Submit your post

Follow Us

इंडिया की हार की वो 5 वजहें जो वर्ल्ड कप से पहले शुभ संकेत नहीं है

37.42 K
शेयर्स

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज शानदार तरीके से जीतने के बाद टीम इंडिया तीन वनडे मैचों की सीरीज के पहले मैच में हार गई. सिडनी के मैदान पर ऑस्ट्रेलिया ने इंडिया को 34 रनों से हरा दिया. मैच हमारे हाथ में था मगर हम जीत नहीं पाए. रोहित शर्मा ने शानदार शतक मारा मगर कोई दूसरा बल्लेबाज चला नहीं और 289 के टारगेट से हम 34 रन दूर रह गए. आइए एक नजर डालते हैं इंडिया की हार की पांच बड़ी वजहों पर.

Untitled design (39)
आखिरी 10 ओवरों में ऑस्ट्रेलिया ने 93 रन जोड़ लिए, इंडिया ये काम नहीं कर पाई.

पहली वजह– ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग करने का फैसला किया. इंडिया ने पहला विकेट 8 के स्कोर पर गिरा भी दिया. एरॉन फिंच को भुवनेश्वर कुमार ने बोल्ड मारा. ऑस्ट्रेलिया का दूसरा विकेट 10वें ओवर की आखिरी गेंद पर गिरा जब कुलदीप यादव ने एलेक्स कैरी को 24 के स्कोर पर कैच करवा दिया. मगर इसके बाद इंडिया बॉलिंग की धार ऑस्ट्रेलिया की बैटिंग के आगे कुंद दिखी. उस्मान ख्वाज़ा ने 59 रनों की पारी खेल दी. शॉन मार्श ने 54 रन मार दिए. फिर हैंड्सकॉम्ब ने 73 रन ठोंक दिए और मारकस स्टोइनिस ने ताबड़तोड़ 47 रन मार दिए. इंडियन बॉलर्स रनों की रफ्तार को रोक ही नहीं पाए. आलम ये था कि आखिरी 10 ओवरों में ऑस्ट्रेलिया ने 93 रन बना लिए. जो इंडिया अपनी पारी में नहीं कर पाई और हम अपने टारगेट से दूर रह गए.

Untitled design (37)
कोहली पर निर्भरता को कम करें टीम इंडिया.

दूसरी वजह– इंडिया की टीम को देखकर ये बिल्कुल नहीं लगा था कि वो 289 का टारगेट नहीं पा सकेगी. मगर एक बार फिर साबित हो गया कि टीम विराट कोहली के बल्ले पर कितनी ज्यादा निर्भर हो गई है. इंडिया ने अपने पहले तीन विकेट सिर्फ चार के स्कोर पर खो दिए. ओपनर शिखर धवन जीरो पर आउट हो गए. कोहली को भी तीन रन पर निपटा दिया गया और फिर रायुडू भी अंडा बनाकर आउट हो गए. 4/3 के स्कोर पर धोनी आए और उन्होंने रोहित शर्मा के साथ मिलकर 137 रनों की पार्टनरशिप की. मगर टीम को जीत तक नहीं ले जा पाए. धोनी ने 51 रन बनाए. रोहित शर्मा ने शानदार 133 रन बनाए मगर वो भी मैच को आखिरी गेंद तक नहीं ले जा पाए. ये रोहित का 22वां वनडे शतक है. रोहित ने 10 चौके और 6 छक्के जड़े. खैर,दिनेश कार्तिक और रवींद्र जडेजा भी उस रोल को नहीं निभा पाए जिसकी उनसे उम्मीद थी. यानी लोअर ऑर्डर में रन बनाने का रोल. वर्ल्ड कप से 4 महीने पहले अब इंडिया को अपनी इस कमजोरी पर सीरीयसली सोचना होगा कि क्या कोहली ही सबकुछ करेंगे.

KL Rahul hardik pandya karan johar
हार्दिक पंडिया और केएल राहुल किसी टीवी शो में जाने से तौबा कर लेंगे.

तीसरी वजह– अब टीम में हार्दिक पंड्या और केएल राहुल नहीं हैं और टीम पहला मैच हार भी गई है तो हार की सीधे सीधे वजह इन दोनों की गैरमौजूदगी ही लगती है. हार्दिक पंड्या और केएल राहुल को करण जौहर के शो कॉफी विद करण में महिलाओं के बारे में आपत्तिजनक टिप्पणियों के लिए टीम से बाहर कर दिया गया है. पंड्या अगर इस मैच में होते तो शायद वो गेंद और बल्ले से टीम के लिए जिताऊ साबित हो सकते थे. वहीं केएल राहुल की भी एक पारी इंडिया को ये मैच जिता सकती थी. चूंकि दोनों पर अनुशासनात्मक कार्रवाही हुई है तो उनके फैंस उन्हें मिस करने के अलावा अब क्या ही कर सकते हैं.

Untitled design (38)
कभी धोनी की मजबूती ही अब उनकी कमजोरी बन चुकी है.

