Submit your post

Follow Us

Gemopai Miso मिनी इलेक्ट्रिक स्कूटर रिव्यू: ये दिलों का शूटर है कि नहीं?

“अरे भैया, ये कितने में ली.” | “ये साइकिल है? कहां से ली?” | “ये तो बड़ी बढ़िया है. इलेक्ट्रिक है?” | “कितने किलोमीटर चलती है?”

ये वो चंद सवाल हैं, जो हमाई तरफ़ तब-तब उछाले गए, जब-जब हम Gemopai का मिनी इलेक्ट्रिक स्कूटर Miso लेकर बाहर निकले. सब्ज़ी वाले के पास गाड़ी रोकने के बाद, हमाए “भैया, टमाटर क्या हिसाब?” पूछने से पहले ही सब्ज़ी वाले भैया और आजू-बाजू वाले लोग हम पर इन्हीं सवालों की बौछार कर देते. कुछ जन तो हमें हाथ देकर, रोककर पूछ लिए कि जिस पर हम सवार हैं, वो चीज़ क्या है. रोड पर चलते में बाइक और ऑटो वाले पास में आकर चलते-चलते पूछ लिए कि भैया कितने की है, कितना चलती है?

और सच बताएं, तो हमें इस चीज़ में ज़रा भी हैरानी नहीं होती. पिछले महीने Gemopai वाले हमसे पूछे, “हमारी कंपनी ने एक नया सोशल डिस्टेन्सिंग वाला इलेक्ट्रिक स्कूटर निकाला है, आप रिव्यू करना चाहेंगे?”  स्कूटर की फ़ोटो देखकर तो हमारे मन भी यही सवाल आया, “अबे, ये क्या है?”

फ़िर हुआ ये कि स्कूटर आ गया. हम चला के देखे. कुछ चीजें बढ़िया लगीं. कुछ चीजें काफी-काफ़ी इरिटेट करीं. तो बस इस रिव्यू में इन्हीं दोनों टॉपिक पर बातें होंगी- क्या बढ़िया लगा और क्या खराब.

क़ीमत: 45,000 रुपए

हमारी रेटिंग: 3.5/5

Gemopai Miso review:

Miso 700 1
इसमें साइड स्टैन्ड के साथ डबल स्टैन्ड भी है. (फ़ोटो: Mohammad Faisal/ The Lallantop)

इस इलेक्ट्रिक स्कूटर की अच्छी और बुरी बातें शुरू करने से पहले, एक बार इसके बारे में बता देते हैं. दो साल पहले दिल्ली के एक स्टार्टअप Green e-Mobility ने चाइना की Opai Electric के साथ मिलकर Gemopai नाम का एक जॉइन्ट वेन्चर बनाया. 2018 से ही ये कंपनी ग्रेटर नोएडा में इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर बना रही है. इनकी लेटेस्ट पेशकश Miso है. इसके स्पेसिफ़िकेशन और प्राइस ये रहे:

मैक्स स्पीड: 25-30 kmph
पावर: 250W
माइलेज: 60-75 kmpc
बैटरी: Li-Ion 48V AH
लोडिंग कपैसिटी: 120kg
टायर: 16-इंच ट्यूबलेस
लाइट: LED

Gemopai Miso मिनी इलेक्ट्रिक स्कूटर: अद्भुत चीज़ें

Miso 700
Miso फ़ॉर्म फैक्टर. (फ़ोटो: Mohammad Faisal/ The Lallantop)

इत्ती देर से हम जो हम Gemopai Miso की बात किए हैं और जो फ़ोटो ऊपर लगी है, उससे तो आप जान ही गए होंगे कि इसका डिजाइन काफ़ी अलग है. बेसिक फाइबर बॉडी की जगह इस स्कूटर में मेटल रॉड का बना हुआ स्ट्रक्चर है. ये मज़बूत फ़ील भी होता है और स्टाइलिश तो हय्ये है. इसका फ़ॉर्म फैक्टर थोड़ा छोटा है और वज़न भी बहुत ज़्यादा नहीं है, इसलिए घर में घुसाने और बाहर निकालने में साइकिल जैसी सहूलियत है.

अब राइडिंग एक्सपीरियंस की बात करते हैं. चाबी लगाकर घुमाते ही बिना आवाज़ के स्टार्ट हो जाती है. कोई बटन दबाना नहीं पड़ता. हॉर्न तेज़ आवाज़ वाला है, इन्डिकेटर लाइट आगे-पीछे दोनों तरफ हैं, और इन्डिकेटर का साउन्ड भी काफ़ी तेज़ है. Miso की हैंडिलिंग ज़बरदस्त है. साइकिल की ही तरह हैन्डल 90 डिग्री से ज़्यादा मुड़ जाता है और भरे मार्केट में साइकिल जैसे ही सटासट निकल जाता है.

