Submit your post

Follow Us

अनुराग कश्यप: जिसकी खाल में कीड़े रेंगते हैं

हर बाल की खाल की ये छाल भी खा जाए
इसके हाथ पड़ जाए जो महीने-साल भी खा जाए
किसी बेहाल का बचा जो हाल भी बेहाल खा जाए
बेमौत मरते मन का ये मलाल खा जाए
लालू का लाल खा जाए नक्सलबाड़ी की नाल खा जाए
बचपन का धमाल खा जाए बुढ़ापे की शाल खा जाए
हया तो छोड़ो बेहया की चाल भी खा जाए 
और अगर परोसा जा सके तो खयाल भी खा जाए

अनुराग कश्यप. एक खुल्ला सांड. लम्बी सुडौल सींगें. जिसपर उसे गुमान है. सींगें जो कुछ भी भेद सकती हैं. सड़क पर चलता किस और दौड़ जाए, मालूम नहीं. बात चाहे ऐंटी स्मोकिंग डिस्क्लेमर पर सरकार को चुनौती देने की हो या उस देश में जहां टिकट से ज़्यादा पॉपकॉर्न के पैसों से कमाई होती है, वहां साढ़े पांच घंटे लम्बी फिल्म बनाने की हो. मन में आया है तो करना है. दुनिया उसने अपने स्थान विशेष पे टिकाई हुई है. शेषनाग ने तो फिर भी अपने फन पे टिकाई थी.

अनुराग कश्यप. ‘बिहार’ का वो लाला जिसने बहुत पहले ही जान लिया था कि ये दुनिया बड़ी गोल है. वो जिसके नयन पहली रिलीज़ को देखने को तरस गए. जो कामयाबी का पथ निहारते थक गए. जिसके सुनहरे दिन काली रात में ढल गए. जिसका खून सौ में नब्बे काला है. वो जो पक्का बेहूदा है. जिसकी खाल में कीड़े रेंगते हैं. वो जिसकी नीयत में फफूंद की परतें लगी हुई हैं. वो जिसने नाखूनों से खुद के छाले फोड़े हुए हैं. गनीमत है कि जिसका दिल पत्थर हो चुका है. जिसने शाम की चौखट पर सारी शरम छोड़ दी. वो जिसका दिल मनमौजी है. जिसने गोली मारने में नहीं, कह के लेने में अपना विश्वास बनाया रक्खा. 

anurag 1
अनुराग बिहार के लाला हैं.

अनुराग कश्यप ने अपनी जड़ों को समेट के रक्खा हुआ है. भरपूर खाद-पानी देते हुए. जीवन में पहला सूट बनवाया. अपनी फ़िल्म के प्रीमियर पर पहनने के लिए. ब्लैक फ्राइडे. बॉम्बे बम-ब्लास्ट पर बनाई फ़िल्म. रियल लोकेशंस और असली नामों के साथ. केस अभी अदालत में ही था. कश्यप प्रीमियर पर जाने के लिए अपने फ़्लैट से नीचे उतरा. गेट पर वाचमैन ने बोला कि वापस ऊपर बुलाया गया है. ऊपर पहुंचा तो एक फ़ोन कॉल वेट कर रहा था. फ़ोन पे बात कर वो अपने कमरे में घुस गया. शराब की बोतलें लेकर. तीन दिन तक वही सूट पहने उसी कमरे में बैठा शराब पीता रहा. तीन दिन बाद कमरे से बाहर की दुनिया देखी. फ़िल्म पर बैन लग गया था. फ़िल्म रिलीज़ हुई सालों बाद. लेकिन तब तक भरपूर मात्रा में इसकी पाइरेसी हो चुकी थी.

