The Lallantop
Logo
लल्लनटॉप का चैनलJOINकरें

"एक औरत को परेशान करने के लिए...", सांसदी जाने के बाद महुआ मोइत्रा का पहला रिएक्शन

Cash for Query मामले में संसद की एथिक्स कमेटी की रिपोर्ट के बाद महुआ मोइत्रा के निष्कासन का प्रस्ताव सदन में पेश हुआ था. 8 दिसंबर को इस पर वोटिंग के दौरान सदन में जमकर हंगामा हुआ. मोइत्रा की सदस्यता रद्द करने का प्रस्ताव ध्वनि मत से पारित हो गया.

post-main-image
महुआ मोइत्रा की संसद सदस्यता चली गई है. इसके बाद वो बाकी तमाम सांसदों के साथ सदन के बाहर आईं और मीडिया से बात की.

कैश फॉर क्वेरी (Cash for Query) मामले में TMC सांसद महुआ मोइत्रा (TMC MP Mahua Moitra) की संसद सदस्यता निष्कासित कर दी गई है. सांसदी जाने के बाद महुआ बोलीं, “मोदी सरकार को लगता है कि मुझे चुप कराकर वो अडाणी मुद्दे से बचकर निकल सकते हैं. इस कंगारू कोर्ट ने आज जिस तरह से नियमों का दुरुपयोग किया है, उससे पूरे देश के सामने ये बात साबित हो गई है कि अडाणी आपके लिए कितने महत्वपूर्ण हैं. देश ने ये भी देख लिया कि एक महिला को परेशान करने के लिए, चुप कराने के लिए आप किस हद तक जा सकते हैं.”

सदन के बाहर मीडिया से बात करते हुए महुआ ने कहा,

“शिकायतकर्ता और बिजनेसमैन के बयानों में काफी अंतर है, विरोधाभास है. इस पर एथिक्स कमेटी ने कोई ध्यान नहीं दिया. मेरे पास से कोई कैश या गिफ्ट जैसे सबूत नहीं मिले. मेरा निष्कासन सिर्फ इस आधार पर किया गया कि मैंने अपना संसद पोर्टल का लॉगइन आईडी और पासवर्ड किसी और के साथ शेयर किया था. लेकिन ये भी सच है कि लॉगइन आईडी शेयर करने या न करने को लेकर कोई नियम ही नहीं हैं.”

एथिक्स कमेटी की रिपोर्ट के बाद महुआ मोइत्रा के निष्कासन का प्रस्ताव सदन में पेश हुआ था. 8 दिसंबर को इस पर वोटिंग के दौरान सदन में जमकर हंगामा हुआ. मोइत्रा की सदस्यता रद्द करने का प्रस्ताव ध्वनि मत से पारित हो गया. इधर, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने कहा कि अगर सदन की गरिमा बनाकर रखनी है तो कुछ सख्त फैसले लेने होंगे. महुआ को सदन में बोलने की भी इजाज़त नहीं दी गई. कहा गया कि उन्हें पैनल मीटिंग में बोलने का मौका दिया जाएगा.

महुआ मोइत्रा. पश्चिम बंगाल के कृष्णानगर से लोकसभा सांसद थीं. बीते दिनों बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने उन पर कई गंभीर आरोप लगाए थे. वो ये कि महुआ लोकसभा में सवाल पूछने के पैसे लेती हैं, और पैसे देने वाले का नाम भी लिया - बिजनेसमैन दर्शन हीरानंदानी. संसद की एथिक्स कमेटी ने इन आरोपों की जांच की थी. तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा के खिलाफ 'पैसों के बदले सवाल पूछने' के आरोपों की शिकायत एथिक्स कमेटी को भेजी गई थी.

वीडियो: दी लल्लनटॉप शो: महुआ मोइत्रा को बचाने के लिए किसने वोट किया?