Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

कैफी: 'अजीब आदमी था वो, मुहब्बतों का गीत था'

240
शेयर्स

कैफ़ी आज़मी के बहुत सारे लिखे हुए पर थोड़ा लिख रहे हैं मिहिर रंजन.

mihir ranjan


 

‘आप बहुत अच्छा लिखते हैं, लेकिन हैं अनलकी. आपके साथ अगर मैंने काम किया तो मेरी किस्मत का तो समझ लीजिए हो गया बंटाधार.’

ऐसा सिर्फ एक-दो लोगों ने नहीं कहा. बल्कि पूरी फिल्म इंडस्ट्री में उसके लिए लोग ऐसा ही मानने लगे थे. सब कहते थे उसकी कलम में गजब की ताकत है. लेकिन खोटा मुकद्दर उसकी सुंदर लेखनी पर काली स्याही पोत देता है. ऐसे में वो क्या करता, बस मुस्कुरा दिया करता था. अजीब आदमी जो था वो.

जावेद अख्तर ने कैफी के लिए लिखा था, ‘अजीब आदमी था वो मुहब्बतों का राग था.’

साल 1962. ये वो समय था जब भारत चीन से बड़ी लड़ाई हार गया था. फिल्मकार चेतन आनंद (देवआनंद के भाई) एक दिन उनसे मिलने पहुंचे. उनसे कहा कि मुझे भी लोग अनलकी कहते हैं और आप पर भी ये ठप्पा चस्पा हो रखा है. क्यों न दो अनलकी लोग साथ हो जाएं और क्या पता तकदीर कुछ रंग दिखा दे. और फिर हुआ भी ऐसा ही. फिल्म बनी, सुपर-डुपर हिट हुई और हिंदुस्तानी सिनेमा के इतिहास में माइलस्टोन बन गई. खास तौर पर उसके गाने तो कालजयी बन गए. नए जमाने के छोकरों ने अगर फिल्म नहीं भी देखी हो तो भी ये गाना उनकी जुबां पर 15 अगस्त और 26 जनवरी को आ ही जाता है.

ये सारा ताना बाना बुना जा रहा था उस मकबूल शायर की कहानी कहने के लिए जिसे मां बाप ने बचपन में नाम दिया था अथर, लेकिन दुनिया जिसे कैफी, कैफी आजमी के नाम से जानती है. उर्दू अदब में कैफी साहब का अपना अलग मकाम है. उनकी शायरी मुहब्बत की चाशनी में भीगी हुई भी है और दूसरी तरफ बगावत का झंडा भी बुलंद करती है. कभी वो औरत से कहते ‘उठ मेरी जान चलना है तुझे’ तो कभी राम को दूसरे वनवास पर भेज देते. कभी मंदिर मस्जिद की जगह हाथ की लकीरों में गीता और कुरान को ढूंढते.

14 बरस पहले 10 मई को ही कैफी हमें छोड़कर चले गए. थोड़ी मोहब्बत, थोड़ी बग़ावत, थोड़ी ज़िद, थोड़ा समर्पण. कुछ ख्वाब, कुछ हकीकत. अंदाज़-ए-बयां में गजब की नज़ाकत और इन सबसे बढ़कर ढेर सारी इंसानियत. इन सबको मिलाते ही जो चेहरा उभरता है, वो है कैफी आजमी का.

‘मैं ढूंढता हूं, जिसे वो जहान नहीं मिलता
नई ज़मीन, नया आसमान नहीं मिलता
नई ज़मीन, नया आसमां भी मिल जाए
नए बशर का कहीं कोई निशान नहीं मिलता’

सुनिए उनकी कविताएं:

आम आदमी से कैफी का रिश्ता उनके लिखे फिल्मी गीतों से जुड़ता है.

अजीब आदमी था वो,
मुहब्बतों का गीत था, बगावतों का राग था,
कभी वो सिर्फ धूल था, कभी वो सिर्फ आग था,
अजीब आदमी था वो,

वो मुफलिसों से कहता था, कि दिन बदल भी सकते हैं,
वो जागीरों से कहता था, कि तुम्हारे सिर पर जो सोने के ताज हैं,
वो पिघल भी सकते हैं,
अजीब आदमी था वो,
वो बंदिशों से कहता था, मैं तुम को तोड़ सकता हूं,
सहूलतों से कहता था, मैं तुमको छोड़ सकता हूं,
हवाओं से वो कहता था, मैं तुमको मोड़ सकता हूं,
वो ख्वाब से कहता था, कि तुमको सच करूंगा मैं,

