Submit your post

Follow Us

10 सुबूत, जो बताते हैं कि जंतर मंतर पर इकट्ठा हुए किसान नकली थे!

तमिलनाडु के किसान फिलहाल लौट गए हैं. एक महीने की मोहलत ले-देकर. तमिलनाडु के सीएम साब एडापड्डी के पलानीसामी आकर भरोसा दिए हैं कि वो मोदी जी के सामने बात रखेंगे. लेकिन फाइनली इन किसानों का सच सामने आ गया है. थैंक्स टू सोशल मीडिया एंड व्हाट्सऐप यूनिवर्सिटी. तो जो सच निकलकर आए हैं वो चौकाने वाले हैं. हमें पता चला है कि ये लोग असली किसान थे ही नहीं. आर्टिफिशियल किसान थे. कैसे, ये पॉइंट्स पढ़कर आपकी समझ में आ जाएगा.

1. इनकी बॉडी बीडी देख लो. तोंद से निकले हुए हैं. किसान का पेट कभी भरा हुआ देखा है आपने इस देश में? पेट पीठ एक में न मिला हो तो वो किसान नहीं होगा कलाकार भले हो.

tn-farmers-urine-mo

2. इनमें से कुछ अंग्रेजी बोलते देखे गए हैं. देहाती भाषा के अलावा खड़ी बोली न बोल पाते हैं ये. किसान कैसे हो सकते हैं?

3. इनके हाथों में महंगे मिनरल वॉटर की बोतलें देखी गई हैं. यहां दिल्ली वाले नगर निगम का पानी पीते हैं और ये तथाकथित किसान बिस्लरी धकेल रहे हैं.

4. इनके पास हेयरस्टाइल पर खर्च करने को बड़ा पैसा है. कभी आधे पर से गंजे हो जाते हैं, कभी मूंछों पर खेल जाते हैं. हेयरकट पर उड़ाने को पैसा है, खेती करने को नहीं.

tn-farmers

5. ये लोग सोशल मीडिया पर नहीं हैं. मतलब फर्जी हैं. जब हमारी सरकार ने पूरे देश को ट्विटर और भीम ऐप से जोड़ रखा है तो ये सोशल मीडिया पर नहीं हैं. ये अपने आप में बहुत बड़ा सवाल है.

6. इनको भारत के कृषिमंत्री का नाम भी मालूम नहीं है. राधामोहन का नाम ये गूगल पर सर्च नहीं कर सके. कैसे किसान हैं ये?

7. किसान बड़े मजबूत होते हैं. भूखे प्यासे जब तक कहो, पड़े रहें. ये 100 दिन का धरना करने आए थे, 40 दिन में बोल गए.

8. इनको NGO वाले सपोर्ट कर रहे हैं. अब से पहले तो किसी किसान को किसी NGO ने नहीं सपोर्ट किया.

9. सबसे बड़ी बात तो ये लोग वापस गए राजधानी एक्सप्रेस से. इनके पास टिकट खरीदने का पैसा कहां से आया?

10. आखिरी वजह ये है कि इनमें से किसी ने अभी तक आत्महत्या नहीं की. जब तक किसान आत्महत्या न करे, किसान नहीं होता.

नोट: अगर आपको भी ऐसे मैसेज और पोस्ट दिखते हैं, तो उनको आग की तरह फैलाने से पहले जांच लें कि अगर खोपड़ियां लेना, नंगे लोटना, साड़ी पहनना, आधा गंजे होना, मूत्र पीना नौटंकी है, तो किस मजबूरी में किसान नौटंकी कर रहे हैं.


ये भी पढ़ें:

पानी को उड़ने से बचाने के लिए मंत्री जी ने डैम को थर्मोकॉल से ढंक दिया

देश के चार चर्चित सत्याग्रह, जो नंगे होकर किए गए

किसान कह रहे ‘ये खोपड़ियां आत्महत्या कर चुके किसानों की हैं’

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

Realme Narzo 30 Pro review: सबसे सस्ता 5G फ़ोन है किस काम का?

Realme Narzo 30 Pro review: सबसे सस्ता 5G फ़ोन है किस काम का?

रियलमी फ़ोनों में ये मंझला भाई है!

वेब सीरीज़ रिव्यू - 1962: द वॉर इन द हिल्स

वेब सीरीज़ रिव्यू - 1962: द वॉर इन द हिल्स

कैसी है 1962 की भारत-चीन जंग पर बनी ये सीरीज़?

Realme Buds Air 2 review: रियलमी से ऐसी उम्मीद नहीं थी!

Realme Buds Air 2 review: रियलमी से ऐसी उम्मीद नहीं थी!

माने के कमाल ही कर दिया

Realme Narzo 30A review: छोटी-छोटी मगर मोटी बातें!

Realme Narzo 30A review: छोटी-छोटी मगर मोटी बातें!

जानिए कैसा है रियलमी का नया बजट डिवाइस!

Realme X7 Pro रिव्यू: क्या इस 5G फ़ोन के लिए 30,000 रुपए खर्च करना ठीक रहेगा?

Realme X7 Pro रिव्यू: क्या इस 5G फ़ोन के लिए 30,000 रुपए खर्च करना ठीक रहेगा?

इस फ्लैगशिप मिड-रेंज डिवाइस में खूबियां तो कई हैं, लेकिन ये कमियां भी हैं.

वेब सीरीज़ रिव्यू: वधम

वेब सीरीज़ रिव्यू: वधम

कैसा है ये ऑल विमेन क्राइम थ्रिलर शो?

मूवी रिव्यू- दृश्यम 2

मूवी रिव्यू- दृश्यम 2

कैसा है 'दृश्यम' का सीक्वल, जिसने सात भाषाओं में तहलका मचाया था!

Realme X7 Pro: ये तो वनप्लस नॉर्ड का बड़ा भाई लगता है!

Realme X7 Pro: ये तो वनप्लस नॉर्ड का बड़ा भाई लगता है!

पहली नज़र में कैसा लगा Realme X7 Pro स्मार्टफोन, आइए बताते हैं.

फिल्म रिव्यू- डूब: नो बेड ऑफ रोजेज़

फिल्म रिव्यू- डूब: नो बेड ऑफ रोजेज़

इरफान के गुज़रने के बाद उनकी पहली फिल्म रिलीज़ हुई है. और 'डूब' का अर्थ वही है, जो आप समझ रहे हैं.

मूवी रिव्यू: मास्साब

मूवी रिव्यू: मास्साब

नेक कोशिश वाली जो मुट्ठीभर फ़िल्में बनती हैं, उनमें इस फिल्म का नाम लिख लीजिए.