चौथी वजह– महेंद्र सिंह धोनी और रोहित शर्मा ने चौथे विकेट के लिए 137 रनों की पार्टनरशिप करके मैच बना लिया था. मगर धोनी ने एक बार फिर वही किया जो वो बीते कुछ वक्त से लगातार कर रहे हैं. यानी वो मैच के अहम पड़ाव को पार तो कर जाते हैं मगर उसे फिनिश नहीं कर पाते जिसके लिए धोनी को जाना जाता था. धोनी ने अपनी 51 रनों की पारी के लिए 96 गेंदें लीं. तीन चौके मारे और एक छ्क्का. अब धोनी जैसे प्लेयर से ये उम्मीद की जाती है कि वो अगर शुरू में स्लो खेल रहे हैं तो बाद में तेज खेलकर कवरअप करें. मगर धोनी ये कर नहीं पाए औऱ फिर आगे आने वाले बैट्समेन के लिए आस्किंग रेट आसमान चढ़ गया. अपने करियर के आखिरी पड़ाव पर खड़े महेंद्र सिंह धोनी को वर्ल्ड कप से ठीक पहले अपनी इस कमजोरी पर काम करने की सख्त जरूरत है.

Untitled design (40)
एक और नया बॉलर चौंका गया.

पांचवीं वजह– मैच हारने की आखिरी और सबसे बड़ी वजह. नए गेंदबाज को फेस करने का हउवा. याद है आपको पाकिस्तान के वहाब रियाज, मोहम्मद आमिर, श्रीलंका के अजंता मेंडिस या फिर इंग्लैंड के सैम करेन. इन्होंने इंडिया के खिलाफ पहले ही मैच में धावा बोल दिया था. क्योंकि इंडिया की ये कमजोरी है कि वो विरोधी टीम के नए गेंदबाजों के खिलाफ एक्सपोज हो जाती है. ऑस्ट्रेलिया के 22 साल के झे रिचर्ड्सन के खिलाफ भी वही हुआ. इस फास्ट बॉलर का ये करियर का चौथा वनडे थे और 10 ओवरों में 26 रन देकर इंडिया के 4 विकेट गिरा दिए. इनमें विराट कोहली, अंबती रायुडू, दिनेश कार्तिक और रवींद्र जडेजा के विकेट हैं. इंडिया को नए गेंदबाजों को हल्के में लेने की अपनी इस कमजोरी पर तुरंत काम करने की जरूरत है क्योंकि वर्ल्ड कप में ऐसे कई सरप्राइज एलिमेंट होंगे जो हमें इस कप से बाहर कर सकती हैं.

तो इंडिया सीरीज का पहला मैच हार गई. अब दूसरा मैच 15 जनवरी को एडिलेड और फिर आखिरी वनडे मेलबर्न में 18 जनवरी को होना है. उम्मीद कीजिए कि इंडिया ने जो गलतियां यहां कीं, वो आगे न दोहराई जाएं और हम यहां ये सीरीज जीतकर न्यूजीलैंड के लिए रवाना हों जहां 5 वनडे और तीन टी20 मैच खेलने हैं.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Five reasons why India lose first ODI at Sydney against Australia by 34 runs

पोस्टमॉर्टम हाउस

क्या हुआ जब दो चोर, एक भले आदमी की सायकल लेकर फरार हो गए

सायकल भी ऐसी जिसे इलाके में सब पहचानते थे.

मूवी रिव्यू: गेम ओवर

थ्रिल, सस्पेंस, ड्रामा, मिस्ट्री, हॉरर का ज़बरदस्त कॉकटेल है ये फिल्म.

भारत: मूवी रिव्यू

जैसा कि रिवाज़ है ईद में भाईजान फिर वापस आए हैं.

बॉल ऑफ़ दी सेंचुरी: शेन वॉर्न की वो गेंद जिसने क्रिकेट की दुनिया में तहलका मचा दिया

कहते हैं इससे अच्छी गेंद क्रिकेट में आज तक नहीं फेंकी गई.

मूवी रिव्यू: नक्काश

ये फिल्म बनाने वाली टीम की पीठ थपथपाइए और देख आइए.

पड़ताल : मुख्यमंत्री रघुवर दास की शराब की बदबू से पत्रकार ने नाक बंद की?

झारखंड के मुख्यमंत्री की इस तस्वीर के साथ भाजपा पर सवाल उठाए जा रहे हैं.

2019 के चुनाव में परिवारवाद खत्म हो गया कहने वाले, ये आंकड़े देख लें

परिवारवाद बढ़ा या कम हुआ?

फिल्म रिव्यू: इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड

फिल्म असलियत से कितनी मेल खाती है, ये तो हमें नहीं पता. लेकिन इतना ज़रूर पता चलता है कि जो कुछ भी घटा होगा, इसके काफी करीब रहा होगा.

गेम ऑफ़ थ्रोन्स S8E6- नौ साल लंबे सफर की मंज़िल कितना सेटिस्फाई करती है?

गेम ऑफ़ थ्रोन्स के चाहने वालों के लिए आगे ताउम्र की तन्हाई है!

पड़ताल: पीएम मोदी ने हर साल दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने की बात कहां कही थी?

जानिए ये बात आखिर शुरू कहां से हुई.