Submit your post

Follow Us

फिल्म रिव्यू बाहुबली 2 - जय माहिष्मती!

Baahubali 2: The Conclusion रिलीज हो गई और पता चल चुका है. कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा? इंटरनेट पर जुलाई 2015 से विकट वायरल हुए इस सवाल के जवाब के अलावा भी ये फिल्म बहुत कुछ थी. और ये बात इसे देखते हुए पता लगती है. ये फिल्म बहुत, बहुत, और बहुत ही ज्यादा मनोरंजक है. इस फिल्म में सब कुछ बड़ा है. भव्य है. सिवाय इसके गानों के. कुछ गाने जबरिया घुसाए हुए लगते हैं. फिल्म शुरू होते ही गाना शुरू हो जाता है. गाने के साथ संगमरमर की मूर्तियों के सहारे आपको वो दिखाया जाता है जो आप पहले भी देख चुके हैं. एक तरह से ये नेट प्रैक्टिस है. आपको ये याद दिलाया जाता है कि आप क्या बड़ी सी चीज पहले देख आए हैं. आपकी तैयारी कराई जाती है कि आगे जाकर आप फिल्म में क्या देखने वाले हो. उस पहले गाने+ क्रेडिट्स के खत्म होते-होते आप माहिष्मती के नागरिक हो चुके होते हैं.

bahubali 2 story image
बाहुबली शुरू होते ही दर्शकों की स्थिति

उसके ठीक बाद एक दूसरा गाना शुरू हो जाता है. उसके खत्म होते ही आपको वो नज़र आता है, जिसे देखने आपका चोर मन गया है. कटप्पा. फिल्म पिछली दफा जहां खत्म हुई थी. इस बार वहीं से शुरू हुई है. यानी कि कटप्पा फ्लैशबैक में गया होता है. अब आप परदे पर कटप्पा और अमरेंद्र बाहुबली की नोंक-झोंक देख रहे होते हैं. कटप्पा को लेकर जितना शोर फिल्म से पहले था. स्क्रीन पर उन्हें उतनी ही इम्पोर्टेंस दी गई है. ये फिल्म एक मायने में बिलकुल सफल हुई है. अपने तमाम किरदारों के साथ न्याय करने में अमरेंद्र बाहुबली हों या महेंद्र. कटप्पा हो या राजमाता शिवगामी.

Maharani

कटप्पा यानी सत्यराज को आप कॉमेडी करते पाते हैं. अमरेंद्र ने एक साथ ढेर सा स्क्रीनटाइम शेयर किया है. जिसमें कॉमेडी सीन भी भरपूर हैं. और यकीन मानिए वो बेतुके नहीं हैं. बहुत ही अच्छे से लिखे गए और फिल्माए गए हैं. बिना फूहड़ता वाली इस कॉमेडी को ऐसी बड़ी फिल्म में सही जगह पर रखना भी राजामौली की कामयाबी है. जब हालत बदलते हैं और पीठ से पीठ जोड़कर साथ युद्द करना होता है तब भी प्रभास और सत्यराज का कॉम्बीनेशन बहुत कमाल का नज़र आता है. ये सबको पता है कि कटप्पा ने ही बाहुबली को मारा था. कटप्पा को ये क्यों करना पड़ा. मामा-मामा पुकारते अमरेंद्र की पीठ में तलवार भोंकने की विवशता सत्यराज ने बड़े अच्छे से परदे पर उतारी है. कुल जमा ये किरदार बेंचमार्क है. जितना बड़ा आपको उसका भौकाल नज़र आ रहा है. उसी लेवल का काम भी वो आपको करते नज़र आता है.

katappa

तो फिल्म शुरू होती है जब कालकेय राजा को बाहुबली हरा देता है. बाहुबली की चाची शिवगामी के वचन के अनुसार उसको राजा बनाया जाता है. ये बात कहीं से भी शिवगामी के पति और बेटे भल्लाल देव को नहीं सुहानी थी नहीं सुहाई. साजिशें शुरू होती हैं. और जैसा कि फिल्मों में होता है. मुख्य किरदार को महान दिखाना है तो राम भगवान जैसा. अब राम जी को भी राजा बनाया गया था लेकिन ताजपोशी नहीं हुई थी. एक तिथि निर्धारित हुई थी. वैसा ही यहां भी होता है. शेष जनता समझदार है.

mahendra bahubali

महारानी शिवगामी का किरदार निभाने वाली राम्या कृष्णन इस फिल्म के हर फ्रेम में अपने किरदार में पूरी-पूरी उतर गई हैं. उनकी आंखों से आंसू झरते हैं. पीछे से कैलाश खेर फिल्म का इकलौता याद रहने वाला गाना गाते हैं तो बगल की सीट वाला कहता है, मुझे भी रोना आ रहा है. जब वो गुस्से में चीखकर आंखें दिखाती हैं. तो राणा दग्गुबाती के साथ सिनेमाहॉल भी सन्ना जाता है कि अब ये क्या होगा. इस फिल्म में बहुत मसल पावर है. हाथों से पेड़ उखाड़ दिए जाते हैं. हाथी गिरा दिए जाते हैं. इस सबके बीच राम्या की एक्टिंग उन्हें तमाम चीजों से कहीं-कहीं ज्यादा मजबूत दिखाती है. कहीं भी देहबल ने कहानी के उस हिस्से को नहीं दबा दिया जहां शिवगामी के फैसले सबसे मजबूत थे.

