Submit your post

Follow Us

लाइट जाने के बाद चार्जर फोन की बैटरी सुड़ुक जाता है?

पना स्मार्टफोन लाइफलाइन है भाई. इसके बिना जीने से अच्छा है लंगोटा मारकर जंगल चले जाएं. बैराग्य ओढ़ लें. कमोड पर भी जो चीज साथ नहीं छोड़ती उसका नाम मोबाइल है दोस्त. लेकिन वही मोबाइल जान का दुश्मन बन जाता है अगर उसकी बैटरी खत्म हो जाए. सोचो किसी थकाऊ पकाऊ से रिश्तेदार के बगल में बैठे हो. वो अपनी रामकथा सुनाने में तुम्हारे कानों को गला के चुआ देने पर उतारू है. उसकी मार से तुमको तुम्हारा मोबाइल बचाए है. अचानक उसकी बैटरी चुक जाए. गुस्सा बहुत आएगा न. लेकिन ये जानते हुए भी कि बैटरी चुक जाएगी, तुम उसको चार्ज नहीं किए थे. कुछ अफवाहें तुम्हारे अंदर ठोंक के भर दी गई हैं. उनका जाला साफ करने का वक्त आ गया है. आओ हम बताते हैं बैटरी कैसे चार्ज करोगे तो फायदे में रहोगे.

1.

कुछ एक्स्ट्रा सयाने लोग बताते हैं कि थोड़ी थोड़ी देर पर बैटरी चार्ज करोगे तो वो खराब हो जाएगी. उसकी उम्र कम पड़ जाएगी. ऐसा कुछ न है भैया. कहीं निकलने से पहले उसको डबोडब्ब ऊपर तक भर लो. बैटरी एकदम चुके तब चार्ज करने से अच्छा है थोड़ी देर पहले ही खोंस दो चार्जर.

2.

एक सलाह कुछ ज्ञान का कीड़ा दिमाग में पाले लोग देते हैं कि सुनो, एकदम दो या चार परसेंट बैटरी बचे तो पिन खोंसना. नहीं तो बैटरी खराब हो जाएगी. उनकी बात मानकर फोन के मरने का इंतजार करते रहते हो तो चेत जाओ. ये बहुत बड़ा झूठ है साब. दरअसल लीथियम बैटरी का लोएस्ट स्ट्रेस लेवल होता है. उस पर पहुंचने से पहले बैटरी चार्ज कर लेनी चाहिए. नहीं तो वो हो जाएगा कि बैटरी की जिंदगी कम हो जाएगी.

3.

रात में सारी बैटरी चूस के अंतिम नोटिफिकेशन तक कमेंट करके जो मोबाइल चार्जिंग में लगाते हो. और सुबह निकालते हो. ये मोबाइल को गुप्त रोग दे देगा बताए देते हैं. जैसे खुद दिन भर भूखे रहने के बाद रात भर नहीं खाते रहते, वैसे ही फोन के ऊपर भी दया करो.

4.

हमेशा फुल्ल चार्जिंग के जुगाड़ में न रहो. कुछ लोगों को जैसे दीवार देखकर पेशाब लग आती है. वैसे ही बिजली का सॉकेट देखकर चार्जिंग की चाह लग जाती है. वो दौड़कर चार्जर ठांस देते हैं. भले बैटरी 70 परसेंट चार्ज हो. ये जान लो कि बैटरी कभी फुल चार्ज नहीं करना. 100 परसेंट चार्ज बैटरी भी अपनी उम्र खुद खा लेती है.

5.

चार्जिंग करने के दौरान फोन गरम हो जाता है? ओह, महंगा वाला आईफोन है. पहले तो सॉरी. उसे सिर्फ फोन कहने के लिए. अब सुनो जुगाड़. उसका कवर निकाल दो. उसको थोड़ी राहत मिलेगी. कवर निकाल के ही चार्ज करना अब. जब फोन धूप में रखा हो चार्ज होने के लिए. कभी कभी ऐसी सिचुएशन आ जाती है भाई. तब उसको कवर से न निकालना.


ये भी पढ़ें:

चीन की कंपनी ने सबसे तगड़ा फोन लॉन्च किया है, लेओगे?

क्या आपको भी फोन में ब्लास्ट का डर सताता है? जानिए क्या करें और क्या न करें!

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

कामयाब: मूवी रिव्यू

एक्टिंग करने की एक्टिंग करना, बड़ा ही टफ जॉब है बॉस!

फिल्म रिव्यू- बागी 3

इस फिल्म को देख चुकने के बाद आने वाले भाव को निराशा जैसा शब्द भी खुद में नहीं समेट सकता.

देवी: शॉर्ट मूवी रिव्यू (यू ट्यूब)

एक ऐसा सस्पेंस जो जब खुलता है तो न सिर्फ आपके रोंगटे खड़े कर देता है, बल्कि आपको परेशान भी छोड़ जाता है.

ये बैले: मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

'ये धार्मिक दंगे भाड़ में जाएं. सब जगह ऐसा ही है. इज़राइल में भी. एक मात्र एस्केप है- डांस.'

फिल्म रिव्यू- थप्पड़

'थप्पड़' का मकसद आपको थप्पड़ मारना नहीं, इस कॉन्सेप्ट में भरोसा दिलाना, याद करवाना है कि 'इट्स जस्ट अ स्लैप. पर नहीं मार सकता है'.

फिल्म रिव्यू: शुभ मंगल ज़्यादा सावधान

ये एक गे लव स्टोरी है, जो बनाई इस मक़सद से गई है कि इसे सिर्फ लव स्टोरी कहा जाए.

फिल्म रिव्यू- भूत: द हॉन्टेड शिप

डराने की कोशिश करने वाली औसत कॉमेडी फिल्म.

फिल्म रिव्यू: लव आज कल

ये वाली 'लव आज कल' भी आज और बीते हुए कल में हुए लव की बात करती है.

शिकारा: मूवी रिव्यू

एक साहसी मूवी, जो कभी-कभी टिकट खिड़की से डरने लगती है.

फिल्म रिव्यू: मलंग

तमाम बातों के बीच में ये चीज़ भी स्वीकार करनी होगी कि बहुत अच्छी फिल्म बनने के चक्कर में 'मलंग' पूरी तरह खराब भी नहीं हुई है.