Submit your post

Follow Us

जाह्नवी की 'गुंजन सक्सेना: दी कारगिल गर्ल' से क्या दिक्कत हुई, कि बॉयकॉट करने की मांग उठने लगी?

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों की वजह से सिनेमा हॉल में फिल्में अभी रिलीज़ नहीं हो रही हैं. ज्यादातर फिल्में ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स पर ही आ रही हैं. इन फिल्मों में एक्ट्रेस जाह्नवी कपूर की फिल्म ‘गुंजन सक्सेना: दी कारगिल गर्ल’ का नाम भी शामिल है. फिल्म नेटफ्लिक्स पर 12 अगस्त को रिलीज़ होने वाली है. रिलीज़ की खबर सामने आने के बाद से ही सोशल मीडिया पर लोगों ने फिल्म का बहिष्कार (बॉयकॉट) करना शुरू कर दिया. ट्विटर पर लोग एक-दूसरे से कह रहे हैं कि 12 अगस्त की तारीख मार्क करके रख लो, जाह्नवी की फिल्म नहीं देखनी है.

ऐसा क्यों कर रहे हैं?

दरअसल, एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद से ही नेपोटिज़म (भाई-भतीजावाद) पर जमकर बहस हो रही है. बहुत से लोगों का ये कहना है कि बॉलीवुड में पसरे नेपोटिज़म की वजह से ही सुशांत परेशान थे और इसी वजह से उन्होंने सुसाइड जैसा कदम उठाया. इसी वजह से लोग ये कह रहे हैं कि नेपोटिज़म को हटाना है, तो ‘स्टार किड्स’ की फिल्में न देखी जाए. दूसरा कारण ये है कि फिल्म को करण जौहर के धर्मा प्रोडक्शन्स ने प्रोड्यूस किया है. लोग करण के ऊपर भी नेपोटिज़म को शह देने का आरोप लगातार लगा रहे हैं.

क्या कह रहे हैं ट्विटर पर लोग?

एक ने लिखा,

“नेपो किड जाह्नवी कपूर इंडिया की बेटी गुंजन सक्सेना का रोल कर रही हैं. असल में उनकी हैसियत ही नहीं है कि वो उनके (गुंजन के) साथ खड़ी हो सकें. वैसे भी प्रोड्यूसर करण जौहर हैं और जाह्नवी उनकी गैंग का हिस्सा हैं. साथ आइए और #BycottGunjanSaxena को ट्रेंड करवाइए.”

एक ने लिखा,

“12 अगस्त की तारीख को मार्क करके रख लो. तथाकथित एक्ट्रेस को बॉयकॉट करना है.”

एक ने लिखा,

“हम गुंजन सक्सेना का सम्मान करते हैं, लेकिन हम वो फिल्म नहीं देखेंगे जो नेपोटिज़म से बनी है. धर्मा प्रोडक्शन्स की फिल्म को बॉयकॉट करना है.”

एक यूज़र ने लिखा,

“अब ये साबित करने का वक्त आ गया है कि हम जो चाहते हैं, उसके साथ खड़े हैं. बॉलीवुड के टैलेंटलेस (प्रतिभाहीन) नेपोटिज़म का बॉयकॉट करना है. गुंजन सक्सेना नहीं देखनी, उसकी जगह ऑनलाइन जाकर उनकी असल कहानी पढ़नी है.”

एक ने लिखा,

“धर्मा प्रोडक्शन्स बड़ा दिमाग वाला है. गुंजन सक्सेना की बायोपिक के नाम पर नेपो किड की फिल्म रिलीज़ कर रहे हैं. ये जानते हुए भी कि नेपोटिज़म के खिलाफ गुस्सा भरा हुआ है. इस फिल्म का बॉयकॉट करो. आप गुंजन सक्सेना के बारे में इंटरनेट पर भी पढ़ सकते हैं. ये सब आपके लिए है सुशांत.”

एक यूज़र ने लिखा,

“गुंजन सक्सेना: दी कारगिल गर्ल, 12 अगस्त को रिलीज़ हो रही है. इस तारीख को नोट करो और बॉयकॉट करो. मैं इस फिल्म को नहीं देखने वाला.”

