Submit your post

Follow Us

6 किस्से: इमरजेंसी के दौरान इंदिरा की नाक में दम करने वाला अखबार मालिक

इंडियन एक्सप्रेस के संस्थापक और बेखौफ संपादक रामनाथ गोयनका. 22 अप्रैल 1904 को बिहार के दरभंगा में जन्मे. 5 अक्टूबर 1991 को उनका निधन हो गया. उनके जाने के इतने साल बाद भी पत्रकारिता के क्षेत्र में आज भी इनका नाम पूरे सम्मान के साथ लिया जाता है. 1936 में उन्होंने इंडियन एक्सप्रेस अखबार की शुरुआत की थी. इमरजेंसी के दौर में जिस तरह रामनाथ गोयनका ने सरकार के भारी दबाव के बावजूद सिर नहीं झुकाया और प्रेस की आज़ादी के लिए लड़ाई लड़ी, उसे भला कौन भूल सकता है. आज उनकी जिंदगी से जुड़े कुछ रोचक किस्से आपको बताते हैं –

1.इमरजेंसी के विरोध में ब्लैंक छोड़ा संपादकीय

इंडियन एक्सप्रेस ने इमरजेंसी के विरोध में खाली छोड़ दिया था एडिटोरियल.
इंडियन एक्सप्रेस ने इमरजेंसी के विरोध में खाली छोड़ दिया था एडिटोरियल.

गोयनका की जीवनी ‘रामनाथ गोयनका-ए लाइफ़ इन ब्लैक एंड वाइट’ लिखने वाली अनन्या गोयनका ने बीबीसी को बताया कि किसी भी अखबार को चलाने के लिए सबसे ज़्यादा ज़रूरी होता है विज्ञापन. 1975 से 1977 तक लगी इमरजेंसी के वक्त इंडियन एक्सप्रेस को दिए जाने वाले सारे विज्ञापन बंद कर दिए गए थे. अखबार छपने के समय वो प्रिटिंग प्रेस की बत्ती काट दिया करते थे. इस वजह से अखबार समय से लोगों के पास नहीं पहुंच पाता था. इसके बाद गोयनका पर अखबार का संपादक बदलने का दबाव बनाया जाने लगा. फिर उन्होंने सेंसरशिप लगवा दी लेकिन गोयनका ने सरकार की बात नहीं मानी. बल्कि सेंसर किए गए एडिटोरियल की जगह को खाली छोड़ दिया. अखबारी दुनिया में पहले कभी इस तरह का विरोध नहीं किया गया था.

इमरजेंसी के बाद जब पहली गैर कांग्रेसी सरकार बनी तो उसके प्रधानमंत्री बने मोरारजी देसाई. उन्होंने एक बार कहा कि हम राजनीतिज्ञों की तुलना में रामनाथ जी की इमरजेंसी की लड़ाई कहीं अधिक नाजुक, निर्णायक और महत्वपूर्ण थी.

2. नेहरू के कहने पर फिरोज को नौकरी दी, फिर निकाला

जवाहरलाल नेहरू से गोयनका के अच्छे संबंध थे.
जवाहरलाल नेहरू से गोयनका के अच्छे संबंध थे.

इस बात की लोगों को जानकारी कम है कि जवाहरलाल नेहरू के इशारे पर रामनाथ गोयनका ने उनके दामाद फिरोज गांधी को अपने अखबार में जनरल मैनेजर की नौकरी दे दी थी. मगर फिर इंदिरा गांधी ने टंगड़ी फंसा दी. दरअसल, इंदिरा और फिरोज के संबंध ठीक नहीं चल रहे थे. जब फिरोज को नौकरी देने की बात इंदिरा तक पहुंची तो एक दिन उन्होंने उस वक्त नेहरू के सचिव मथाई को बोलकर गोयनका को बुलवा लिया. साथ ही इशारों-इशारों में उनसे कह दिया कि फिरोज को नौकरी पर न रखा जाए. हुआ भी यही. उन्होंने फिरोज का नियुक्ति पत्र रद्द कर दिया. कुछ दिन बाद जब गोयनका नेहरू से मिले तो उन्होंने उनसे बात तक नहीं की पर गोयनका इंदिरा वाली बात नेहरू को नहीं बता पाए और नाराज़गी मोल ली.