Miso 700 8
ये स्कूटर 4 कलर में आता है– हरा, लाल, ऑरेंज, नीला (फ़ोटो: Mohammad Faisal/ The Lallantop)

एक्सेलरेटर खींचने पर पिकअप बढ़िया पकड़ता है. इसकी पावर चेक करने के लिए हमने सिंगल सीटर स्कूटर पर एक एक्स्ट्रा बंदा बैठाया, मगर पिकअप और स्पीड में कोई फर्क नहीं आया. ब्रेक से भी कोई दिक्कत नहीं है. गद्दी बढ़िया कम्फर्ट वाली है और हैन्डल की पोज़िशन थोड़ा-सा क्रूज़र राइड जैसा एक्सपीरियंस देती है. पैर रखने के लिए नीचे बेस तो है ही, साथ में साइड माउंट भी हैं, जिन पर पैर रखा जा सकता है. पीछे एक कैरियर लगाने का भी इंतज़ाम है, जो शायद सामान ढोने वालों के काम आ सके.

Gemopai का कहना है कि Miso एक चार्ज पर 60 से 75km तक चल सकता है. क़ीमत देखते हुए ये रेंज काफ़ी बढ़िया है. हमारे रिव्यू में हमें आराम से 65km का माइलिज मिल गया, जिसके बाद भी बैटरी थोड़ी बची हुई थी. पूरी बैटरी चूसकर पैदल धकियाने का मूड नहीं था, इसलिए इतना ही चेक किए.

Miso 700 6
राइडर व्यू. (फ़ोटो: Mohammad Faisal/ The Lallantop)

स्कूटर का चार्जिंग सिस्टम भी बढ़िया है. पहला तो फुल चार्ज होने में लगभग ढाई घंटा (2.5 hours) लगाता है, जो बाक़ी इलेक्ट्रिक स्कूटर के कम्पैरिजन में काफ़ी सही है. और दूसरी बात ये है कि आप चाहें तो इसे डायरेक्ट चार्ज पर लगा सकते हैं या फ़िर इसकी बैटरी निकालकर कमरे में ले जाकर चार्ज कर सकते हैं.

Gemopai Miso मिनी इलेक्ट्रिक स्कूटर: निराशा का सबब

इस इलेक्ट्रिक स्कूटर की सबसे बड़ी गड़बड़ ये है कि इसमें हैन्डल लॉक नहीं है. ATM से पैसे निकालने भी जाएंगे, तो मन बाहर ही लगा रहेगा कि कहीं कोई धकिया ना ले जाए. इसकी सेफ़्टी के लिए आपको दो काम करने पड़ेंगे. बाहर ले जाने के लिए एक बढ़िया-सा साइकिल लॉक लेना पड़ेगा और घर पर पार्क करने के लिए चेन लॉक.

Miso 700 4
LED हेड लैम्प (फ़ोटो: Mohammad Faisal/ The Lallantop)

स्कूटर में जो मीटर लगा हुआ है, वो सिर्फ़ बैटरी का स्टेटस बताता है, वो भी सिर्फ़ 100%, 75%, 50%, और 25% की रीडिंग. इसके अलावा न ये स्पीड बताता है, न ही दूरी. ओवरऑल डिस्टेंस चाहे न भी बताता, मगर ट्रिप-रीडर तो होना ही चाहिए था. इसी के साथ बात आती है स्पीड की.

ये 25kmph से 30kmph की रफ़्तार से चलता है. गली-मोहल्ले या मार्केट में चलाने में तो इस स्पीड से कोई दिक्कत नहीं होती, मगर मेन रोड पर इतनी स्पीड काफ़ी नहीं पड़ती. स्पीड कमज़-कम 35 से 40kmph तक तो जानी ही चाहिए थी.

Miso 700 5
बैटरी पांवदान के नीचे लगी है. (फ़ोटो: Mohammad Faisal/ The Lallantop)

Gempai बताता है कि Miso 120kg वज़न उठा सकता है, मगर फ़िर भी ये स्कूटर सिंगल सीटर ही है. सिंगल सीटर होने में दिक्कत कोई नहीं है. बहुत सारी बाइक भी सिंगल सीटर आती हैं. मगर जिस प्राइस रेंज में Miso बिक रहा है, उसमें शायद लोग टू-सीटर व्हीकल प्रेफ़र करेंगे. जैसे कंपनी ने पीछे सामान ढोने वाला कैरियर लगाने का इंतज़ाम कर दिया है, उसी तरह से एक एक्स्ट्रा सीट लगाने का ऑप्शन दे देती, तो बढ़िया रहता.

Gemopai Miso मिनी इलेक्ट्रिक स्कूटर: किसके लिए है ये?

