Submit your post

Follow Us

पड़ताल: क्या अहमदाबाद में सरकार ने जानबूझकर मस्जिद तोड़ी?

1.60 K
शेयर्स

पहले लोग अपने धर्म के प्रचार के लिए देशाटन करते थे मतलब देशभर में घूमते थे. वहां अपने धर्म की अच्छी बातें बताते थे और धर्म के सामने जो चुनौती होती थी उसे बताकर सॉल्यूशन बताते थे. अब नया तरीका है ही सोशल मीडिया. धर्म से जुड़ी फोटो को किसी भी मेसेज के साथ शेयर कीजिए. बस जिम्मेदारी पूरी, अब या तो धर्म खतरे में आएगा या धर्म को मानने का बड़ा कारण मिलेगा.

एक फोटो 23 मार्च को इस्लामिक मीडिया नाम के पेज से शेयर की गई. इसमें तीन फोटोज मिलाकर दिखाई गईं हैं. जिसमें मस्जिद जैसी दिख रही एक इमारत को बुल्डोजर से तोड़ा जा रहा है. एक फोटो में पुलिसवाले खड़े हैं. फोटो के साथ में लिखा है-

ये अहमदाबाद की मस्जिद की जमीन का
विवाद चल रहा था जीसी मोदी सरकार ने
शहीद करदिया ।
किसी भी मीडिया में इसे फ़्लैश नही किया है ।
आप हज़रत से गुजारिश है ज़्यादा से ज़्यादा
#शेयर करो ।।। प्लज़ प्ल्ज़ प्ल्ज़

(नोट- हमेशा की तरह मेसेज की भाषा से कोई छेड़छाड़ नहीं की है. जैसा आया था वैसा आपके सामने है. वर्तनी और ग्रामर की गलती पर ध्यान न दें)

फेसबुक पर ये पोस्ट जमकर शेयर हो रहा है.
फेसबुक पर ये पोस्ट जमकर शेयर हो रहा है.

इस मेसेज में जो शेयर वाली अपील की गई है उसको लोगों ने बड़ा ही सीरियसली लिया है. तीन बार प्लीज़ की जगह जो ‘प्लज़’ लिखा गया है वो काम कर गया क्योंकि इस एक पोस्ट के 74,000 से ज्यादा शेयर हो चुके हैं.

इस पोस्ट को पड़ताल के लिए नंदपुर, उड़ीसा के एक हमारे एक पाठक कीर्ति कुमार बेबर्ता ने भेजा.

सच्चाई क्या है?

इस फोटो की सच्चाई जानने के लिए इस फोटो को गूगल सर्च किया लेकिन कोई सर्च रिजल्ट मैच नहीं किया. फिर ऊपर वाले एक फोटो (जिसके ऊपर 1 शेयर किए बिना जाना मत लिखा है) में देश गुजरात नाम से वॉटरमार्क लगा दिखाई दिया. देश गुजरात एक गुजरात की अंग्रेजी न्यूज वेबसाइट है. हमने देश गुजरात के फेसबुक पेज पर इस फोटो को सर्च करना शुरू किया.

देश गुजरात का फेसबुक पेज.
देश गुजरात का फेसबुक पेज.

इस पेज पर 6 अगस्त, 2014 की तारीख को हमें यह फोटो मिला. छह और फोटोज थे. साथ में एक खबर का लिंक भी लगा था. इसमें लिखा था – अहमदाबाद नगर निगम (AMC) ने अहमदाबाद के जुहापुरा इलाके में वेस्ट डिस्पोजल प्लांट (जहां पर कचरा डाला जाता है) से कई सारे अवैध निर्माण हटाए. इनमें एक आइस फैक्ट्री, एक गोदाम और एक धार्मिक स्थल शामिल थे. 6 अगस्त के दिन AMC की टीम पुलिस के साथ में विशाला-नरोल रोड़ पर मौजूद इस जगह पर पहुंची. यहां गुलू बाबा की दरगाह थी. गुलू बाबा की मज़ार को यहां से पास के कब्रिस्तान में शिफ्ट कर दिया गया. AMC ने ऐसा करते टाइम गुलू बाबा के परिजनों और मौलवियों को भी बुलाया था. इस शिफ्टिंग का उन्होंने कोई विरोध नहीं किया.

लेकिन सोशल मीडिया के धर्म धुरंधर ऐसा न करें तो काम कैसे चलेगा. इसलिए उन्होंने गलत मेसेज लगाकर इसे शेयर करना शुरू कर दिया.

देश गुजरात के फेसबुक पेज पर इस घटना की पूरी जानकारी.
देश गुजरात के फेसबुक पेज पर इस घटना की पूरी जानकारी.

