Submit your post

Follow Us

यूपी में रहस्यमय बुखार से कई मौतें, बीजेपी कह रही- मीडिया पैनिक क्रिएट ना करे

दो दिन पहले यानी 30 अगस्त को सीएम योगी आदित्यनाथ फिरोजाबाद पहुंचे थे. तब उन्होंने फिरोजबाद के मेडिकल कॉलेज का दौरा किया था. जिला स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक की थी. और इस सब के बाद उन्होंने कहा था कि जिस संदिग्ध डेंगू बुखार की वजह से 40 मरीजों की मौत हो चुकी है, उसके बारे में जल्दी पूरी जानकारी जुटाई जाएगी. सबको इलाज मिलेगा और अगर कहीं, किसी स्तर पर कोई लापरवाही दिखी तो उसके लिए जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी.

बुधवार 1 सितंबर को इस बारे में सीएम दफ्तर से एक आदेश भी आया है, जिसके बारे में आगे बात करेंगे. फिलहाल ये जानिए कि जिस अस्पताल का सीएम ने दौरा किया था वहां पिछले 12 घंटों में 7 और बच्चों की मौत हो चुकी है. और तो और जिस बीमार बच्ची से मिलकर सीएम ने हालचाल लिया था, उसकी भी मौत हो गई है.

मृतक लड़की के पिता राम कुमार ने बताया कि सीएम मिले थे तो बेहतर इलाज और देखभाल का भरोसा दिलाया था. लगा था कि बच्ची ठीक हो जाएगी, लेकिन एक दिन बाद ही तबीयत बिगड़ी और उसकी मौत हो गई. खुद, देखिए वो क्या कह रहे हैं-

“बेटी को डेंगू हुआ था. प्लेटलेट्स 25 हजार आ रही थीं कल. रात को 4 बोतल खून दिया. सवेरे कहा कि इलाज करो बच्ची घबरा रही है. कभी कह देते हैं स्टाफ नहीं है. कभी कहते हैं नीचे जाइए, ऊपर जाइए. मेरे मुंह से गाली भी निकल गई. मैंने कहा कि तुम्हारा कोई मरे तो मालूम पड़े. बोले कि ले जाओ. तो मैंने कहा कि रात ही कह देते. यहां में बच्ची को कल सुबह लाया था. अब यहां बोलते हैं कि लिख कर दो कि प्राइवेट में इलाज कराऊंगा.”

Ram Kumar
राम कुमार, पीड़ित बच्ची के पिता. (स्क्रीनशॉट- लल्लनटॉप)

फिलहाल इस अस्पताल में 185 बच्चे भर्ती हैं. लगभग सभी बच्चों को पिछले कई दिनों से बुखार आ रहा है. सबसे हैरान करने वाली बात ये है कि अभी तक डॉक्टर्स नहीं समझ पाए हैं कि ऐसा हो क्यों रहा है.

चलिए रहस्यमय बीमारी है. उसके बारे में नहीं पता चल पा रहा है. कोई बात नहीं. लेकिन अगर इतने बड़े अस्पताल में कोई इंजेक्शन लगाने वाला न हो, या जो हो उसे ये काम ठीक से आता ही न हो तो आप क्या कहेंगे?

सुनील कुमार की बेटी और बेटा दोनों बीमार हैं. बेटी की मौत हो गई और बेटा अभी भी अस्पताल में है. सुनील का कहना है कि उनकी बेटी के प्लेटलेट्स बहुत तेजी से कम हुए. उन्होंने जैसे-तैसे खून का इंतजाम भी कर लिया, लेकिन उस वक्त खून चढ़ाने वाला कोई नहीं था और इसी वजह से बच्ची की मौत हो गई. खुद सुनिए वो क्या कह रहे हैं-

“छह दिन पहले मेरी बेटी और बेटे की तबीयत खराब हो गई थी. हमने उन्हें यहां भर्ती किया था. पहले दिन बेटी की प्लेटलेट्स 39 हजार थीं और बेटे की थीं 59 हजार. दूसरे दिन तक रिपोर्ट का इंतजार किया तो बेटी की प्लेटलेट्स 18 हजार तक गिर गईं और बेटे की 37 हजार निकलीं. मैं सुबह से शाम तक भागता रहा, लेकिन किसी स्टाफ के पास ये तक नहीं कि हाथों में नीडल लगा लेते. मैं किसी से शिकायत नहीं कर रहा. लेकिन मेरी 8 साल की बेटी चली गई. उसे मैं कभी नहीं पा पाऊंगा. किसी के साथ ऐसा ना हो. कोई एक आदमी तो ऐसा होना चाहिए जो नीडल लगा सके.”

Sunil
सुनील कुमार, मृतक बच्ची के पिता. (स्क्रीनशॉट- लल्लनटॉप)

और सबसे ज्यादा ताज्जुब की बात ये है कि ये कहानी मेडिकल कॉलेज की है. किसी आम सरकारी अस्पताल की नहीं.

