Submit your post

Follow Us

किसानों ने खट्टर के काफिले को रोक काले झंडे दिखाए तो हत्या की कोशिश का केस क्यों दर्ज हो गया?

हरियाणा के किसानों ने 22 दिसंबर को नए कृषि कानूनों के विरोध में अंबाला में प्रदर्शन करते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को काले झंडे दिखाए थे. अब इस मामले में हरियाणा पुलिस ने घटना में शामिल 13 किसानों पर हत्या की कोशिश और दंगा करने की धाराओं में केस दर्ज किया है.

अंबाला के डीएसपी मदन लाल ने आजतक से बात करते हुए बताया कि 22 दिसंबर की देर रात 13 किसानों के खिलाफ़ अंबाला में ही मामला दर्ज किया गया है. आईपीसी की 9 धाराओं के तहत केस फाइल किया गया है. इनमें 307 (हत्या की कोशिश), 147 (दंगे की कोशिश), 506 (आपराधिक धमकी), 148 (हथियार से मारपीट), 322 (जानबूझ कर चोट पहुंचाना), 149 (अवैध सभा) और सेक्शन 353 आदि शामिल हैं.

पुलिस का दावा है कि 22 दिसंबर की इस घटना में कुछ किसानों ने सीएम के काफिले की ओर भी बढ़ने की कोशिश की थी. कुछ वक्त के लिए रास्ता भी रोक दिया था. कुछ प्रदर्शनकारियों ने तो वाहनों पर लाठियां भी बरसाई थीं.

किसानों का क्या कहना है?

भारतीय किसान यूनियन के अंबाला जिलाध्यक्ष मलकीत सिंह ने किसानों पर FIR के लिए खट्टर सरकार की आलोचना की है. इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में उन्होंने दावा किया कि किसान सिर्फ विरोध-प्रदर्शन करने गए थे, किसी को मारने नहीं. जब भी किसान आंदोलन को लेकर कोई बात आती है तो पुलिस हमारे खिलाफ़ हत्या की कोशिश से कम के आरोप नहीं लगाती. किसान आंदोलन को लेकर अधिकारियों द्वारा बंद की गई सड़क को खोलने के लिए भी हत्या के प्रयास के आरोप लगा दिए जाते हैं.

मलकीत सिंह ने आगे कहा कि सरकार इस तरह के हथकंडों से किसानों की आवाज़ को नहीं दबा सकती. कभी वे किसानों को कांग्रेसी बता देते हैं, तो कभी किसी और विपक्षी पार्टी का बता देते हैं. हम किसी पार्टी से नहीं जुड़े हैं. हम सिर्फ किसान हैं. हम गांवों में ऐसे बोर्ड लगा रहे हैं, जिनमें लिखा गया है कि किसानों की हित की बात करने वाले नेताओं को ही गांव में एंट्री मिलेगी. किसान विरोधी नेताओं को गांव में प्रवेश की इज़ाज़त नहीं दी जाएगी.

कांग्रेस पार्टी का क्या कहना है?

किसानों पर केस दर्ज किए जाने को लेकर कांग्रेस पार्टी ने विरोध जताया है. हरियाणा कांग्रेस की प्रमुख कुमारी शैलजा ने कहा कि खट्टर सरकार किसानों की आवाज को लगातार दबा रही है. सरकार ने किसानों के खिलाफ मामला दर्ज करके सारी हदें पार कर दी हैं. किसानों के खिलाफ हत्या की कोशिश जैसी धाराओं में मुकदमा दर्ज करने से सरकार की हताशा का ही पता चलता है.

हुआ क्या था?

22 दिसंबर को मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर निकाय चुनावों के लिए पार्टी के उम्मीदवारों के समर्थन में जनसभा को संबोधित करने के लिए अंबाला आए थे. इसी दौरान किसानों ने केंद्र सरकार के नए कृषि कानून का विरोध करते हुए मुख्यमंत्री के काफिले को रोककर काले झंडे दिखाए थे. सरकार के खिलाफ नारेबाजी की थी. आरोप है कि लाठियां भी चलाई गई थीं.


विडियो- विदेशी चंदे पर सरकारी एजेंसी ने सवाल किया तो किसानों ने ये क्या कह दिया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

हाथरस के मंदिर में रात को 3 लोग आए, 5 बार हाथ जोड़े और वॉशिंग मशीन, दानपेटी उठा ले गए

पुलिस का दावा है कि मामला चोरी का नहीं है

UP की फैक्ट्री में बड़ा हादसा, दो लोगों की मौत हो गई और 15 लोग घायल हैं

अमोनिया गैस लीक होने के चलते हुए हादसा.

कभी कृषि कानूनों की पक्षधर रहीं पार्टियों ने अब यूटर्न क्यों ले लिया है?

जानिए पहले क्या था इन राजनीतिक दलों का स्टैंड

क्या बढ़िया फ्रिज न होने के कारण इंडिया में कोरोना वैक्सीन लगने में और लेट हो सकती है?

कोल्ड चेन का पूरा तिया पांचा यहां समझिए.

साल 2015 के बाद गुजरात, केरल, बंगाल, महाराष्ट्र और बिहार के बच्चों में बढ़ा कुपोषण

सर्वे का दावा, बच्चों की लम्बाई और वज़न ख़तरनाक तरीक़े से घट रहे

क्या कोरोना की नई वैक्सीन लगवाने के बाद लोगों को लकवा मार जा रहा है?

वैक्सीन लगवाने पर कुछ लोगों में एलर्जी की समस्या भी सामने आई है.

किसान आंदोलन के समर्थन में वैज्ञानिक ने केंद्रीय मंत्री के हाथ से अवॉर्ड लेने से मना कर दिया

पत्र में कहा, 'ये मेरी अंतरात्मा के खिलाफ़ है'

350 करोड़ का स्कैम उजागर करने वाले RTI एक्टिविस्ट की मौत पर पुलिस और फ़ैमिली अलग कहानी क्यों बता रहे?

पुलिस ने कहा कि दुर्घटना में मौत हुई, परिवार हत्या का आरोप लगा रहा

एनकाउंटर पर सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज ने कहा, 'ऐसा ही चलता रहा तो कोई भी शिकार बन सकता है'

हैदराबाद के ICFAI लॉ स्कूल में रूल ऑफ लॉ पर लेक्चर दे रहे थे जस्टिस चेलमेश्वर.

कोरोना का ट्रायल वैक्सीन लेने वाले हरियाणा के मंत्री कोरोना पॉजिटिव पाए गए

कोरोना की वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल के दौरान टीका लगाया गया था.