Submit your post

Follow Us

Impact Feature: ZEE5 की सीरीज़ 'अभय' में दिखेंगे तीन नृशंस अपराध, जिन्होंने देश को हिलाकर रख दिया

5
शेयर्स

हम लोग आज ऐसे दौर में रह रहे हैं जहां हर तरह के क्राइम होना आम है. अखबारों में पन्ने दर पन्ने, न्यूज़ चैनलों के प्राइम टाइम स्लॉट्स पर और सोशल मीडिया पर कई तरह के अपराधों पर बातें होती हैं. कुछ अपराध ज्यादा गंभीर नहीं, और कुछ बहुत ही घृणित हैं. सब रोज़ भारत में घटते हैं. इतने अधिक घटते हैं कि अब इनके बारे में पढ़ते हुए हम शायद पलक तक नहीं झपकाते. लेकिन फिर कोई ऐसी घटना हो जाती है जो पूरे के पूरे मुल्क की अंतरात्मा को झंझोर जाती है. हम सतर्क हो जाते हैं. उस घटना पर गौर करते हैं. भय से कांपते हैं. शॉक होते हैं. सोचते हैं कि कोई इंसानी दिमाग भला ये सब करने के बारे में सोच भी कैसे सकता है!

क्राइम के ऐसे ही तीन मामले हैं जिन्होंने अपनी हैवानियत के चलते पूरे भारत को कपकपा दिया.

1) निठारी रेप और मर्डर केस (2006/निठारी, नोएडा) – नोएडा के सेक्टर 31 के डी-5 को पहली नजर में देखें तो एक सामान्य सफेद घर लगता है. लेकिन इसकी दीवारों के भीतर जो हुआ वो पैशाचिक से कम नहीं था. इसका खुलासा तब हुआ जब पास ही के गांव से गायब हो गए बच्चों के अवशेष इस घर के पीछे के नाले में स्थानीय लोगों को मिले. जब सच सामने आया तो ये वीभत्स कहानी रेप, बच्चों के यौन शोषण, मर्डर और कैनिबलिज़्म यानी इंसान का मांस खाने की थी. ऐसी कहानी जो इस देश में पहले नहीं देखी थी. इस मामले में इस मकान के मालिक मोनिंदर सिंह पंढेर और नौकर सुरिंदर कोली को गिरफ्तार किया गया. इन दोनों पर 20 साल की एक लड़की पायल का यौन उत्पीड़न करने और उसकी हत्या करने का आरोप भी लगा. उसके शरीर के अंश भी उन बच्चों के अंगों के साथ पाए गए. जांच में पंढेर के खिलाफ सबूत नहीं मिला. हालांकि, कोली ने माना कि उसने इन विकृत कृत्यों को किया है और उसे रेप, हत्या व कैनिबलिज़्म का दोषी पाया गया. 9 अप्रैल, 2019 को सीबीआई की कोर्ट में कोली को 11वें केस में मृत्युदंड की सजा सुनाई गई.

निठारी कांड में कई बच्चों के साथ के साथ गलत चीज़ें हुई थीं और अचानक इतने बच्चों की गायब होने की खबर भी अखबारों में सुर्खियां बना रही थीं.
निठारी कांड में कई बच्चों के साथ गलत चीज़ें हुई थीं और मामला बच्चों से जुड़े होने की वजह से इस कैस पर देशभर की जनता की नज़र गड़ी हुई थी. 