Miso 700 7
स्कूटर का पिछला पहिया (फ़ोटो: Mohammad Faisal/ The Lallantop)

Gemopai Miso मिनी इलेक्ट्रिक स्कूटर की क़ीमत है 45,000 रुपए. इसका डिजाइन, हैंडलिंग, चार्जिंग स्पीड और माइलेज काफ़ी सही है, मगर इसकी टॉप स्पीड कम है और ट्रिप मीटर के साथ-साथ हैन्डल लॉक गायब है. ये सिर्फ़ उन लोगों के लिए है, जिन्हें डेली छोटा-मोटा ट्रैवल करना होता है. जैसे घर से स्कूल, स्कूल से कोचिंग, कोचिंग से मार्केट, मार्केट से घर. प्लस इसमें बाइक की तरह लाइसेन्स या इन्श्योरेन्स वग़ैरह की जरूरत नहीं पड़ती, तो स्टूडेंट के लिए परफेक्ट है. रही बात बाकियों की, तो इसके प्रोज़ और कॉन्स देखकर आप खुद अपने लिए फ़ैसला कर सकते हैं.


वीडियो: सरकार ने PUBG बैन किया, खेलने वालों ने डाउनलोड का जुगाड़ निकाल लिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

वो इंडियन डायरेक्टर जिसने अपनी फिल्म बनाने के लिए हैरी पॉटर सीरीज़ की फिल्म ठुकरा दी

वो इंडियन डायरेक्टर जिसने अपनी फिल्म बनाने के लिए हैरी पॉटर सीरीज़ की फिल्म ठुकरा दी

मीरा नायरः जो भारत से बाहर रहकर भारतीय समाज पर फिल्में बनाती हैं.

15 अक्टूबर से खुलेंगे सिनेमाघर और फिर से रिलीज़ होंगी ये छह फिल्में!

15 अक्टूबर से खुलेंगे सिनेमाघर और फिर से रिलीज़ होंगी ये छह फिल्में!

सुशांत सिंह राजपूत की भी फिल्म है इस लिस्ट में.

अशोक कुमार की 32 मज़ेदार बातेंः इंडिया के पहले सुपरस्टार थे पर कहते थे 'भड़ुवे लोग हीरो बनते हैं'

अशोक कुमार की 32 मज़ेदार बातेंः इंडिया के पहले सुपरस्टार थे पर कहते थे 'भड़ुवे लोग हीरो बनते हैं'

महान एक्टर दिलीप कुमार उनको भैय्या कहते थे और उनसे पूछ-पूछकर सीखते थे.

फ़्लिपकार्ट, ऐमज़ॉन की सालाना सेल में ये होंगी 10 सबसे बड़ी डील्स

फ़्लिपकार्ट, ऐमज़ॉन की सालाना सेल में ये होंगी 10 सबसे बड़ी डील्स

फ़ोन खरीदने का बढ़िया मौक़ा है

आईफोन 12 से लेकर वनप्लस 8T तक, कौन-कौन से फोन लॉन्च हो रहे हैं इस महीने

आईफोन 12 से लेकर वनप्लस 8T तक, कौन-कौन से फोन लॉन्च हो रहे हैं इस महीने

सवा लाख का फ़ोन लेहेव?

राज कुमार के 42 डायलॉगः जिन्हें सुनकर दर्शक तालियों पे तालियां कूट देते थे

राज कुमार के 42 डायलॉगः जिन्हें सुनकर दर्शक तालियों पे तालियां कूट देते थे

हिंदी सिनेमा में सबसे ज्यादा अकड़ इनसे ज्यादा किसी सुपरस्टार के किरदारों में नहीं थी

मिर्ज़ापुर-2 : गजबे ट्रेलर है, पूरा सिस्टम हिलाने की इस बार धमाकेदार तैयारी है

मिर्ज़ापुर-2 : गजबे ट्रेलर है, पूरा सिस्टम हिलाने की इस बार धमाकेदार तैयारी है

23 अक्टूबर को रिलीज़ होगी सीरीज़.

एक प्रेरक कहानी जिसने विनोद खन्ना को आनंदित होना सिखाया

एक प्रेरक कहानी जिसने विनोद खन्ना को आनंदित होना सिखाया

हिंदी फिल्मों के इन कद्दावर अभिनेता के जन्मदिन पर आज पढ़ें उनके 8 किस्से.

अब कहां हैं वो विलेन, जो शक्तिमान और जूनियर जी का जीना हराम किए रहते थे

अब कहां हैं वो विलेन, जो शक्तिमान और जूनियर जी का जीना हराम किए रहते थे

ये सुपरविलेन आजकल कहां हैं, आइए बताते हैं.

6 किस्से: इमरजेंसी के दौरान इंदिरा की नाक में दम करने वाला अखबार मालिक

6 किस्से: इमरजेंसी के दौरान इंदिरा की नाक में दम करने वाला अखबार मालिक

आज ही के दिन 1991 में निधन हुआ था बेखौफ रामनाथ गोयनका का.