Submit your post

Follow Us

राहुल द्रविड़: ये आदमी मुहब्बत है, इतनी बड़ी जीत का क्रेडिट भी नहीं लेना चाहता

भारत की अंडर-19 क्रिकेट टीम ने वर्ल्ड कप जीत लिया है. ऑस्ट्रेलिया को फाइनल में हरा दिया. जीत का सेहरा अक्सर उन लोगों के सर बंधता है जो आपकी नज़रों के सामने होते हैं.

# धौंकती सांसों के साथ भागकर आकर गेंद फेंकते गेंदबाज़.
# बल्ले को कभी तलवार तो कभी ढाल बनाकर रन बनाते बल्लेबाज़.
# या फिर शॉट रोकने के लिए हवा में उछल-उछलकर अपना हंड्रेड परसेंट देते फील्डर्स.

11 खिलाड़ियों की मैदान पर की गई मेहनत हर वक़्त आंखों के सामने होती है. लेकिन एक और शख्स भी होता है जो परदे के पीछे रहकर अपना काम कर रहा होता है. इन 11 प्लस रिज़र्व खिलाड़ियों को ग्रूम करनेवाला आदमी, जिसे सफलता का उतना ही श्रेय मिलना चाहिए जितना खिलाड़ियों को. इस टीम के पीछे का ऐसा शख्स इंडियन क्रिकेट का सबसे प्यारा सपूत राहुल द्रविड़ है. ये द्रविड़ की नेपथ्य में रहकर की गई मेहनत का सिला ही है जो आज वर्ल्ड कप इंडिया के हाथ में है. इस टीम के लड़कों को करोड़ों में खरीदा जा रहा है. पिछले साल जो कप हाथ आते-आते रह गया था वो इस बार कब्ज़े में है. राहुल द्रविड़ कहीं मुस्कुरा रहे होंगे.

पता नहीं ये आदमी और क्या क्या अचीव करेगा! बहुत सारा प्यार राहुल.
पता नहीं ये आदमी और क्या क्या अचीव करेगा! बहुत सारा प्यार राहुल.

राहुल द्रविड़ की कोचिंग का एक नमूना इस एक बात से भी लगा सकते हैं. शुभमन गिल ने सेमीफाइनल मैच में शतक लगाया. पाकिस्तान के खिलाफ. मैच के बाद जब वो रिपोर्टर्स से बतिया रहे थे, उन्होंने एक बात बताई. उनसे कोच राहुल द्रविड़ ने उठाकर शॉट खेलने से मना किया था. ज़मीनी शॉट्स खेलने को बोला था. ये द्रविड़ की ही छाप थी जो कहती थी कि विकेट गंवाने का रिस्क लिए बगैर भी शतक मारा जा सकता है. जो खुद द्रविड़ ने अनगिनत मौकों पर कर दिखाया है.

राहुल द्रविड़ ने कितने ही युवा खिलाडियों की ज़िंदगी बना दी है. न सिर्फ इस अंडर-19 टीम के बल्कि तब भी जब वो आईपीएल में कप्तान के तौर पर खेल रहे थे. या मेंटर बने थे. करुण नायर, संजू सैमसन, धवल कुलकर्णी जैसे खिलाड़ी उन्हीं के सहेजे पौधे हैं, जो क्रिकेट की दुनिया में बेहतर कर रहे हैं. इंडिया ‘A’ और अंडर-19 टीम की कोचिंग के दौरान उन्होंने अपनी स्पष्ट छाप छोड़ी है. उन्हीं की सदारत में इंडिया की टीम अंडर-19 वर्ल्ड कप के फाइनल में लगातार दूसरी बार पहुंची. एक बार चूक गई लेकिन दूसरी बार काम पूरा करके ही लौटी.

जब इंडिया ने सेमीफाइनल में पाकिस्तान को ध्वस्त कर दिया था तो पूर्व पाकिस्तानी खिलाड़ी रमीज़ राजा ने एक बात कही थी. उन्होंने बोला था कि पाकिस्तान को राहुल द्रविड़ जैसा महान कोच चाहिए. आगे ये भी कहा था कि इंडिया के खिलाड़ी द्रविड़ से सिर्फ क्रिकेट की बारीकियां ही नहीं सीखते, बल्कि खुद को कैसे पेश करें और सोच कैसे बड़ी रखे ये भी सीखते हैं. हालांकि ऐसे प्रशस्तिपत्रों की संख्या करोड़ों में होगी फिर भी ये उनकी महानता को रेखांकित तो करता ही है.

रमीज़ राजा.
रमीज़ राजा.

द्रविड़ ने अपने लड़कों से प्यार भी किया और सख्ती भी दिखाई. बताया जा रहा है कि उन्होंने खिलाड़ियों के मोबाइल फोन्स पर बैन लगा दिया था. फाइनल तक किसी के भी मोबाइल छूने पर पाबंदी थी. ये उनकी तानाशाही नहीं थी बल्कि लड़कों को फोकस्ड रहने के लिए प्रेरित करने वाली कार्रवाई थी. इसक फल भी क्या ख़ूब मिला.