2) भोपाल ट्रिपल मर्डर केस (2010/2016 छत्तीसगढ़/रायपुर) – बात भोपाल की है. 3 फरवरी 2018 को यहां के साकेत नगर में एक दोमंजिला घर के पहले माले में जब सब-इंस्पेक्टर सतेंद्र सिंह कुशवाहा पुलिसवालों की एक टीम को लेकर पहुंचे तो लिविंग रूम में पहली चीज जो उन्होंने कमरे में देखी, वो थी एक सीमेंट ब्लॉक जिसके ऊपर एक मार्बल स्लैब रखी थी. इसके अंदर थी आकांक्षा शर्मा की बॉडी. आकांक्षा एक बंगाली युवक उदयन दास के साथ लिव-इन में रह रही थी, गर्लफ्रेंड थी. उदयन को शहर में आए ज्यादा वक्त नहीं हुआ था. उसने हत्या की क्योंकि उसे शक था कि वो उसके प्रति वफादार नहीं थी. 32 साल के उदयन ने हत्या करने और अपनी प्रेमिका तो दफ्न करने की प्रेरणा हॉलीवुड फिल्म ‘डेविल्स नॉट’ से ली थी. आगे की जांच में पता चला कि आठ साल पहले दास ने अपने माता-पिता को भी मारकर रायपुर के अपने घर के बगीचे में दफना दिया था. सिर्फ इसलिए क्योंकि वो आर्ट्स और सोशल साइंस की पढ़ाई करना चाहता था लेकिन उसके माता-पिता उसे “मैथ्स पढ़ने के लिए जबरदस्ती करते थे.” बाद में उसने माता-पिता का घर बेच दिया क्योंकि उसे “आलीशान जिंदगी जीनी थी और अपने सपनों का पीछा करना था.” उदयन अकेला ही रहता था, उसके कोई दोस्त भी नहीं थे और बचपन में उसे बहुत बुली किया गया. वो 110 फेसबुक अकाउंट हैंडल करता था जिनसे वो लोगों से बात करता था. इसी के जरिए वो आकांक्षा से मिला था. उसे मारने के बाद उसने कई दिनों तक आकांक्षा की आइडेंटिटी अपनाए रखी और किसी को संदेह न हो इसलिए आकांक्षा बनकर वॉट्सएप पर उसके माता-पिता से बात करता रहता था. मर्डर के अलावा उस पर जालसाज़ी और धोखाधड़ी के आरोप भी लगे, जब ये बात पता चली कि अपने माता-पिता के बैंक खाते से पैसे निकलवाने के लिए बैंक अधिकारियों की मदद से पेरेंट्स के नकली सिग्नेचर किए. अब उदयन जेल में है और निचली अदालत में मामला चल रहा है.

'अभय' के ट्रेलर का एक सीन. इस सीरीज़ में गांव वगैरह में डायन-चुड़ैल बताकर महिलाओं को जान से मार दिए जाने वाली घटनाओं का भी ज़िक्र होगा.
‘अभय’ के ट्रेलर का एक सीन. इस सीरीज़ में गांवों में डायन-चुड़ैल बताकर महिलाओं को जान से मार दिए जाने वाली घटनाओं का भी ज़िक्र होगा.

3) डेटिंग एप्प मर्डर (2018, जयपुर) – जयपुर के 29 साल के युवक दुष्यंत शर्मा ने जब एक ऑनलाइन डेटिंग एप्प पर प्रियंका सेठ नाम की युवती को राइट-स्वाइप किया तो उसे उम्मीद नहीं थी कि कुछ ही दिनों में उसकी हत्या कर दी जाएगी और उसके शरीर के टुकड़े-टुकड़े करके एक सूटकेस में भर दिए जाएंगे. ये लावारिस पड़ा सूटकेस इस हत्याकांड के कुछ दिन बाद जयपुर-दिल्ली हाइवे पर मिला. मई 2018 में 27 साल की प्रिया सेठ और उसके दो साथियों दीक्षांत कामरा और लक्ष्य वालिया ने दुष्यंत के अपहरण और हत्या की प्लानिंग और काम को अंजाम दिया. प्रिया ने अपने शिकार को एक डेटिंग एप्प के जरिए ललचाया जहां बदकिस्मती से दुष्यंत के बैचलर और करोड़पति होने का दावा किया गया था. ये दोनों 2 मई को डेट पर मिले. बाद में दुष्यंत को प्रिया ने जयपुर के बालाजी नगर के अपने अपार्टमेंट में बुलाया. यही वो अपार्टमेंट था जहां उसे बंधक बनाकर रखा गया, उसका मर्डर किया गया और टुकड़े-टुकड़े किया गया. गला रेतने से पहले तीनों दोषियों ने दुष्यंत से उसके पिता को कॉल करवाया और 10 लाख रुपये की फिरौती देने के लिए कहा. उसके पिता उसी दिन 10 लाख रुपये की व्यवस्था नहीं कर पाए और उन्होंने 3 लाख रुपये दिए गए खाते में ट्रांसफर करवा दिए. लेकिन उसके बाद उन्होंने बेटे की आवाज कभी नहीं सुनी. प्रिया सेठ का इससे पहले वेश्यावृत्ति, एटीएम लूटने, फिरौती और रेप केस करने की धमकी देने का इतिहास रहा है. इसी की बदौलत तीनों दोषियों को पुलिस ने दुष्यंत के शरीर के टुकड़े मिलने के 10 घंटे के भीतर ही दबोच लिया. ये तीनों नृशंस हत्यारे अब जेल में हैं और इस जांच के पूरा होने का इंतजार कर रहे हैं.

