?

20 अप्रैल से कौन-कौन से लोग अपना काम-धंधा शुरू कर सकते हैं?

और खाने-पीने के सामान को लेकर सरकार ने क्या कहा?

लॉकडाउन के बीच ज़रूरी सामान भेजना है? बस एक कॉल पर हो जाएगा काम

रेलवे अधिकारियों ने शुरू की है 'सेतु' सर्विस.

सड़क पर मजदूरों संग खाना खाने वाले अर्थशास्त्री ने सरकार को कमाल का फॉर्मूला सुझाया है

कोरोना और लॉकडाउन ने मजदूर को कहीं का नहीं छोड़ा.

सरकार की नई गाइडलाइंस, जानिए किन इलाकों में, किन लोगों को लॉकडाउन से छूट

कोरोना से निपटने के लिए लॉकडाउन पहले ही बढ़ाया जा चुका है.

टेस्टिंग किट की बात पर राहुल गांधी ने भारत की तुलना किन देशों से की?

कहा, 'हम पूरे खेल में कहीं नहीं हैं.'

चीन से भारत के लिए चली टेस्टिंग किट की खेप अमरीका निकल गयी!

और अभी तक भारत में नहीं शुरू हो पाई मास टेस्टिंग.

कोरोना: मरीजों की खातिर बेड और लैब के लिए कितना तैयार है भारत, PM मोदी ने बताया

लॉकडाउन बढ़ाने के अलावा पीएम ने क्या-क्या कहा?

15 अप्रैल को लॉकडाउन-2 की जो गाइडलाइंस आनी हैं, उनमें क्या-क्या हो सकता है

पूरे देश में 3 मई तक लॉकडाउन बढ़ चुका है.