Submit your post

Follow Us

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष जिनके खिलाफ अरेस्ट वॉरंट निकला, उनका क्या हुआ?

65
शेयर्स

विधानसभा: भावनगर पश्चिम (भावनगर)

बीजेपी 27,185 वोटों से जीती.

बीजेपी के जीतू बाघानी कोः 83,701 वोट

कांग्रेस के दिलीप सिंह गोहिल को 56,516 वोट

गुजरात का विधानसभा चुनाव प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पाटीदार नेता हार्दिक पटेल और दलित नेता जिग्नेश मेवानी के लिए उनकी प्रतिष्ठा का सवाल था. इन बड़े नामों के अलावा और भी कई नेता थे, जिनकी प्रतिष्ठा दांव पर लगी थी. ऐसे ही एक नेता थे जीतूभाई बाघानी, जो अपनी सीट बचाने की लड़ाई लड़ रहे थे. जीतूभाई के लिए ये सीट जीतनी इसलिए भी जरूरी थी, क्योंकि वो गुजरात बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष हैं. चुनाव से ऐन पहले जीतूभाई बाघानी फ्रॉड के केस में भी फंसते नज़र आए थे. एक चेक बाउंस के केस में मुंबई कोर्ट ने उनके खिलाफ अरेस्ट वॉरंट तक निकाल दिया था.

विजय रूपानी जब गुजरात के मुख्यमंत्री बन गए, तो जीतू बाघानी को गुजरात बीजेपी का अध्यक्ष बनाया गया था.
विजय रूपाणी जब गुजरात के मुख्यमंत्री बन गए तो जीतू बाघानी को गुजरात बीजेपी का अध्यक्ष बनाया गया था.

जीतूभाई ने 2007 में जब अपना राजनीतिक करियर शुरू किया, तो उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा था. उन्होंने भावनगर ग्रामीण सीट से 2007 का विधानसभा का चुनाव लड़ा था, लेकिन कांग्रेस के बड़े नेता माने जाने वाले शक्तिसिंह गोहिल से 7000 वोटों से हार गए थे. 2012 में जब भावनगर पश्चिम से चुनाव लड़ा तो जीत हासिल की और इतनी बड़ी जीत हासिल की कि वो पूरे सौराष्ट्र में सबसे ज़्यादा मार्जिन वाली जीत थी. इस बार का चुनाव जीतूभाई के लिए इसलिए भी बड़ा था, क्योंकि इस बार जीतूभाई सिर्फ बीजेपी के विधायक ही नहीं, गुजरात बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष भी थे.

Jeetu-Dilip
जीतूभाई बाघानी (बाएं) ने कांग्रेस के दिलीप गोहिल को बड़े अंतर से हरा दिया है.

पिछला नतीजा : बीजेपी के जीतूभाई बाघानी ने कांग्रेस के मनसुखभाई कनानी को 54 हजार वोटों से हराया था.
इस बार का नतीजा : बाघानी ने कांग्रेस के दिलीप सिंह गोहिल को हरा दिया है.

तीन लोकल मुद्दे, जिसने बीजेपी को जीत दिलाने में मदद की

1. भावनगर पश्चिम की सीट शहरी सीट थी. शहरी सीटों में पारंपरिक तौर पर बीजेपी के वोटर माने जाते हैं.

2. जीतूभाई बाघानी इस चुनाव में सिर्फ बीजेपी के नेता ही नहीं, गुजरात बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष भी थे. इसका वोटरों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा.

3. भले ही पाटीदार बीजेपी से नाराज थे, लेकिन उन्हें जीतू के रूप में एक अपना आदमी ताकतवर नजर आ रहा था. जीतू बाघानी लेवा पाटीदार समुदाय से आते हैं, जिसका पूरे राज्य में काफी प्रभाव है.


Also Read:
गुजरात का वो ज़िला, जहां सत्याग्रह कराके वल्लभ भाई आगे चलकर सरदार पटेल बने
बनासकांठा, कांग्रेस का वो गढ़ जहां हर साल बाढ़ में दर्जनों लोग मर जाते हैं
वो शहर जो 650 साल तक गुजरात की राजधानी बना रहा
वो शहर जिसने सदी की सबसे बड़ी त्रासदियों में से एक का सामना किया था
कहानी उस शहर की जहां के खरगोश भी कुत्तों को भगा देते थे

Video: गुजरात का वो स्कूल, जहां भूकंप के बाद किसी का ध्यान नहीं गया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Gujarat election result 2017 : Trends and results of Bhawnagar west where Gujarat BJP president Jeetu Baghani is contesting from BJP and Dilip Singh Gohil is from congress

चुनाव 2018

कमल नाथ मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री, कैबिनेट में ये नाम हो सकते हैं शामिल

कमल नाथ पहली बार दिल्ली से भोपाल की राजनीति में आए हैं.

राजस्थान: हो गया शपथ ग्रहण, CM बने गहलोत और पायलट बने उनके डेप्युटी

राहुल गांधी, मनमोहन सिंह समेत कांग्रेस के ज्यादातर बड़े नेता जयपुर के अल्बर्ट हॉल पहुंचे हैं.

मायावती-अजित जोगी के ये 11 कैंडिडेट न होते, तो छत्तीसगढ़ में भाजपा की 5 सीटें भी नहीं आती

कांग्रेस के कुछ वोट बंट गए, भाजपा की इज़्ज़त बच गई.

2019 पर कितना असर डालेंगे पांच राज्यों के चुनावी नतीजे?

क्या मोदी के लिए परेशानी खड़ी कर पाएंगे राहुल गांधी?

क्या अशोक गहलोत ने मुख्यमंत्री की कुर्सी के लिए अपनी गोटी सेट कर ली है

लेकिन सचिन पायलट का एक दाव अशोक गहलोत को चित्त कर सकता है.

मोदी सरकार के लिए खतरे की घंटी क्यों हैं ये नतीजे?

आज लोकसभा चुनाव हो जाएं तो पांच राज्यों में भाजपा को क्यों लगेगा जोर का झटका?

भंवरी देवी सेक्स सीडी कांड से चर्चित हुई सीटों पर क्या हुआ?

इस केस में विधायक और मंत्री जेल में गए.

क्या शिवराज के कहने पर कलेक्टरों ने परिणाम लेट किए?

सोशल मीडिया का दावा है. जानिए कि परिणामों में देरी किस तरह हो जाती है.

राजस्थान चुनाव 2018 का नतीजा : ये कांग्रेस की हार है

फिनिश लाइन को पार करने की इस लड़ाई में कांग्रेस ने एक बड़ा मौका गंवा दिया.

बीजेपी को वोट न देने पर गद्दार और देशद्रोही कहने वाले कौन हैं?

जनता ने मूड बदला तो इनके तेवर बदल गए और गालियां देने लगे.