आपको बताएं कि जिला अस्पताल के हालात तो और भी खराब हैं. यहां हर घंटे 8 से 10 बीमार बच्चे भर्ती कराए जा रहे हैं. लिहाजा अस्पताल में बेड की कमी होने लगी है. कुल मिलाकर जिले की हालत ठीक नहीं है और इसी वजह से आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिले की मुख्य चिकित्सा अधिकारी नीता कुलश्रेष्ठ को हटाने का आदेश दिया. अपने आदेश में सीएम ने आगे कहा है कि 11 विशेषज्ञ डॉक्टर्स की टीम को फिरोजाबाद भेजा जाएगा. शहरी एवं ग्रामीण निकायों को क्षेत्र में साफ-सफाई पर ध्यान देना होगा. मेडिकल कॉलेज में विशेष डॉक्टर्स की टीम भेजी जाएगी और बीमार बच्चों को मुफ्त इलाज मिलेगा.

खैर आदेश हैं. देखिए कब तक पहुंचते हैं.

दूसरे इलाकों में भी आ रहे केस

आपको ये बताते चलें कि मेरठ, फिरोजाबाद, आगरा, मैनपुरी, मथुरा, एटा और कासगंज में भी लगातार मरीज सामने आ रहे हैं. मथुरा का ही एक गांव है. नाम है, कोह. पिछले एक सप्ताह में इस गांव में दस लोगों की मौत बुखार लगने के बाद हो चुकी है. लिहाजा मेडिकल टीम ने प्रभावित गांव से सैंपल जुटाए और जांच की. जांच के बाद पता चला कि 2 से 45 वर्ष की आयु के 29 से अधिक लोग स्क्रब टाइफस नामक बीमारी से पीड़ित हैं. जानकारों की माने तो स्क्रब टाइफस एक तरह का कीड़ा है. ये बहुत पुरानी लकड़ी में पनपता है. जू और खटमल की तरह होता है. इसके काट लेने से बुखार का आना शुरू हो जाता है. फिलहाल स्क्रब टाइफस से बचाव के लिए कोई टीका उपलब्ध नहीं है.

खैर अभी ये साफ नहीं हो सका है कि जिस बीमारी से मथुरा में लोग प्रभावित हैं उसी बीमारी ने फिरोजाबाद में कहर बरपा रखा है या नहीं.

लखनऊ भी चपेट में

अब बात राज्य की राजधानी लखनऊ की कर लेते हैं जहां इस तरह की बीमारी से कई लोगों के बीमार होने और अस्पताल पहुंचने की खबर है. हिन्दी अखबार हिंदुस्तान की एक खबर के मुताबिक, करीब 400 लोग वायरल फीवर की वजह से अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती हैं. हालांकि डॉक्टरों का कहना है कि ये सारे मरीज मौसमी वायरल के हैं, लेकिन एक साथ इतनी बड़ी संख्या में लोगों के अस्पतालों दाखिल होने से अफरातफरी जैसी स्थिति पैदा हो गई है.

वैसे केवल अस्पतालों में अफरा-तफरी नहीं मची हुई है. मौत की संख्या, बीमारों की संख्या और बीमारी के बारे में जानकारी को लेकर भी एक अजीब माहौल बना हुआ है, पूरे प्रदेश में. लोगों में इसको लेकर आशंकाएं भी बढ़ती जा रही हैं. लिहाजा हमने सरकार से पूरे मसले पर जवाब मांगा. हमने सरकार से पूछा कि वो साफ-साफ बताए कि फिरोजाबाद में कितनी मौतें हुई हैं? मथुरा की क्या स्थिति है और लखनऊ को लेकर क्या जानकारी है? इस सवाल के जवाब में यूपी बीजेपी के प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने बताया कि सरकारी एंजेंसियां काम कर रही हैं. जैसे ही सरकार को पूरी जानकारी मिलेगी वैसे ही प्रेस को बताया जाएगा-

“फिरोजाबाद में रहस्यमय बुखार की वजह से कुछ मौतें हुई हैं. जिसको लेकर उत्तर प्रदेश सरकार बहुत संजीदा है. सीएम ने खुद फिरोजाबाद का दौरा किया. इस समय चिकित्सा शिक्षा विभाग और स्वास्थ्य विभाग की टीमें वहां अलग-अलग ढंग से काम कर रही हैं. मरीजों में कई अलग-अलग प्रकार के लक्षण हैं. बच्चों की मौत की असल वजह क्या है और मृतकों के असल आंकड़ें क्या हैं. अलग-अलग मीडिया रिपोर्ट्स अलग-अलग बातें कह रही हैं. सारी बातों को कनक्लूड करने की जिम्मेदारी सरकार की है.

सीएमओ की लापरवाही प्राथमिक रूप से पाई गई है. इसलिए उन्हें हटाया गया है. सरकार सारा डेटा कलेक्ट करने के बाद आधिकारिक रूप से सारी जानकारी जारी करेगी. मीडिया से निवेदन है कि पैनिक क्रिएट ना करें. ये वायरल सीजन है. ऐसे में बुखार फैलने की संभावना रहती है. किसी खबर से लोगों में पैनिक क्रिएन ना करें. यूपी सरकार संवेदनशील है. वो बेहतर सुविधाओं के लिए लगातार प्रयास कर रही है.”

Rakesh Tripathi
बीजेपी प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी. (स्क्रीनशॉट- लल्लनटॉप)

कुल मिलाकर यही समझ आ रहा है कि इस बीमारी के बारे में अभी सरकार को ही सही-सही जानकारी नहीं है. ऐसे में और ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है. बीमारी को लेकर भी और बीमारी के बारे में मिल रही जानकारियों को लेकर भी.


वीडियो- UP में रहस्यमयी बुखार से लगातार हो रही मौतों पर सरकार क्या बोली?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.