ramya krishnan

पर इस फिल्म में बहुत से स्लो मोशन हैं. जहां क्षत-विक्षत शरीर उड़ते हैं. बैलगाड़ियां खिलौनों सी फेंक दी जाती हैं. पेड़ एक हाथ से उखाड़ दिए जाते हैं. बड़े-बड़े बांध बैलों के जरिये तोड़ दिए जाते हैं. प्रभास पहले अमरेंद्र और बाद में महेंद्र के तौर पर ये सब करते सहज नज़र आते हैं. आपको भरोसा होता है कि हां ये इतना तो कर ही लेगा. क्लाइमैक्स में भल्लाल और बाहुबली टकराते हैं. इतनी बड़ी फिल्म है तो देहाटन तो होगा ही. परदे पर पहाड़ सी दो मेल बॉडीज टकराती हैं. तमाम वीएफएक्स-हरे परदे के कमाल और छुपे तारों की कलाकारी के बावजूद आपको वो सीन याद रह जाता है. ये इसलिए क्योंकि प्रभास ने कहीं कोई लोच नहीं छोड़ा है.

prabhas

अगर आपके साथ बालकबुद्धि भी फिल्म देखने जाती है तो आपको भरपूर एक्शन मिलता है. इस बारे में कुछ लिखकर पंक्तियां बर्बाद करने से बेहतर आपको ये बता दिया जाए कि आप जो देखना चाहते हैं. वो आपको मिलेगा. पांच सौ का पॉपकॉर्न खाने वाला दर्शक भी एक्शन पर सीटी मार रहा था.  फिल्म लंबीईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईई है. पिछली वाली से भी 11-12 मिनट ज्यादा लंबी. लेकिन इन लोगों ने जो तय कर लिया था कि परदे पर आपको दिखाएंगे. वो दिखाते जा रहे थे. और आपको देखने में कोई बोरियत नहीं हो रही थी.

mahishmati

इस फिल्म को देखा जाना चाहिए. अगर आप फिल्में देखते हैं. इस तरह की फिल्में आपको पसंद हैं और सिनेमाहॉल में जाकर इस फिल्म को नहीं देखते तो आप अपने साथ धोखा करेंगे. ये लैपटॉप वाली फिल्म नहीं है. इसे बड़े परदे पर देखना सिनेमा देखने का सुख है. बहुत सही पिक्चर है. जरुर जाओ. घर वालों को लेकर जाओ.

अब आपक कहोगे ये तो बताया ही नहीं कि बाहुबली को कटप्पा ने मारा क्यों था. अगर स्पॉइलर से दिक्कत न हो तो अगली लाइन आपके लिए हैं. बाहुबली को कटप्पा ने इसलिए मारा क्योंकि वो एंटी-नेशनल था.


ये भी पढ़ें

बहुत हुई बकैती, जानिए कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा

बाहुबली-2 लीक हो गई है!

बाहुबली-2 का सबसे पहला रिव्यू

बाहुबली-2 के विजुअल्स को और मजेदार बनाने वाले इस इंसान से मिलिए

बाहुबली-2 के हिंदी गाने आ गए हैं, फिल्म का आधा सुख यहीं है!

बाहुबली ने उस कैटेगरी में भी रिकॉर्ड तोड़े हैं, जिसमें हमने सोचा तक नहीं

कहानी ‘बाहुबली’ रचने वाले की, जिसके साथ काम करने को रजनीकांत तड़प रहे हैं

कहानी ‘बाहुबली’ रचने वाले की, जिसके साथ काम करने को रजनीकांत तड़प रहे हैं

कटप्पा का इंटरव्यू : असल में बड़ा हंसमुख आदमी है ये

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

वो फिल्म जिसमें काजोल का मर्डर कर, आशुतोष राणा ने फिल्मफेयर जीत लिया

काजोल के साथ ब्लॉकबस्टर फिल्में दे चुके शाहरुख ने इस फिल्म में काम करने से मना क्यों कर दिया?

इंडिया का वो ऐक्टर, जिसे देखकर एक्टिंग की दुनिया के तमाम तोपची नर्वस हो जाएं

नर्वस होने की लिस्ट में शाहरुख़, सलमान, आमिर सबके नाम लिख लीजिए.

वेंडल रॉड्रिक्स, जिन्होंने दीपिका को रातों-रात मॉडल और फिर स्टार बना दिया?

आज वेंडेल रोड्रिक्स का बड्डे है.

घोड़े की नाल ठोकने से ऑस्कर तक पहुंचने वाला इंडियन डायरेक्टर

इन्हें अंग्रेज़ी नहीं आती थी, अमेरिका जाते वक्त सुपरस्टार दिलीप कुमार को साथ लेकर गए थे. हॉलीवुड के डायरेक्टरों की बात समझने के लिए.

इबारत : नेहरू की ये 15 बातें देश को हमेशा याद रखनी चाहिए

नेहरू के कहे-लिखे में से बेहतरीन बातें पढ़िए

अमिताभ की उस फिल्म के 6 किस्से, जिसकी स्क्रीनिंग से डायरेक्टर खुद ही उठकर चला गया

अमिताभ डायरेक्टर के पीछे-पीछे भागे, तब जाकर वो रुके.

इबारत : Ertugrul में इब्ने अरबी के 10 डायलॉग अंधेरे में मशाल जैसे लगते हैं

आजकल ख़ूब चर्चा हो रही है इस सीरीज़ की

इबारत : शरद जोशी की वो 10 बातें जिनके बिना व्यंग्य अधूरा है

आज शरद जोशी का जन्मदिन है.

इबारत : सुमित्रानंदन पंत, वो कवि जिसे पैदा होते ही मरा समझ लिया था परिवार ने!

इनकी सबसे प्रभावी और मशहूर रचनाओं से ये हिस्से आप भी पढ़िए

गिरीश कर्नाड और विजय तेंडुलकर के लिखे वो 15 डायलॉग, जो ख़ज़ाने से कम नहीं!

आज गिरीश कर्नाड का जन्मदिन और विजय तेंडुलकर की बरसी है.