Submit your post

Follow Us

मोदी सरकार 2.O में इन 11 पुराने मंत्रियों को मिली सजा

1
शेयर्स

30 मई, 2019. बीजेपी के संसदीय दल के नेता नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली. उनके अलावा 57 और मंत्रियों ने भी शपथ ली, जिनमें 24 कैबिनेट मंत्री, 24 राज्य मंत्री और 9 स्वतंत्र प्रभार के मंत्री शामिल थे. इन मंत्रियों में शामिल दो नाम एस जयशंकर और प्रताप साडंगी चौंकाने वाले थे. लेकिन इससे भी ज्यादा चौंकाने वाले वो नाम थे, जो इस लिस्ट में शामिल नहीं थे. मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में इन लोगों को जगह मिली थी, लेकिन जब मोदी सरकार का दूसरा कार्यकाल शुरू हुआ तो इन लोगों को जगह नहीं मिली.

1. राधामोहन सिंह : पहली मोदी सरकार में केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री थे. बिहार के पूर्वी चंपारण से सांसद थे. इस बार भी बिहार के पूर्वी चंपारण से ही जीतकर संसद पहुंचे हैं. लेकिन कैबिनेट में उनको जगह नहीं दी गई है.

2. मनेका गांधी : मनेका गांधी को आम तौर पर लोग मेनका गांधी कहते हैं. मनेका गांधी को पहली मोदी सरकार में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय दिया गया था. उस वक्त वो पीलीभीत से सांसद बनी थीं. 2019 में भी मनेका गांधी सुलतानपुर से सांसद बनी हैं. लेकिन इस बार उन्हें मोदी कैबिनेट में जगह नहीं दी गई है.

3. राज्यवर्धन राठौड़ : राज्यवर्धन राठौड़ लगातार दूसरी बार जयपुर ग्रामीण से जीते हैं. पहली मोदी सरकार में उन्हें सूचना और प्रसारण मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार दिया गया था. इसके अलावा युवा और खेल मंत्रालय भी उनके पास था. इस बार उनको मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिली है.

4. सुरेश प्रभु : सुरेश प्रभु आंध्रप्रदेश से राज्यसभा के सदस्य हैं. पहली मोदी सरकार में रेल मंत्री रहे हैं. बाद में उन्हें वाणिज्य और उद्योग मंत्री के साथ ही नागरिक उड्डयन मंत्री बनाया गया था. जब मोदी दूसरी बार प्रधानमंत्री बने, तो उन्होंने सुरेश प्रभु को अपने मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किया.

5. जुएल ओराम : जुएल ओराम ओडिशा की सुंदरगढ़ सीट से लगातार दूसरी बार सांसद बने हैं. पहली मोदी सरकार में जनजातीय मामलों के मंत्री थे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब दूसरी बार अपना मंत्रिमंडल तो बनाया है, लेकिन जुएल ओराम को जगह नहीं दी गई है.

6. महेश शर्मा : महेश शर्मा लगातार दूसरी बार गौतम बुद्ध नगर से सांसद बने हैं. पहली मोदी सरकार में पर्यटन और संस्कृति मंत्री थे. इस बार उन्हें मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिली है.

7. विजय गोयल : विजय गोयल राज्यसभा के सांसद हैं. पहली मोदी सरकार में संसदीय कार्य राज्य मंत्री थे. 30 मई, 2019 को जब प्रधानमंत्री मोदी ने अपने और 57 मंत्रियों के साथ शपथ ली, तो उस लिस्ट में विजय गोयल का नाम शामिल नहीं था.

8. रामकृपाल यादव : राम कृपाल यादव लगातार दूसरी बार पाटलिपुत्र से सांसद बने हैं. उन्होंने लालू यादव की बेटी मीसा को लगातार दो बार हराया है. पहली मोदी सरकार में राम कृपाल यादव ग्रामीण विकास राज्य मंत्री थे. लेकिन इस बार उन्हें मंत्रिमंडल में जगह नहीं दी गई है.

9. जयंत सिन्हा : जयंत सिन्हा झारखंड की हजारीबाग सीट से लगातार दूसरी बार सांसद बने हैं. पहली मोदी सरकार में उन्हें नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री बनाया गया था. इस बार उन्हें मंत्रिमंडल में जगह नहीं दी गई है.

10. सत्यपाल सिंह : सत्यपाल सिंह उत्तर प्रदेश की बागपत सीट से सांसद हैं. 2014 में जब मोदी सरकार बनी तो सत्यपाल सिंह को मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री बनाया गया था. इस बार भी सत्यपाल सिंह बागपत से जीते हैं, लेकिन उन्हें मंत्रिमंडल में जगह नहीं दी गई है

11. अनुप्रिया पटेल : अनुप्रिया पटेल उत्तर प्रदेश की मिर्जापुर से लगातार दूसरी बार सांसद बनी हैं. वो बीजेपी की सहयोगी पार्टी अपना दल की सांसद हैं. पहली मोदी सरकार में अनुप्रिया स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री थीं. इस बार उन्हें भी जगह नहीं मिली है.

 


बीजेपी के वो दो नेता जिन्होंने लोकसभा में पार्टी का खाता खोला

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.