कश्यप वो डायरेक्टर है जिसे टोरेंट ने बनाया है. जिसकी पहली फ़िल्म पांच के घटिया प्रिंट को लोगों ने यूट्यूब पर देखा है. ऐसा प्रिंट जिसमें आवाज़ और सीन्स के बीच सिंक नहीं है. तमन्ना है कि कभी इत्मीनान से मिलूं तो पेन ड्राइव में पांच डलवा लूं. नो स्मोकिंग बनाई तो बाबा के रोल में पंकज कपूर से बात की. पंकज ने कहा कि ऐंगल सही नहीं है. कश्यप ने कहा पंकज इस फ़िल्म के लिए सही नहीं है. फिल्म कश्यप की थी तो ऐंगल भी कश्यप का होना था. पंकज कपूर की जगह ली परेश रावल ने. और यही अनुराग कश्यप की फ़िल्म इंडस्ट्री में कुल जमा कमाई है. उसकी ज़िद, उसकी इंस्टिंक्ट और उसका मुझे-जो-सही-लगता-है-मैं-करता-हूं-ऐटीट्यूड. वो चाहे भगवान के ख़िलाफ़ हो, समाज के ख़िलाफ़ हो, पुलिस-कानून, या फिर पूरे सिस्टम के ख़िलाफ़ हो. मालूम है. लाइनें सरकार की हैं, फिट कश्यप पर भी बैठती हैं.

anurag kashyap
इनकी फिल्में हमें आईना दिखाती हैं.

ये आदमी अपने पिछवाड़े पर च्यवनप्राश लगाए घूमता है. ओवरटाइम का भी ओवरटाइम करता है. लोगों से मिलता है. उन्हें कहानियां सुनाता है. अपनी शूट की हुई फुटेज तक दूसरों को दिखा देता है. उनसे उनके काम का हाल लेता है. साथी डायरेक्टर्स क्या कर रहे हैं, जानकारी लेता रहता है. बाकी लोग क्या कर रहे हैं, कुछ नया हो रहा है, इसमें अनुराग को एक सुख मिलता है. उसे संतोष होता है कि सब कुछ चल रहा है, रुका हुआ नहीं है. ये वो बच्चा है जो किवाड़े खुले पाकर सीधे बाहर खेलने दौड़ जाता है. आज कश्यप इस बात का अफ़सोस जताता है कि नई नस्ल को खेलने को घास लगी ज़मीन नहीं मिल रही है. क्यूंकि उसकी खुद की अनुराग कश्यप बनने की शुरुआत इन्हीं मैदानों से हुई थी.

अपने में ही बिंधा हुआ, चुप रहने वाला (शराब न पी लेने तक) दुनिया के दोगलेपन पर अपनी फिल्मों में उसे मन भर कोसने वाला, लिखने का कीड़ा और अगले को उसकी औकात बताने का फ़ितूर पाले अनुराग कश्यप हमें अंधेरे में आईना दिखा रहा है. वो चाहे अग्ली के कुकर्म हों या रमन राघव में अंदर तक खखोर कर रख देने वाली भाई-बहन की एक कहानी. इसकी फ़िल्मों में गाली-गलौज होती है. खून उतना ही बहता है जितना इंसानी शरीर में होता है मगर वो सच्चा बहता है. लम्बे शॉट्स मिलते हैं. जब कोई कहता है कि ऑडियंस बोर हो जायेगी तो कहता है होने दो.

शालीनता और संस्कारों की चड्ढी उतार के नंगा हो चुका कश्यप जब इतना सब कुछ कहता-बनाता है तो शायद वो दुनिया से मुखातिब होकर चीख रहा होता है-

इतना भी जो कर न सके तो फिर काहे का गूदा?
तेरी खाल में रेंगें कीड़े, तू सच्चा बेहूदा.


वीडियो देखें:


 

ये भी पढ़ें:

अनुराग कश्यप और कबीर खान ला रहे हैं 1983 वर्ल्डकप जीत पर फिल्म!

रमन राघव तो मेरी सबसे खतरनाक लव स्टोरी है: कश्यप

अनुराग कश्यप, तुम सल्फ़ेट हो!

ये फिल्म vs सेंसर की लड़ाई है, इसे AAP vs पंजाब सरकार मत बनाअो

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

अमिताभ बच्चन तो ठीक हैं, दादा साहेब फाल्के के बारे में कितना जानते हो?

खुद पर है विश्वास तो आ जाओ मैदान में.