Submit your post

Follow Us

हर गोलगप्पे वाला कहना चाहता है आपसे ये बातें

7.16 K
शेयर्स

जंतर-मंतर और इंडिया गेट पर इतनी मांगें नहीं रखी जाती जितनी गोलगप्पे वालों के आगे रखी जाती हैं. सरकार से इतनी उम्मीद नहीं होती जितनी गोलगप्पे वालों से. वो व्यस्त रहते हैं, लोगों से घिरे रहते हैं, फिर भी नहीं खीझते. पर अब लोग उनकी भलमनसाहत का फायदा उठाने लगे हैं.

उन्हें भी कोफ़्त होती है जब आप जलजीरा में डुबकी लगाने लगते हैं. टिशू पेपर को तौलिये सरीखा इस्तेमाल करते हैं. किसे पसंद आएगा कि वो हर दूसरे गोलगप्पे के लिए चटनी का अलग कंपोजीशन बनाए. सूखी पापड़ी भी हवा में नहीं पैदा हो जाती.  तो वक़्त है उनकी आवाज उठाने का. लल्लन ने उनके मन की बात सुनी और आपके सामने रख रहा है. उम्मीद करते हैं आप समझेंगे.


golgappa1


golgappa2


golgappa3


golgappa4


golgappa5


golgappa6


golgappa8


golgappa10


golgappa11


golgappa12


golgappa13


golgappa14


पढ़ लिया न? तो क्या हम उम्मीद करें कि अगली बार जब आप गोलगप्पे खाने जाएंगे तो कुछ बातें मान ही लेंगे!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
the demand of the golgappa sellers which must be met urgently

पोस्टमॉर्टम हाउस

क्या हुआ जब दो चोर, एक भले आदमी की सायकल लेकर फरार हो गए

सायकल भी ऐसी जिसे इलाके में सब पहचानते थे.

मूवी रिव्यू: गेम ओवर

थ्रिल, सस्पेंस, ड्रामा, मिस्ट्री, हॉरर का ज़बरदस्त कॉकटेल है ये फिल्म.

भारत: मूवी रिव्यू

जैसा कि रिवाज़ है ईद में भाईजान फिर वापस आए हैं.

बॉल ऑफ़ दी सेंचुरी: शेन वॉर्न की वो गेंद जिसने क्रिकेट की दुनिया में तहलका मचा दिया

कहते हैं इससे अच्छी गेंद क्रिकेट में आज तक नहीं फेंकी गई.

मूवी रिव्यू: नक्काश

ये फिल्म बनाने वाली टीम की पीठ थपथपाइए और देख आइए.

पड़ताल : मुख्यमंत्री रघुवर दास की शराब की बदबू से पत्रकार ने नाक बंद की?

झारखंड के मुख्यमंत्री की इस तस्वीर के साथ भाजपा पर सवाल उठाए जा रहे हैं.

2019 के चुनाव में परिवारवाद खत्म हो गया कहने वाले, ये आंकड़े देख लें

परिवारवाद बढ़ा या कम हुआ?

फिल्म रिव्यू: इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड

फिल्म असलियत से कितनी मेल खाती है, ये तो हमें नहीं पता. लेकिन इतना ज़रूर पता चलता है कि जो कुछ भी घटा होगा, इसके काफी करीब रहा होगा.

गेम ऑफ़ थ्रोन्स S8E6- नौ साल लंबे सफर की मंज़िल कितना सेटिस्फाई करती है?

गेम ऑफ़ थ्रोन्स के चाहने वालों के लिए आगे ताउम्र की तन्हाई है!

पड़ताल: पीएम मोदी ने हर साल दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने की बात कहां कही थी?

जानिए ये बात आखिर शुरू कहां से हुई.