3. संजय गांधी की मौत पर इंदिरा को लिखी चिट्ठी

जब संजय गांधी की मौत हुई तो उन्होंने इंदिरा गांधी से टकराव की बातें भुलाकर उन्हें एक पत्र लिखा. अपने अखबार के पहले पन्ने पर खुद एक संपादकीय भी लिखा. बाद में उन्होंने इंदिरा गांधी को फ़ोन कर भी अपना शोक प्रकट किया. रेणु शर्मा बताती हैं, ‘एक बार इंदिरा गांधी ने उन्हें रात्रि भोज पर बुलाया. मेरे पास ही प्रधानमंत्री निवास से फ़ोन आया. उस समय इनके इंदिरा के साथ बहुत खराब संबंध चल रहे थे. मैंने जाकर कहा कि दादाजी आपकी गर्लफ्रेंड का फ़ोन आया है. आपको खाने पर बुलाया है. वो बोले तूने ग़लत सुना होगा. बात करो दोबारा कहीं डंकन वाले गोयनका को तो नहीं बुलाया. मैंने प्रधानमंत्री निवास फ़ोनकर दोबारा पूछा तो गोयनका को बुलाने की बात कन्फर्म हुई. ये बात सुनते ही गोयनका बहुत खुश हो गए और मज़ाक में बोले लगता है वो दोबारा गर्लफ्रेंड बनने की कोशिश कर रही है. वो इंदिरा गांधी के यहां भोज पर गए. उन्होंने उन्हें खाने की मेज़ पर अपने बगल में बैठाया और वो सब चीज़ें परोसीं जो गोयनका को पसंद थीं.’

संजय गांधी की मौत पर इंडियन एक्सप्रेस की कवरेज.
संजय गांधी की मौत पर इंडियन एक्सप्रेस की कवरेज.

4. खुद की फोटो छपवाना बिल्कुल नहीं पसंद था

जेपी यानी जयप्रकाश नारायन अमेरिका से गुर्दों का इलाज करवा के लौटे थे. बंबई हवाई अड्डे पर वो उतरे तो रामनाथ गोयनका उन्हें व्हीलचेयर पर बैठाकर लाउंज की तरफ ला रहे थे. प्रेस फोटोग्राफरों ने फोटो खींचनी शुरू कर दी. इंडियन एक्सप्रेस के फोटोग्राफर ने भी गोयनका के साथ ही जेपी के स्वदेश लौटने फोटो खींची. छपी भी यही. अब चर्चा होने लगी कि फोटोग्राफर की खैर नहीं. दरअसल गोयनका को उनकी फोटो अखबार में छपना कतई पसंद नहीं था. हालांकि उन्हें बता दिया गया कि जो छपा, वही सबसे अच्छी फोटो थी. और किसी एंगल से फोटो नहीं ली जा सकती थी. इस पर वो ज्यादा नाराज़ तो नहीं हुए. फिर भी उन्होंने कहा कि उनकी नाराज़गी फोटोग्राफर और संपादक को बता दी जाए.

5. खुद के खिलाफ़ की खबरें को भी फ्रंट पेज पर जगह दी

इमरजेंसी के वक्त गोयनका लोकसभा के सदस्य थे. पीएम इंदिरा गांधी और उनकी सरकार गोयनका को चारों तरफ से घेरने में लगी थी. संसद में उन पर तो बाहर उनके अखबार पर हर तरह का दबाव बनाया जा रहा था. इसके बावजूद वो डटे रहे. चाहते तो अपने अखबार का इस्तेमाल अपने फायदे के लिए कर सकते थे पर उन्होंने ऐसा नहीं किया. यहां तक कि उस समय एक्सप्रेस के संपादक के जरिए उन्होंने कहलवा रखा था कि उनके खिलाफ संसद में जो भी कहा या किया जाए उसे पहले पेज पर छापा जाए. उनके बचाव या उनकी मदद करने के लिए आई खबरों को अंदर के पन्नों पर छापा जा सकता है. एक्सप्रेस के संपादक उस समय मुलगावकर थे जो हिन्दुस्तान टाइम्स के संपादक होते हुए एक मुकदमे की खबर अपने ही अखबार में पहले पेज पर छाप चुके थे. सो उन्होंने इसका बखूबी पालन किया.

रामनाथ गोयनका प्रेस के अधिकारों की लड़ाई में हमेशा आगे रहे.
रामनाथ गोयनका प्रेस के अधिकारों की लड़ाई में हमेशा आगे रहे.

