Submit your post

Follow Us

इंसान की तरह डरने, बिगड़ने और इश्क करने लगे रोबोट

5
शेयर्स

दो सौ साल पहले एचजी वेल्स ने एक कहानी लिखी थी. एक साइंटिस्ट रोबोट बनाता है. जहां उसकी लैब होती है. ठीक उसी के नीचे होता है एक बगीचा. वहां अकसर कपल्स आकर बैठते हैं. कपल्स की बातें रोबोट सुनता है और प्यार करना सीख जाता है. वैज्ञानिक की बेटी को प्यार करने लगता है. लेकिन एक दिन उसी लड़की को मार डालता है. वैज्ञानिक वजह खोजता है तो पता लगता है रोबोट इस तरह प्रोग्राम्ड था कि उसके सीने से लगने वाले को मार डाले. वैज्ञानिक की बेटी जब उसके गले लगी तो रोबोट ने वही किया. 

ये डर जो दो सौ साल पहले नजर आया था, अब भी लोगों का पीछा करता है. कल को रोबोट सोचने लगे. अपने मन की करने लगे. प्यार या नफरत करना सीख गए तो क्या होगा? आदमी ऐसा हो चला है कि खुद की संवेदना के मरने से ज्यादा डर उसे मशीनों के संवेदनशील होने से लगता है. इसी लीक पर कई फिल्में भी बनीं. जहां रोबोट्स के इमोशन सबसे बड़ा किरदार थे.

1. शार्ट सर्किट

शांति के दिनों में न्यूटन क्रोस्बी ने अमेरिका के लिए ढेरों रोबोट बनाए. जो लोगों से हिल-मिल सके. लोगों की ड्रिंक में बर्फ मिला सकें. उनके लिए गाने बजा सके. एक रोज ऐसे ही एक रोबोट पर बिजली गिर पड़ती है और वो ज़िंदा हो पड़ता है. अपनी अक्ल चलाने लगता है. अच्छा-बुरा समझने लगता है और फैसले लेने लगता है. स्टेफनी और न्यूटन जैसे दोस्त भी बना लेता है. रोबोट को लैब से निकलकर आम लोगों के बीच पहुंचा देख उसे बनाने वाली संस्था नोवा लैब उसके पीछे पड़ जाती है और नंबर 5 को ख़त्म करने के मंसूबे पालने लगती है.

2. ऑटोमेटा

सन 2044 लगा है. दुनिया की 99 फीसदी आबादी सौर विकिरण से खत्म हो चुकी है. बचे हुए 1 फीसदी लोग जैसे-तैसे जिंदगी बिता रहे हैं. तभी एक और मुसीबत दस्तक देती है. जिन रोबोट्स को इंसानों ने अपने काम के लिए बना रखा है. वो इंसानों के बनाए तमाम नियम तोड़ने लगते हैं. इन रोबोट्स की खुद की बस्ती है जहां हर किस्म के रोबोट मिलकर रहते हैं.

3. हिनोकियो

सटोरू नाम का लड़का जो हाल ही में बड़े एक्सीडेंट से उबरा है. चल-फिर नही सकता. एकदम अकेला पड़ चुका है. ऐसे में उसकी मदद के लिए उसके पिता रिमोट से चलने वाला रोबोट लाते हैं. सटोरू अपने घर पर बैठा रोबोट की नजर से दुनिया देखता है. रोबोट उसकी जगह स्कूल जाता है. उसकी जगह खेलता है. उसके दोस्तों से मिलता है. फिल्म इस बारे में है कि छोटा सा बच्चा जो एक कमरे में बैठकर एक स्क्रीन पर रोबोट की मदद से दुनिया देख रहा है. फिल्म इस बारे में भी है कि अपने दोस्त की जगह एक रोबोट को पाकर कैसे सटोरू के दोस्त रिएक्ट करते हैं और कैसे बाद में उसे अपना लेते हैं. एक दिन जब हिनोकियो चला जाता है तो सटोरू की जिंदगी कैसे बदलती है, यह फिल्म में देखिए.

