Submit your post

Follow Us

रेलवे के चादर-तकियों और कंबलों की हकीकत जानोगे, तो उल्टी आ जाएगी

ट्रेन हर ख़ास-ओ-आम हिंदुस्तानी का वास्ता पड़ने वाली चीज़ है. भारत में रह कर रेलवे के सफ़र से बचा रह सके, ऐसा शख्स मिलना दुर्लभ है. अक्सर हवा में उड़ने वाले अमीर लोग भी कभी न कभी रेलवे की शरण में जाते ही हैं. भारतीय रेलवे इस देश के यातायात की रीढ़ की हड्डी है. जितनी ये अहम है, उतनी ही अस्त-व्यस्त. पिछले दिनों ख़बर आई कि ट्रेन और स्टेशन पर मिलने वाला खाना खाने लायक नहीं है. इसको खाने से बीमार पड़ने की संभावना है. नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक माने CAG ने संसद में पेश की गई अपनी रिपोर्ट में बताया था ये सब.

train_210717-103113

विस्तार से ख़बर यहां पढ़िए: ये जान लेंगे, तो ट्रेन में कभी खाना नहीं खाएंगे

अब यही CAG एक और राज़ फाश कर रहा है. ट्रेन में इस्तेमाल होने वाले कंबल और चादरें धुलवाने में रेलवे भयंकर लापरवाही से काम ले रहा है. संसद में पेश की गई अपनी रिपोर्ट में CAG ने साफ़ लफ़्ज़ों में कहा है कि रेलवे इन चीज़ों की धुलाई के लिए निर्धारित शेड्यूल बिल्कुल भी नहीं फॉलो कर रही है. इतना बुरा हाल है कि कई जगह 3 सालों से ब्लैंकेट धुले ही नहीं हैं. चादरों और तकिये के कवर्स के साथ भी यही माजरा है.

क्या कहती है CAG की तहकीकात?

CAG ने 2012-13 और 2015-16 के पीरियड का 33 डिपो से डेटा कलेक्ट किया. इस पड़ताल से सामने आया कि रेलवे विभाग लिनेन की साफ़-सफाई के मामले में पूरी तरह उदासीन है. 9 अलग-अलग ज़ोन के अंदर पड़ने वाले 13 डिपो में, 3 साल से कोई कंबल नहीं धुला है. सोचकर ही उबकाई आती है. जिस कंबल को रोज़ कोई इस्तेमाल करता है, उसे 3 साल तक पानी का स्पर्श नहीं हुआ. बीमारियों को इससे मुखर न्यौता और क्या होगा? ऑडिट में ये भी पता चला कि 33 में से सिर्फ 7 डिपो छोड़ दिए जाएं, तो चादरें भी बिना धुली पाई गईं.

ये तस्वीर एक पैसेंजर ने अपने मोबाइल से खींच कर सोशल मीडिया पर डाली थी.
ये तस्वीर एक पैसेंजर ने अपने मोबाइल से खींच कर सोशल मीडिया पर डाली थी.

2015-16 में 12 डिपो के हुए ऑडिट से पता चला कि यहां कंबल धोने के बीच का वक्फा 6 महीने से लेकर 26 महीनों तक का था. ये डिपो कोई छोटे-मोटे शहर के नहीं, बल्कि मुंबई, कोलकाता, ग्वालियर, गुवाहाटी, लखनऊ, सिकंदराबाद और डिब्रूगढ़ जैसी जगहों के थे.

और भी हैं गड़बड़ियां

चेन्नई के बेसिन ब्रिज डिपो में देखा गया कि तकियों के कवर, इस्तेमाल की हुई चादरों को फाड़ कर बनाए जा रहे थे. उत्तर रेलवे के कुछ डिपो में इस्तेमाल हुए तकियों के अस्तर पैसेंजर्स को पकडाए गए. कई जगह पर धुली हुई चादरें, तकिए वगैरह अस्तव्यस्त ढंग से फेंके पाए गए. उन्हीं के बीच वो कंबल वगैरह भी थे, जो बहुत पुराने होने की वजह से जिनको नष्ट किया जाना था.

क्या हैं नियम?

गाइड लाइन के अनुसार चादरें, तकियों के कवर्स, तौलिए आदि एक बार इस्तेमाल होते ही तुरंत धोने के लिए दिए जाने चाहिए. कंबल हर 2 महीने बाद धुलने चाहिए. लेकिन इसका पालन बिल्कुल भी नहीं हो रहा है.

CAG ने राय दी है कि तत्काल प्रभाव से एक ऐसी प्रणाली बनाई जाए, जिससे साफ़-सफाई निर्धारित समय से हो सके.

अनुभव क्या कहता है!

साफ़-सफाई को लेकर रेलवे की ये गड़बड़ियां अब सामने आ रही हैं, लेकिन इन्हें लेकर आम आदमी के मन में शक़ हमेशा रहा है. अगर अपना अनुभव बताऊं, तो बिछाने वाली चादरों से समझौता तो कई बार किया मैंने, लेकिन कंबल पर भरोसा करने का हौसला कभी न हुआ. कड़ाके की ठण्ड में अगर उसे ओढ़ना भी पड़ा, तो उसके और अपने बीच कोई घर से साथ लाई चादर का कवच ज़रूर लगाया है. उस कंबल की स्मेल बर्दाश्त करना जिगरे का काम है.

रेलवे समय पर चलने के मामले में फिसड्डी है.

रेलवे कोच में पानी सप्लाई के मामले में भी, कुछेक रूट छोड़ दें तो बेहद निराशाजनक प्रदर्शन करती है.

रेलवे के टॉयलेट्स की सफाई के बारे में तो क्या ही कहें.

रेलवे का खाना भयानक है ये भी सामने आ चुका है.

अब नई बात ये निकल के आई कि रेलवे में ओढ़ने-बिछाने को मिलने वाली चीज़ें भी बीमारियां फैलाने का साधन हो सकती हैं.

इतने नुक्स हैं हमारी भारतीय रेल में. बस एक मामले में चकाचक है. ट्वीट करो तो रिप्लाई आ जाता है.


ये भी पढ़ें:

OLX पर सामान बेचते हुए ध्यान रखना, इस महिला जैसी हालत न हो जाए

बच्ची सनी लियोनी ने गोद ली और लोगों ने अपनी नंगई दिखा दी

मिलिए उस प्यारी मां से, जिसने बेटे के लिए वेश्या तलाशी

जीबी रोड की एक सेक्स वर्कर से प्यार होने की ख़ूबसूरत कहानी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

चलिए, विधायक जी की कन्नी-काटी जानते हैं.

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

कभी सोचा नहीं होगा कि लल्लन साड़ियों पर भी क्विज बना सकता है. खेलो औऱ स्कोर करो.

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़. अपना ज्ञान यहां चेक कल्लो!

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.