हमारी पड़ताल में यह मेसेज और फोटो बिल्कुल अलग-अलग साबित हुए. यह मस्जिद नहीं मज़ार थी जिसे अवैध निर्माण के चलते यहां से हटाया गया. जिसका वहां के स्थानीय लोगों ने विरोध नहीं किया. यह पोस्ट बहुत भ्रामक है और एक दम गलत है.

अगर आपके पास भी ऐसी कोई पोस्ट, फोटो, वीडियो या मैसेज है जिस पर आपको शक है तो आप उसे  lallantopmail@gmail.com,  फेसबुक पर हमारे वेरिफाइड पेज The Lallantop और हमारे वेरिफाइड ट्विटर हैंडल @TheLallantop पर भेज सकते हैं. हम उसकी पड़ताल कर सच्चाई पता करेंगे.

क्या देश में गैरकानूनी जमीन पर बने धर्म स्थलों को गिराया जाना चाहिए?


ये भी पढ़ें-

क्या ‘हिंदू’ महिलाओं ने छेड़छाड़ से परेशान होकर बुर्का पहन कर कांवड़ उठाई?

राहुल गांधी के मोबाइल में पॉर्न देखने की सच्चाई क्या है?

क्या धरती के पास से गुजरने वाली कॉस्मिक किरणों से मोबाइल फट सकता है?

सूअर और इंसान के मेल से बना यह बच्चा कहां पैदा हुआ है?

उस वीडियो की सच्चाई, जिसमें इलाहाबाद के संगम से बादल पानी ले रहे हैं!

क्या मोदी सरकार के दबाव के कारण चीन के विदेश मंत्री ने इस्तीफा दे दिया है?

केरल के संगठन PFI के दफ्तर में भारी मात्रा में मिले हथियारों का सच क्या है?

इस ‘भाजपा विधायक’ की सच्चाई जानकर कोई भाजपाई इसकी फोटो शेयर नहीं करेगा

ये विशालकाय कंकाल किसका है जिसे घटोत्कच का बताया जा रहा है?

वीडियो-क्या कांग्रेस प्रेसिडेंट राहुल गांधी अपने मोबाइल में पॉर्न देख रहे थे?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

मेकअप पर ट्रोल होने के पहले के वो छह मौके जब रानू मंडल ने इंटरनेट तोड़ दिया

रानू को पसंद किए जाने की वजह क्या है?

ये 10 एजेंसियां आपका फोन टैप कर सकती हैं

सरकार ने खुद नाम बताए हैं.

वो 22 बातें जो राजकुमार हीरानी अपनी फिल्में रचते हुए हमेशा ध्यान में रखते हैं

जिन्होंने मुन्नाभाई एमबीबीएस, संजू, 3 ईडियट्स और पीके जैसी फिल्में बनाई हैं.

धरती कहे पुकार: सलिल के ये 20 गीत सोने से पहले और उठने के बाद बजाएं, आत्मा तृप्त महसूस होगी

जिनके गीतों से दिन भी अच्छा गुजरेगा, नींद भी अच्छी आएगी, आज उनका बड्डे है.

'इनसाइड एज 2' ट्रेलर- क्रिकेट, फिक्सिंग, पॉलिटिक्स, पैसा, सेक्स, ड्रग्स और पावर गेम की कहानी

ये वो पहला प्रोजेक्ट है, जिसमें जनता विवेक ओबेरॉय को देखने के लिए एक्साइटेड है. वैसे, जैसे पहले कभी नहीं देखा.

अंग्रेजों से गुरिल्ला युद्ध लड़ने वाले आदिवासी नायक जिनकी जान कॉलरा ने ले ली

कहानी झारखंड के सबसे बड़े हीरो की, जिसने 25 साल में ही दुनिया छोड़ दी थी.

10 बातें, जिनसे पता चलता है कि नरेंद्र मोदी, नेहरू के सबसे बड़े फॉलोवर हैं

आज नेहरू का हैपी बर्थडे है.

नोटबंदी के दौरान PM मोदी ने भी एक अफवाह उड़ाई थी, जानते हो क्या?

नोटबंदी के तीन साल पूरे होने पर पढ़िए वो 10 अफवाहें, जिन्होंने प्रेशर बनाए रखा.

वो 15 गाने, जिनके बिना छठ पूजा अधूरी है

पुराने गानों के बिना व्रत ही पूरा नहीं होता.

राग दरबारी : वो किताब जिसने सिखाया कि व्यंग्य कितनी खतरनाक चीज़ है

पढ़िए इस किताब से कुछ हाहाकारी वन लाइनर्स.