सीरीज़ के एक सीन में मुख्य किरदार निभा रहे कुणाल खेमू. कुणाल करण जौहर की फिल्म 'कलंक' में भी नज़र आने वाले हैं.
सीरीज़ के एक सीन में मुख्य किरदार निभा रहे कुणाल खेमू. कुणाल करण जौहर की फिल्म ‘कलंक’ में भी नज़र आने वाले हैं.

पुलिस न्यायपालिका की तत्परता से ये और ऐसे कई अपराध, और उन्हें करने वालों को पकड़ा जा सका और जल्द ही दोषियों को सजा मिलेगी. इन्हीं और ऐसे कई अन्य मामलों से प्रेरित है ZEE5 की हालिया वेब सीरीज अभय.‘  इस सीरीज में पुलिस की जांच जैसे जैसे आगे बढ़ती है हम इन क्राइम्स की घिनौनी डीटेल्स देखते हैं. ये भी देखते हैं कि पुलिस ने इन मामलों को क्रैक कैसे किया. इस सीरीज में लीड रोल कुणाल खेमू कर रहे हैं. अभयआपको शॉक करेगी, डराएगी जैसे जैसे इसमें अपराध होते दिखेंगे और बाद में आप राहत की सांस लेंगे जब दोषी पकड़े जाएंगे. इस सीरीज का ट्रेलर आप यहां देख सकते हैं. इस बांध देने वाली क्राइम सीरीज को देखने के लिए ZEE5 पे सब्सक्राइब कर सकते हैं. इसके 4 एपिसोड अब तक चुके हैं  आगे के 2 एपिसोड आज रिलीज़ हो गए.


इस सीरीज का ट्रेलर आप यहां देख सकते हैं:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Abhay: Zee5 Web series inspired from real incidents starring Kunal Kemmu

पोस्टमॉर्टम हाउस

मेड इन हैवन: रईसों की शादियों के कौन से घिनौने सच दिखा रही है ये सीरीज़?

क्यों ये वेब सीरीज़ सबसे बेस्ट मानी जाने वाली सीरीज़ 'सेक्रेड गेम्स' से भी बेस्ट है.

गेम ऑफ़ थ्रोन्स सीज़न 8 एपिसोड 4 - रिव्यू

सब कुछ तो पिछले एपिसोड में हो चुका, अब बचा क्या?

मूवी रिव्यू: सेटर्स

नकल माफिया कितना हाईटेक हो सकता है, ये बताने वाली थ्रिलर फिल्म.

फिल्म रिव्यू: ब्लैंक

आइडिया के लेवल पर ये फिल्म बहुत इंट्रेस्टिंग लगती है. कागज़ से परदे तक के सफर में कितनी दिलचस्प बन बाती है 'ब्लैंक'.

'जुरासिक पार्क' जैसी मूवी के डायरेक्टर ने सत्यजीत राय की कहानी कॉपी करके झूठ बोला!

जानिए क्यों राय अपनी वो हॉलीवुड फिल्म न बना पाए, जिसकी कॉपी सुपरहिट रही थी, और जिसे फिर बॉलीवुड ने कॉपी किया.

ढिंचाक पूजा का नया गाना, वो मोदी विरोधी हो गईं हैं

फैंस के मन में सवाल है, क्या ढिंचाक पूजा समाजवादी हो गई हैं?

गेम ऑफ़ थ्रोन्स सीज़न 8 एपिसोड 3 - रिव्यू

एक लंबी रात, जो अंत में आपको संतुष्ट कर जाती है.

कन्हैया के समर्थन में गईं शेहला राशिद के साथ बहुत ग़लीज़ हरकत की गई है

पॉलिटिक्स अपनी जगह है लेकिन ऐसा घटिया काम नहीं होना था.

एवेंजर्स एंडगेम रिव्यू: 11 साल, 22 फिल्मों का ग्रैंड फिनाले, सुपरहीरोज़ का महाकुंभ और एक थैनोस

याचना नहीं, अब रण होगा!

क्या शीला दीक्षित ने कहा कि सरकारी स्कूल में बूथ न बनें, वरना लोग स्कूल देख AAP को वोट दे देंगे?

ज़ी रिबप्लिक के बाकी ट्वीट पढ़ेंगे तो पूरा मामला क्लियर हो जाएगा.