Submit your post

Follow Us

इस कोरोना वायरस महामारी के बीच अक्षय-ट्विंकल अस्पताल के चक्कर क्यों लगा रहे है?

शनिवार को अक्षय कुमार ने 25 करोड़ रुपए पीएम केयर फंड्स में डोनेट किए. उसके ठीक बाद ट्विंकल खन्ना ने अक्षय को अप्रीशिएट करते हुए एक ट्वीट किया. ये सब कर-कराके ट्विंकल ने रविवार की सुबह सोशल मीडिया पर एक वीडियो पोस्ट किया. इसके कैप्शन में उन्होंने लिखा-

”अस्पताल से वापसी के दौरान सड़कों पर पसरा सन्नाटा. प्लीज़ डरिए मत मैं मरने नहीं जा रही है (किक द बकेट मुहावरा होता है, जिसे मरने के सेंस में इस्तेमाल किया जाता है.) मैं बाल्टी तो क्या, किसी भी चीज़ को किक करने की हालत में नहीं हूं.”

यहां ट्विंकल ने बड़े ही क्रिप्टिक तरीके से अपनी बात साफ की लेकिन पब्लिक कंफ्यूज़ हो गई. लोगों का लगा कल ही इतना बड़ा डोनेशन दिया, आज खुद कोरोना के चंगुल में फंस गईं. ऊपर से अक्षय कुमार भी साथ थे. वीडियो में अक्षय फुल टोपी-मास्क लगाए गाड़ी चला रहे थे. अक्षय की ओर कैमरा घुमाकर ट्विंकल ने कहा कि उन्होंने दिल्ली के चांदनी चौक का एक ड्राइवर रखा हुआ है. साथ ही उन्होंने ये भी क्लीयर कर दिया कि उन्हें कोरोना वायरस बिलकुल नहीं है. उनका पांव टूट गया है, जिसके चक्कर में उन्हें अस्पताल जाना पड़ा. मतलब हल्का-फुल्का माहौल बना हुआ था.

अभी क्या है कि पब्लिक भी खाली है और स्टार्स भी. और दोनों सोशल मीडिया पर लगे हुए हैं. ट्विंकल ने एक और ट्वीट करते हुए बताया कि ये उनके पांव के टूटने का सबसे सही समय है क्योंकि उन्हें वैसे भी कहीं बाहर जाना नहीं है. इस फोटो में ट्विंकल का प्लास्टर किया हुआ पैर दिखाई दे रहा है, जिस पर बालकों ने स्केच पेन से अपनी कलाकारी बिखेरी हुई है.

खैर, बिज़नेस के हिसाब से अक्षय कुमार कोरोना वायरस से प्रभावित होने वाले पहले सुपरस्टार हैं. क्योंकि 22 मार्च को रिलीज़ होने वाली इनकी फिल्म ‘सूर्यवंशी’ रिलीज़ से बमुश्किल 10 दिन पहले पोस्टपोन हो गई. इसके अलावा अक्षय की एक और फिल्म दिक्कतों में घिरी हुई है. फिल्म का नाम है ‘लक्ष्मी बम’. पहले समस्या बस ये थी कि ‘लक्ष्मी बम’ और सलमान खान की फिल्म ‘राधे’ एक ही दिन यानी ईद के मौके पर रिलीज़ होने वाली थीं. लेकिन अब ये भी तय नहीं है कि उस दिन फिल्म रिलीज़ हो भी पाएगी कि नहीं.


वीडियो देखें: अक्षय कुमार के PM केयर फंड में दान देने पर पत्नी ट्विंकल खन्ना ने क्या कहा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

दिल्ली मेट्रो लंबे गैप के बाद शुरू, पहले दिन आई तस्वीरें सुकून देने वाली हैं

दिल्ली मेट्रो लंबे गैप के बाद शुरू, पहले दिन आई तस्वीरें सुकून देने वाली हैं

सोशल डिस्टेंसिंग के लिए मेट्रो ने क्या-क्या इंतजाम किए हैं?

अमेरिका में भारत के नाम का डंका बजाने वाले भारत के इस राष्ट्रपति की ये 15 बातें सुनिए

अमेरिका में भारत के नाम का डंका बजाने वाले भारत के इस राष्ट्रपति की ये 15 बातें सुनिए

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन पर शिक्षक दिवस मनाया जाता है.

ऋषि कपूर के ये 13 गीत सुनकर समझ आता है, ये लवर बॉय पर्दे पर कैसे मेच्योर हुआ

ऋषि कपूर के ये 13 गीत सुनकर समझ आता है, ये लवर बॉय पर्दे पर कैसे मेच्योर हुआ

4 सितंबर को ऋषि कपूर का बड्डे होता है.

गांधी के दादा, जिन्होंने अंग्रेजों की पोल-पट्टी खोल दी थी

गांधी के दादा, जिन्होंने अंग्रेजों की पोल-पट्टी खोल दी थी

जानिए क्या थी पूरी कहानी....

वे खिलाड़ी, जिन्होंने परिवार के लिए इस बार IPL की मोटी रकम को भी ठोकर मार दी

वे खिलाड़ी, जिन्होंने परिवार के लिए इस बार IPL की मोटी रकम को भी ठोकर मार दी

इस लिस्ट में कई बड़े नाम शामिल हैं.

आदेश श्रीवास्तव के टॉप 5 गाने और सोनू निगम के रोने का किस्सा

आदेश श्रीवास्तव के टॉप 5 गाने और सोनू निगम के रोने का किस्सा

महज़ 51 साल की उम्र में कैंसर की वजह से मौत हो गई थी संगीतकार आदेश श्रीवास्तव की.

PUBG डिक्शनरी के इन शब्दों का मतलब क्या था, अब क्या ये गायब हो जाएंगे?

PUBG डिक्शनरी के इन शब्दों का मतलब क्या था, अब क्या ये गायब हो जाएंगे?

ये नूबड़ा क्या है भाई?

सब PUBG पर हाय-तौबा मचाते रहे, लेकिन खेल कहीं और हो गया

सब PUBG पर हाय-तौबा मचाते रहे, लेकिन खेल कहीं और हो गया

PUBG के साथ 117 ऐप्स बैन हुए हैं, इनमें कई बेहद पॉपुलर गेम ऐप्स भी हैं. लेकिन उन पर कोई बात ही नहीं कर रहा.

6 कॉमेडी सीन जिनमें शक्ति कपूर के पात्र आपका दिन बना देंगे

6 कॉमेडी सीन जिनमें शक्ति कपूर के पात्र आपका दिन बना देंगे

हैप्पी बड्‌डे नंदू, सबका बंधू. यूं ही हंसाते रहो.

श्राद्ध की तरह दुनिया भर में मृत आत्माओं के लिए मनाए जाते हैं त्योहार. इन्हें पढ़कर तो आप चौंक ही जाएंगे

श्राद्ध की तरह दुनिया भर में मृत आत्माओं के लिए मनाए जाते हैं त्योहार. इन्हें पढ़कर तो आप चौंक ही जाएंगे

पूर्वजों को याद करने के लिए ज्यादातर धर्मों में आयोजन होते हैं.