वो आरजू से कहता था मैं तेरा हमसफ़र हूं, तेरे साथ ही चलूंगा मैं,
तू चाहे जितनी दूर भी बना ले अपनी मंजिल, कभी नहीं थकूंगा मैं,
वो ज़िन्दगी से कहता था कि तुझको मैं सजाऊंगा,
तू मुझसे चांद मांग ले मैं चांद ले के आऊंगा,
वो आदमी से कहता था कि आदमी से प्यार कर,
उजड़ रही है ये ज़मीं कुछ इसका तो सिंगार कर,
अजीब आदमी था वो,

वो ज़िन्दगी के सारे ग़म, हरेक दुख, हरेक सितम से कहता था,
कि तुझसे जीत जाऊंगा मैं,
कि तू तो आ के मिटा ही देगी एक दिन, भुला ही देगा ये जहां,
तेरी अलग है दास्तान,
वो आंखें जिनमें ख्वाब हैं, वो दिल, हैं जिनमें धड़कनें,
वो बाजू जिनमें है सकत, वो होंठ जिन पे हर्फ़ हैं,
मैं रहूंगा उनके दरमियां जो मैं बीत जाऊंगा,
अजीब आदमी था वो

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

क्विज: अरविंद केजरीवाल के बारे में कितना जानते हैं आप?

अरविंद केजरीवाल के बारे में जानते हो, तो ये क्विज खेलो.

आमिर पर अगर ये क्विज़ नहीं खेला तो डुगना लगान देना परेगा

म्हारा आमिर, सारुक-सलमान से कम है के?

रजनीकांत के फैन हो तो साबित करो, ये क्विज खेल के

और आज तो मौका भी है, थलैवा नेता जो बन गए हैं.

फवाद पर ये क्विज खेलना राष्ट्रद्रोह नहीं है

फवाद खान के बर्थडे पर सपेसल.

रानी पद्मावती के पति का पूरा नाम क्या था?

पद्मावती फिल्म के समर्थक हो या विरोधी, हिम्मत हो तभी ये क्विज़ खेलना.

आम आदमी पार्टी पर ये क्विज खेलो, खास फीलिंग आएगी

आज भौकाल है आम आदमी (पार्टी) का. इसके बारे में व्हाट्सऐप से अलग कुछ पता है तो ही क्विज खेलना.

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

आज कार्टून नेटवर्क का 25वां बर्थडे है.

RSS पर सब कुछ था बस क्विज नहीं थी, हमने बना दी है...खेल ल्यो

आज विजयदशमी के दिन संघ अपना स्थापना दिवस मनाता है.

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

बेबो वो बेबो. क्विज उसकी खेलो. सवाल हम लिख लाए. गलत जवाब देकर डांट झेलो.

न्यू मॉन्क

इंसानों का पहला नायक, जिसके आगे धरती ने किया सरेंडर

और इसी तरह पहली बार हुआ इंसानों के खाने का ठोस इंतजाम. किस्सा है ब्रह्म पुराण का.

इस गांव में द्रौपदी ने की थी छठ पूजा

छठ पर्व आने वाला है. महाभारत का छठ कनेक्शन ये है.

भारत के अलग-अलग राज्यों में कैसे मनाई जाती है नवरात्रि?

गुजरात में पूजे जाते हैं मिट्टी के बर्तन. उत्तर भारत में होती है रामलीला.

औरतों को कमजोर मानता था महिषासुर, मारा गया

उसने वरदान मांगा कि देव, दानव और मानव में से कोई हमें मार न पाए, पर गलती कर गया.

गणेश चतुर्थी: दुनिया के पहले स्टेनोग्राफर के पांच किस्से

गणपति से जुड़ी कुछ रोचक बातें.

इन पांच दोस्तों के सहारे कृष्ण जी ने सिखाया दुनिया को दोस्ती का मतलब

कृष्ण भगवान के खूब सारे दोस्त थे, वो मस्ती भी खूब करते और उनका ख्याल भी खूब रखते थे.

ब्रह्मा की हरकतों से इतने परेशान हुए शिव कि उनका सिर धड़ से अलग कर दिया

बड़े काम की जानकारी, सीधे ब्रह्मदारण्यक उपनिषद से.

इस्लाम में नेलपॉलिश लगाने और टीवी देखने को हराम क्यों बताया गया?

और हराम होने के बावजूद भी खुद मौलाना क्यों टीवी पर दिखाई देते हैं?

सावन से जुड़े झूठ, जिन पर भरोसा किया तो भगवान शिव माफ नहीं करेंगे

भोलेनाथ की नजरों से कुछ भी नहीं छिपता.

हिन्दू धर्म में जन्म को शुभ और मौत को मनहूस क्यों माना जाता है?

दूसरे धर्म जयंती से ज़्यादा बरसी मनाते हैं.