4. ईवा

एलेक्स रोबोट इंजीनियर है. सालों बाद घर लौटा है. उस घर जहां उसका भाई डेविड है. भाई की बीवी 'लाना' है जो पहले कभी उसके साथ काम करती थी उससे प्यार करती थी. और एक भतीजी है 'ईवा' . ईवा का रुझान एलेक्स में रहता है. एक रोज ईवा के कारण लाना की मौत हो जाती है और पता चलता है कि ईवा एक रोबोट है. जिसे लाना और एलेक्स ने मिलकर बनाया है. ईवा एलेक्स की ओर खिंची आती थी क्योंकि एलेक्स ने ही उसे बनाया था.

5. रोबोट एंड फ्रैंक

एक पुराना चोर है. अब बूढ़ा हो चला है. डिमेंशिया से जूझता रहता है. उसका एक बेटा है जिसकी अपनी अच्छी-खासी जिन्दगी है. और वो दूर कहीं रहता है. हर हफ्ते बाप की निगरानी के लिए आते-आते थक जाता है तो फ्रैंक को एक रोबोट पकड़ा जाता है. पहले तो फ्रैंक रोबोट को पसंद नही करता. बाद में उसकी रोबोट से बनने लगती है. एक से दो हुए तो फ्रैंक का दिमाग दौड़ने लगता है. वो रोबोट का इस्तेमाल चोरियां करके लाइब्रेरियन को खुश करने में करता है. टंटा खड़ा हो जाता. पुलिस के चक्कर शुरू हो जाते हैं. सारी कायनात फ्रैंक और उसके रोबोट के पीछे पड़ जाती है. और इस सबके बीच जो पनपता है. वो फ्रैंक और रोबोट के बीच का रिश्ता होता है. रोबोट की मेमोरी को पुलिस फ्रैंक के खिलाफ सुबूत के तौर पर इस्तेमाल कर सकती थी. फ्रैंक को डिमेंशिया की समस्या है. वो ये तक भूल जाता है कि लाइब्रेरियन उसी की पहली बीवी थी. ऐसे में जब रोबोट की याद्दाश्त मिटाने की बात सामने आती है तो फ्रैंक और रोबोट का रिश्ता और भी इमोशनल हो पड़ता है.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

सेक्रेड गेम्स 2: रिव्यू

त्रिवेदी के बाद अब 'साल का सवाल', क्या अगला सीज़न भी आएगा?

फिल्म रिव्यू: बाटला हाउस

असल घटना से प्रेरित होते हुए भी असलियत के बहुत करीब नहीं है. लेकिन बहुत फर्जी होने की शिकायत भी इस फिल्म से नहीं की जा सकती.

फिल्म रिव्यू: मिशन मंगल

फील गुड कराने वाली फिल्म.

दीपक डोबरियाल की एक शब्दशः स्पीचलेस कर देने वाली फिल्म: 'बाबा'

दीपक ने इस फिल्म में अपनी एक्टिंग का एवरेस्ट छू लिया है.

फिल्म रिव्यू: जबरिया जोड़ी

ये फिल्म कंफ्यूज़ावस्था में रहती है कि इसे सोशल मैसेज देना है कि लव स्टोरी दिखानी है.

क्या जापान का ये आर्क ऐटम बम और सुनामी झेलने के बाद भी जस का तस खड़ा है?

क्या ये आर्क परमाणु बम, भूकंप और विशाल समुद्री लहरें झेल गया है?

फिल्म रिव्यू: ख़ानदानी शफ़ाखाना

'खानदानी शफाखाना' की सबसे दिलचस्प बात उसका नाम और कॉन्सेप्ट ही है.

ऐसी बवाल गैंग्स्टर फिल्म आ रही है कि आप दोस्तों से Netflix का पासवर्ड मांगते फिरेंगे

जिसने बनाया है, अनुराग कश्यप ने उसके पैर पकड़ लिए थे

जानिए कैसे खरीदते हैं यूट्यूब पर वीडियो के व्यूज़

इतने बड़े अचीवमेंट के बावजूद बादशाह को गूगल-यूट्यूब ने वो नहीं दिया, जो दुनियाभर के मशहूर सेलेब्रिटीज़ को दिया.

मंदाकिनी के झरने में नहाने वाले सीन को आलोचकों ने अश्लील नग्नता कहा तो राज कपूर ने ये जवाब दिया

वो तीन बातें जो मंदाकिनी के बारे में सब जानना चाहते हैं.