6.जितने कंजूस, उतने ही दरियादिल थे गोयनका

गोयनका को फिजूलखर्ची बिल्कुल नहीं पसंद थी. गोयनका पर किताब लिखने वाली अनन्या गोयनका ने बीबीसी को बताया कि, ‘एक बार मुंबई के उनके पेंटहाउस में कई मेहमान ठहरे हुए थे. इसलिए मुंबई के दौरे पर गए उनके दोस्त और जनसत्ता के संपादक प्रभाष जोशी ने ठहरने के लिए ओबेरॉय होटल में एक कमरा ले लिया. जैसे ही गोयनका को इसके बारे में पता चला, उन्होंने प्रभाष जोशी से कहा कि वो होटल से तुरंत चेक आउट कर लें. उन्होंने अपने खुद के कमरे में एक फोल्डिंग पलंग डलवाया और उस पर प्रभाष जोशी को सुलवाया.’ इसी तरह बहुत ही दरियादिल भी थे. जब एक्सप्रेस की इमारत बन रही थी तो उन्होंने आदेश दिया था कि रोज एक बोरी आलू खरीदा जाए और उसकी पूड़ी सब्जी बनवाकर मजदूरों के बच्चों को खिलाया जाए.’


वीडियो देखें- 

ये भी पढ़ें:

सचिन का पुराना इंटरव्यू जो एक मशहूर एक्टर ने लिया था

मिताली राज पर बड़ी हिंदी फिल्म बनने जा रही है: 10 बातों में जानिए सब कुछ

जब लता को ज़हर देकर मारने की कोशिश की गई

बरेली के बाजार में गिरकर धमाल मचाने वाला झुमका आया कहां से था?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

ये गेम आस्तीन का सांप ढूंढना सिखा रहा है और लोग इसमें जमकर पिले पड़े हैं!

ये गेम आस्तीन का सांप ढूंढना सिखा रहा है और लोग इसमें जमकर पिले पड़े हैं!

पॉलिटिक्स और डिप्लोमेसी वाला खेल है Among Us.

फिल्म रिव्यू- कार्गो

फिल्म रिव्यू- कार्गो

कभी भी कुछ भी हमेशा के लिए नहीं खत्म होता है. कहीं न कहीं, कुछ न कुछ तो बच ही जाता है, हमेशा.

फिल्म रिव्यू: सी यू सून

फिल्म रिव्यू: सी यू सून

बढ़िया परफॉरमेंसेज़ से लैस मजबूत साइबर थ्रिलर,

फिल्म रिव्यू- सड़क 2

फिल्म रिव्यू- सड़क 2

जानिए कैसी है संजय दत्त, आलिया भट्ट स्टारर महेश भट्ट की कमबैक फिल्म.

वेब सीरीज़ रिव्यू- फ्लेश

वेब सीरीज़ रिव्यू- फ्लेश

एक बार इस सीरीज़ को देखना शुरू करने के बाद मजबूत क्लिफ हैंगर्स की वजह से इसे एक-दो एपिसोड के बाद बंद कर पाना मुश्किल हो जाता है.

फिल्म रिव्यू- क्लास ऑफ 83

फिल्म रिव्यू- क्लास ऑफ 83

एक खतरनाक मगर एंटरटेनिंग कॉप फिल्म.

बाबा बने बॉबी देओल की नई सीरीज़ 'आश्रम' से हिंदुओं की भावनाएं आहत हो रही हैं!

बाबा बने बॉबी देओल की नई सीरीज़ 'आश्रम' से हिंदुओं की भावनाएं आहत हो रही हैं!

आज ट्रेलर आया और कुछ लोग ट्रेलर पर भड़क गए हैं.

करोड़ों का चूना लगाने वाले हर्षद मेहता पर बनी सीरीज़ का टीज़र उतना ही धांसू है, जितने उसके कारनामे थे

करोड़ों का चूना लगाने वाले हर्षद मेहता पर बनी सीरीज़ का टीज़र उतना ही धांसू है, जितने उसके कारनामे थे

कद्दावर डायरेक्टर हंसल मेहता बनायेंगे ये वेब सीरीज़, सो लोगों की उम्मीदें आसमानी हो गई हैं.

फिल्म रिव्यू- खुदा हाफिज़

फिल्म रिव्यू- खुदा हाफिज़

विद्युत जामवाल की पिछली फिल्मों से अलग मगर एक कॉमर्शियल बॉलीवुड फिल्म.

फ़िल्म रिव्यू: गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल

फ़िल्म रिव्यू: गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल

जाह्नवी कपूर और पंकज त्रिपाठी अभिनीत ये नई हिंदी फ़िल्म कैसी है? जानिए.