द्रविड़ की कोचिंग मे टीम ने इस वर्ल्ड कप में एक भी मैच नहीं हारा है. एक बुलडोज़र की तरह सबको रौंदती हुई गई है ये टीम. द्रविड़ अपने काम को कितना सीरियसली लेते हैं इसका एक उदाहरण बताते हैं. 2016 के वर्ल्ड कप की तैयारियां चल रही थीं. द्रविड़ ने BCCI से रिक्वेस्ट की कि वो अंडर-19 टीम का मैच बोर्ड्स प्रेसिडेंट इलेवन से करवाएं. ताकि उनको अच्छा एक्सपोजर मिल सके. जयदेव उनादकट, अरविन्द सिंह जैसे खिलाड़ियों से मुकाबला करते हुए ये टीम 23 रन से जीती थी.

जब राहुल को अंडर-19 का कोच बनाया जा रहा था तब वो दिल्ली डेयरडेविल्स से जुड़े हुए थे. कोच बनाने के कॉन्ट्रैक्ट में एक क्लॉज़ था कि उन्हें अन्य कहीं कोचिंग की इजाज़त नहीं होगी. उन्होंने तुरंत इस्तीफा दिया और युवा लड़कों को तराशने के ज़िम्मेदारी उठा ली. मीडिया ने इस रुटीन घटना में सेंसेशन ढूंढने की कोशिश भी की जो कि कामयाब नहीं हुई. ये स्पष्ट था कि उन्हें दिल्ली डेयरडेविल्स के कोच का पद किसी दबाव में नहीं छोड़ना पड़ा था बल्कि उन्होंने उसे मर्ज़ी से छोड़ा था.

दिल्ली डेयरडेविल्स के साथ द्रविड़.
दिल्ली डेयरडेविल्स के साथ द्रविड़.

द्रविड़ ने इन कोल्ट्स को बेहद ज़िम्मेदारी से ग्रूम किया. कोल्ट्स घोड़े के बछड़ों को कहते हैं. लंबी रेस के लिए समय रहते इनको तैयार करना बेहद ज़िम्मेदारी का काम है. और द्रविड़ से ज़्यादा ज़िम्मेदार शख्स कौन होगा इंडियन क्रिकेट में? उन्होंने अपना सब कुछ झोंक दिया इन लड़कों को चैंपियन बनाने में. पिछली बार जब वर्ल्ड कप हाथों से फिसल गया था तब उन्होंने लड़कों से कहा था कि तुम मेरे चैंपियन हो. द्रविड़ का कहना था कि हारना बुरा नहीं है बल्कि ठीक से हारना आना भी एक कला है. कोई हैरानी नहीं कि इतने प्रेरणादायी व्यक्तित्व के साये में पनपते हुए उनकी टीम ने उस साल का अंडर-19 एशिया कप जीता था.

अंडर-19 की टीम के अलावा इंडिया ‘ए’ टीम के भी कई सदस्य द्रविड़ के एहसान मंद हैं. ख़ास तौर से हार्दिक पंड्या जैसे खिलाड़ी. पंड्या द्रविड़ को धन्यवाद देते नहीं थकते कि उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर द्रविड़ से बहुत कुछ सीखा. पंड्या के अलावा केदार जाधव, यजुवेंद्र चहल, श्रेयस अय्यर, मनीष पाण्डेय जैसे खिलाड़ी भी उनसे क्रिकेट के गुर सीख गए. ये सभी इंडिया की सीनियर टीम तक पहुंचे.

इतना करिश्माई कोच कौन न चाहेगा?
इतना करिश्माई कोच कौन न चाहेगा?

इस खेल को जितना द्रविड़ ने दिया है उसका एहसान मुश्किल से ही उतरेगा. रिटायर होने के बाद भी वो कुछ न कुछ दे ही रहे हैं. वो भी बिना क्रेडिट की अपेक्षा किए. वर्ल्ड कप जीत के बाद द्रविड़ का कहना था,

“टीम का कोच होने के नाते कई बार सबका फोकस मुझ पर आ जाता है. मुझे शर्मिंदगी होती है. इसके हक़दार टीम के खिलाड़ी और सपोर्टिंग स्टाफ है.”

इतना प्यारा आदमी! हमेशा दूसरों को क्रेडिट देने के लिए तत्पर. मैदान पर भी द्रविड़ हमेशा से ऐसे ही रहे हैं. पूरा इंडिया आज द्रविड़ को एक ही बात कहना चाहता है. थैंक यू द्रविड़!


अंडर-19 वर्ल्ड कप का सारा मसाला यहां पढ़ें:

राहुल द्रविड़ ने लड़कों के मोबाइल जमा करवा लिए थे

बधाई हो! हम अंडर-19 विश्व-विजेता बन गए हैं

वर्ल्ड कप जीतने वालों को BCCI ने तगड़ा इनाम दिया है

नागरकोटी: अंडर 19 वर्ल्ड कप ने हमें ये भयानक टैलेंटेड फ़ास्ट बॉलर दिया है

जिसने आज पहले दो विकेट्स लिए वो ऑस्ट्रेलिया से पहले मैच के बाद टीम से बाहर किया जाने वाला था

अंडर-19 टीम का किया ये रन आउट देख लोगे तो बम बम हो जाओगे

अंडर-19 वर्ल्ड कप फाइनल का पहला विकेट ईशान पोरेल के खाते में

वीडियो: Under 19 World Cup में India की जीत का कौन कौन था हीरो? 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.