Submit your post

Follow Us

वो पांच फ़िल्में, जिन्हें देखते वक्त सिनेमा हॉल में ही डर के मारे लोगों की मौत हो गई

144
शेयर्स

हॉलीवुड की हॉरर फिल्म ‘एनाबेल कम्स होम’ देखते हुए 77 साल के एक बुजुर्ग की मौत हो गई. मृतक का नाम बर्नार्ड चैनिंग है. वह ब्रिटेन में रहता था और छुट्टियां मनाने थाईलैंड आए थे. वो अकेले फिल्म देखने पहुंचे थे. फिल्म खत्म होने के बाद लाइट जली तो उसके बगल में बैठी महिला ने देखा कि वह अपनी सीट पर मृत पड़े हैं.

खैर, ये पहला मामला नहीं है. इससे पहले भी हॉरर मूवीज देखने के दौरान दर्शकों की मौत हो चुकी है. आइए एक नज़र डालते हैं.


# द कंज्यूरिंग 2 (2016)

तमिलनाडू के तिरुवन्नामलाई में ये फिल्म देखते हुए 65 साल के एक आदमी की मौत हो गई थी. ये फिल्म भूत पकड़ने वाले एड वारेन और लॉरेन वारेन की डायरी पर बेस्ड थी. कहानी इंग्लैण्ड के लन्दन में 1977 में हुए एक बेहद खतरनाक भूतिया घटना पर आधारित थी, जिसमें कि पैगी नामक एक औरत की बेटी पर भूतों का साया होता है.

Conjuring 8


# राजू गारी गदी (2015)

हैदराबाद में रहने वाले एक प्रायवेट ट्यूटर सी अमरनाथ ने फिल्म देखते हुए अपनी जान गंवा दी थी. डॉक्टर्स की रिपोर्ट के मुताबिक उसकी मौत कार्डियक अरेस्ट की वजह से हुई थी. फिल्म की स्टोरी लाइन ये थी कि एक टेलीविज़न चैनल भूतिया बंगले में एक रियलिटी शो आयोजित करता है, ताकि उस बंगले में होने वाली मौतों के रहस्य पता चल सके. इसके बाद शो में भाग लेने वाले लोगों के साथ भी खतरनाक घटनाएं होने लगती हैं और एक-एक करके कंटेस्टेंट रहस्यमयी तरीके से मरने लगते है.

raju gari gadhi poster


# भूत (2003)

रामगोपाल वर्मा की इस फिल्म को देखते हुए दिल्ली में एक अधेड़ उम्र के शख्स की मौत हो गई थी. वजह थी धड़कन बंद हो जाना. इस फिल्म की कहानी मंजीत नाम की लड़की के भूत की थी, जो उर्मिला मातोंडकर के शरीर में आ जाता है. मंजीत की मौत उसी फ्लैट से गिरकर हुई थी, जिसमें उर्मिला और अजय देवगन रहने के लिए पहुंचते हैं.

bhoot


# द क्रीपिंग अननोन (1956)

शिकागो में थियेटर में फिल्म देखते हुए एक नौ साल के बच्चे स्टूअर्ट की मौत हो गई थी. उसके पेरेंट्स को भी फिल्म खत्म होने के बाद इसका पता चला. बच्चे की मौत हार्ट फेलियर की वजह से हुई थी. फिल्म की कहानी एक एस्ट्रॉनोट की थी, जो अंतरिक्ष से लौटने के बाद राक्षस बन जाता है.

the creeping unknown poster


# द राइडर ऑफ स्कल्स (1965)

टेक्सास के रॉयल थियेटर में फिल्म देखते हुए एक शख्स की हार्ट फेलियर की वजह से मौत हो गई थी. फिल्म की कहानी इंसानी भेड़िया, वैंपायर और बिना सर वाले हॉर्समैन की थी, जो लोगों पर हमला करते हैं.

The Rider of the Skulls


वीडियो:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
These horror movies Lead to Real Life Death of viewers

पोस्टमॉर्टम हाउस

मूवी रिव्यू: स्पाइडर मैन - फार फ्रॉम होम

'अवेंजर्स-एंड गेम' के बाद मार्वल वालों का नया तोहफा.

फिल्म रिव्यू: वन डे जस्टिस डिलिवर्ड

रेगुलर थ्रिलर मूवी की तरह शूट किए जाने के बावजूद ये फिल्म रेगुलर वाली बार को टच करने से चूक जाती है.

फिल्म रिव्यू: मलाल

फिल्म से अगर सोसाइटी की दखलअंदाज़ी और पॉलिटिक्स वगैरह को निकाल दें, तो ये खालिस लव स्टोरी है. और वो भी ठीक-ठाक क्वालिटी की.

क्या एक हार के बाद ही ऐसी संभावना बन गई कि इंडिया सेमीफाइनल से पहले ही बाहर हो जाए?

जानिए क्या होता है नेट रन रेट और कैसे कैलकुलेट किया जाता है, और इंडिया को इसपर नज़र क्यों रखनी चाहिए?

मूवी रिव्यू: आर्टिकल 15

हमारी कायरता को चैलेंज करने वाली बेबाक, साहसिक फिल्म.

क्या अमिताभ बच्चन इस तस्वीर में अपने नौकर की अर्थी उठाए चल रहे हैं?

बताया जा रहा है कि ये शख्स बच्चन परिवार के लिए पिछले 40 साल से काम कर रहा था.

तबरेज़ अंसारी की हत्या और चमकी बुखार पर पहली बार पीएम मोदी संसद में बोले हैं

राज्यसभा में पीएम ने हर मुद्दे पर अपनी बात रखी.

लैला वेब सीरीज़: 'उम्मीद' कि भविष्य इतना भी बुरा नहीं होगा, 'आशंका' कि इससे भी बुरा हो सकता है

'आर्यावर्त' के बच्चे, मोबाइल पर टॉम-जेरी नहीं देखते. वो जोशी जी के 'बाल चरित्र' वाले वीडियो देखते हैं.

गैंग्स ऑफ वासेपुर की मेकिंग से जुड़ी ये 24 बातें जानते हैं आप!

अनुराग कश्यप की इस क्लासिक को रिलीज हुए 7 साल हो चुके हैं. दो हिस्सों वाली इस फिल्म के प्रोडक्शन से बहुत सी बातें जुड़ी हैं. देखें, आप कितनी जानते हैं.

कबीर सिंह: मूवी रिव्यू

It's not the goodbye that hurts, but the flashbacks that follows.