Submit your post

Follow Us

Axis My India Report: वोट देने से पहले दिल्लीवालों के दिमाग में सबसे बड़े मुद्दे क्या थे?

दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए एग्ज़िट पोल्स के नतीजे आ चुके हैं. लगभग सभी एग्ज़िट पोल्स में आम आदमी पार्टी (आप) की सरकार बनती दिख रही है. लेकिन असली नतीजे 11 फरवरी को आएंगे. एग्जिट पोल्स के आंकड़े बदल सकते हैं.

पिछले कई चुनावों में सबसे सटीक एग्ज़िट पोल्स देने वाले इंडिया टुडे-एक्सिस माय इंडिया ने एक सर्वे किया है. इसमें वोटिंग पैटर्न और उन मुद्दों की बात की गई है, जिस आधार पर लोगों ने वोट दिया. इसके लिए दिल्ली की 70 विधानसभा सीटों के 14,011 लोगों से बात की गई है. इनमें 66 फीसदी पुरुष और 34 फीसदी महिला हैं.

सर्वे में सरकार या पार्टी चुनने के पीछे लोगों की प्राथमिकताओं के बारे में पूछा गया. इससे क्या निकलकर सामने आया?

सवाल- वोट देते समय आपके लिए सबसे महत्वपूर्ण मुद्दा क्या था?

– वोट देते समय लोगों के लिए सबसे बड़ा मुद्दा विकास का रहा. 37 फीसदी लोगों ने वोटिंग के लिए इसे प्राथमिकता दी.

– 17 फीसदी लोगों के लिए महंगाई मुद्दा थी. तीसरे नंबर पर 14 फीसदी लोगों के लिए बेरोजगारी और चौथे नंबर पर 6 फीसदी लोगों के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा अहम मुद्दे थे.

– 2 फीसदी लोगों के लिए भ्रष्टाचार, 3 फीसदी लोगों के लिए मुख्यमंत्री केजरीवाल और 3 फीसदी लोगों के लिए राज्य सरकार का काम मुद्दे थे.

– पीएम मोदी 2 फीसदी लोगों के लिए, 2 फीसदी के लिए कानून-व्यवस्था, 1 फीसदी लोगों के लिए आर्थिक स्थिति, 1 फीसदी के लिए केंद्र सरकार का काम मुद्दा रहा.

– एक फीसदी लोगों के लिए 200 यूनिट बिजली फ्री होना और 1 फीसदी के लिए जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटना मुद्दा रहा.

– एक फीसदी लोगों के लिए स्थानीय उम्मीदवार, 1 फीसदी के लिए CAA का समर्थन मुद्दा रहा.

सवाल- राज्य में आप-कांग्रेस-अन्य को क्यों पसंद करते हैं?

– 42 फीसदी लोगों ने विकास कार्यों पर बीजेपी का ध्यान ना होने को कारण माना है.

– 14 फीसदी लोगों के लिए केंद्र और राज्य में अलग-अलग सरकार होना भी एक चिंता का विषय है.

– राम मंदिर और आर्टिकल 370 सिर्फ एक फीसदी लोगों के लिए मुद्दे रहे.

सवाल- आप बीजेपी को क्यों चाहते हैं?

– 57 फीसदी लोगों ने केंद्र सरकार के अच्छे काम को इसका कारण माना.

– 25 फीसदी लोग मोदी की वजह से बीजेपी को चाहते हैं.

– स्थिर और मजबूत सरकार के लिए लोग 8 फीसदी लोग बीजेपी को चाहते हैं.

सर्वे के मुताबिक, 54 फीसदी लोग अरविंद केजरीवाल को मुख्यमंत्री के रूप में पसंद कर रहे थे. वहीं, मनोज तिवारी को 21 फीसदी लोग मुख्यमंत्री के तौर पर पसंद करते हैं.


 वोटिंग के दौरान AAP कार्यकर्ता ने अलका लांबा के बेटे के बारे में टिप्पणी की, पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.