एक यूज़र ने लिखा,

“हम गुंजन सक्सेना की रिस्पेक्ट करते हैं. हम उनकी बायोग्राफी या उन पर लिखी कोई किताब पढ़ लेंगे, लेकिन हम ये फिल्म नहीं देखेंगे, जिसे नेपोटिज़म गैंग ने केवल पैसे कमाने के लिए बनाया है.”

इस तरह का विरोध आलिया भट्ट की फिल्म ‘सड़क-2’ के लिए भी किया गया था, जब फिल्म के रिलीज़ का ऐलान हुआ था. ‘सड़क-2’ भी ऑनलाइन ही रिलीज़ होने वाली है. डिज़नी प्लस हॉटस्टार पर. जब फिल्म का पोस्टर आया था तो जमकर ट्रोलिंग हुई थी. पूरी विशेष फिल्म्स की. विशेष फिल्म्स महेश भट्ट और मुकेश भट्ट का प्रोडक्शन हाउस है.


वीडियो देखें: महेश भट्ट ने ‘सड़क-2’ का पोस्टर रिलीज़ किया और लोग भड़क गए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

कोरोना की जिन वैक्सीनों ने उम्मीद जगाई है, वो अभी किस स्टेज में हैं?

कोरोना के थानोस को मारने के लिए वैक्सीन के एवेंजर्स का आना ज़रूरी है.

एमेज़ॉन और हॉटस्टार को धकेल नेटफ्लिक्स ने 17 ताबड़तोड़ फिल्म-वेब सीरीज़ की लाइन लगा दी

यहां आपको कॉमेडी, रोमैंस, ड्रामा, एक्शन, थ्रिलर सबकुछ मिलेगा.

ऑनलाइन रिलीज़ होने वाली इन 10 फिल्मों को कितने करोड़ रुपए मिले हैं, जानकर हैरान रह जाएंगे

रिलीज़ होने से पहले ही तमाम फ़िल्में फायदे में हैं मितरों... तमाम गुणा-गणित हमसे समझिए.

'सूरमा भोपाली' के अलावा जगदीप के वो 7 किरदार, जिन्होंने हंगामा मचा दिया था

शोले ने कल्ट आइकन बना दिया, लेकिन किरदार इनके सारे गजब थे.

सौरव गांगुली के वो पांच फैसले, जिन्होंने इंडियन क्रिकेट को हमेशा के लिए बदल दिया

जाने कितने प्लेयर्स और टीम इंडिया का एटिट्यूड बदलने वाले दादा.

वो 7 बॉलीवुड सुपरस्टार्स, जिनकी आखिरी फिल्में उनकी मौत के बाद रिलीज़ हुईं

सुशांत सिंह राजपूत की 'दिल बेचारा' से पहले इन दिग्गजों के साथ भी ऐसा हो चुका है.

वो 8 बॉलीवुड एक्टर्स, जो इंडियन आर्मी वाले मजबूत बैकग्राउंड से फिल्मों में आए

इस लिस्ट में कुछ एक्टर्स ऐसे भी हैं, जिनके परिवार वालों ने देश की रक्षा करते हुए अपनी जान गंवा दी.

सरोज ख़ान के कोरियोग्राफ किए हुए 11 गाने, जिनपर खुद-ब-खुद पैर थिरकने लगते हैं

पिछले कई दशकों के आइकॉनिक गाने, उनके स्टेप्स और उनके बारे में रोचक जानकारी पढ़ डालिए.

मोहम्मद अज़ीज़ के ये 38 गाने सुनकर हमने अपनी कैसेटें घिस दी थीं

इनके जबरदस्त गानों से कितने ही फिल्म स्टार्स के वारे-न्यारे हुए.

डॉक्टर्स डे पर फिल्मी डॉक्टर्स के 21 अनमोल वचन

बत्ती बुझेगी, डॉक्टर निकलेगा, सॉरी कहेगा. हमारी फिल्मों के डॉक्टर्स के डायलॉग सदियों से वही के वही रह गए हैं.