The Lallantop
Logo
लल्लनटॉप का चैनलJOINकरें

पन्नू की हत्या की साज़िश का इल्ज़ाम लगा, भारत ने हाई लेवल जांच बैठा दी

भारत ने कह दिया है कि वो 'सारे पहलुओं की जांच' करेगा.

post-main-image
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने हाईलेवल जांच कमेटी की बात कही है(फोटो-एएनआई)

बीते दिनों एक मीडिया रिपोर्ट में भारत सरकार पर बड़ा आरोप लगाया गया. कि भारत, खालिस्तानी चरमपंथी गुरपतवंत सिंह पन्नू (Gurpatwant Singh Pannun) को मारने की साजिश रच रहा था, जिसे अमेरिकी एजेंसियों ने नाकाम कर दिया. हंगामा हुआ. दोनों देशों की तरफ से बयान जारी हुए. और अब खबर आ रही है कि भारत इस मामले में उच्च स्तरीय जांच कर रहा है.

अखबार और सरकार ने क्या-क्या कहा था?

खालिस्तानी चरमपंथी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या के बाद से भारत-कनाडा रिश्तों में तनातनी बढ़ने के बाद से ही प्रतिबंधित संगठन सिख फॉर जस्टिस का डी फैक्टो मुखिया पन्नू धमकी भरे बयान जारी कर रहा था. इसी बीच ब्रिटेन के अखबार फाइनेंशियल टाइम्स ने 22 नवंबर की अपनी रिपोर्ट में दावा कर दिया कि पन्नू को मारने की कथित ‘भारतीय साजिश' को अमेरिकी एजेंसियों ने नाकाम कर दिया. अखबार ने ये भी दावा किया कि अमेरिकी सरकार ने इस विषय में प्रधानमंत्री मोदी के अमेरिका दौरे के वक्त बात की थी.  

भारत सरकार ने फाइनेंशियल टाइम्स की रिपोर्ट सामने आने के कुछ घंटे के भीतर ही अपनी प्रतिक्रिया दी थी. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा था कि अमेरिका ने संगठित अपराधियों और आतंकवादियों के बीच नेक्सस से संबंधित जानकारी शेयर की थी. हमने इस मामले को गंभीरता से लिया है और हम इस मामले में आवश्यक कार्रवाई कर रहे हैं.

अमेरिकी कानून मंत्रालय और एफबीआई ने भी इस मामले में कोई टिप्पणी करने से इनकार कर दिया था. वहीं, अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद भी इस मुद्दे पर डायरेक्ट कुछ न बोलकर बस इतना कहा था कि अमेरिकी नागरिकों की सुरक्षा उनके लिए सबसे प्रमुख है.

अब इन आरोपों पर भारत ने एक हाईलेवल जांच के लिए पैनल का गठन किया है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने जांच के लिए गठित कमेटी पर कहा,  

“भारत ने मामले को गंभीरता से लेते हुए 18 नवंबर को ही एक हाई लेवल जांच कमेटी गठित की है. ये कमेटी मामले के सभी पहलुओं की जांच करेगी.” 

अरिंदम बागची ने आगे कहा, 

"हमने पहले भी कहा है कि भारत-अमेरिका द्विपक्षीय सुरक्षा वार्ता में अमेरिका ने संगठित अपराधियों और आतंकवादियों के बीच के नेक्सस से संबंधित जानकारी शेयर की थी."

बागची ने आगे कहा कि कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी.

अमेरिका को जवाब देना होगा - पन्नू

क्या अमेरिकी अधिकारियों ने इस मामले को लेकर गुरपतवंत पन्नू को अगाह किया था? पन्नू ने इस बारे में कोई जवाब देने से इंकार कर दिया. ‘फाइनेंशियल टाइम्स’ के मुताबिक, पन्नू ने कहा कि अमेरिकी सरकार को उनकी सुरक्षा को लेकर जवाब देना होगा. उसने आगे कहा,  

"भारतीय गुर्गों के चलते मेरे ऊपर मंडरा रहे खतरे को लेकर अमेरिका को जवाब देना होगा. किसी अमेरिकी नागरिक को खतरा अमेरिका की संप्रभुता के लिए एक चैलेंज है. मुझे भरोसा है कि बाइडन सरकार इस तरह कि चुनौती से निपटने में सक्षम है.”

जून 2023 में कनाडा के वैंकूवर में 'ख़ालिस्तानी आतंकी' हरदीप सिंह निज्जर की हत्या हो गई थी. इसके बाद कनाडा के प्रधानमंत्री ट्रूडो ने इस हत्या की जानकारी सार्वजनिक की थी. फाइनेंशियल टाइम्स की रिपोर्ट ने सूत्रों के हवाले से छापा है कि ट्रूडो के बयान के बाद अमेरिका ने अपने कुछ सहयोगी देशों को पन्नू की हत्या की साजिश के बारे में बताया. रिपोर्ट के मुताबिक़, जून 2023 में हुई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिका यात्रा के दौरान बाइडन सरकार ने इस मामले को लेकर भारत के सामने विरोध जताया था.

(यह भी पढ़ें: पाकिस्तान गईं अंजू भारत लौट आई हैं, शाम को पंजाब से दिल्ली पहुंचेंगी )