The Lallantop
Logo
लल्लनटॉप का चैनलJOINकरें

राहुल गांधी ने काले कपड़े पहनकर राम मंदिर शिलान्यास का विरोध किया था?

Rahul Gandhi समेत कांग्रेस नेताओं की काले कपड़े में एक तस्वीर वायरल है. दावा है कि नेताओं ने रामजन्मभूमि के शिलान्यास का विरोध किया था.

post-main-image
क्या कांग्रेस नेताओं ने राम मंदिर शिलान्यास के समय विरोध किया था? (तस्वीर:PTI)
दावा:

देश के पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव चल रहे हैं. भारत की राजनीति में धर्म और आस्था एक अहम केंद्र रहा है. बीते दिनों अयोध्या में बन रहे राम मंदिर के उद्घाटन की खबर भी आई. वो तो अगले साल जनवरी में होगा, लेकिन उसे लेकर सोशल मीडिया पर एक दावा तस्वीर के साथ सोशल मीडिया पर वायरल है. 

पोस्ट में जो तस्वीर है उसमें कांग्रेस नेता राहुल गांधी अपनी पार्टी के अन्य नेताओं के साथ काले कपड़े में संसद भवन के बाहर खड़े नज़र आ रहे हैं. इसे शेयर करके दावा किया गया है कि जब 5 अगस्त 2020 को राम मंदिर का शिलान्यास किया जा रहा था तब कांग्रेस के सांसदों ने संसद भवन के बाहर काले कपड़े पहनकर इसका विरोध किया था.

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ‘X’ पर एक यूजर ने वायरल तस्वीर को शेयर करते हुए लिखा, “कभी न भूलें, कभी माफ न करें. 5 अगस्त 2020 को जब श्री राम जन्मभूमि का शिलान्यास हो रहा था, तब कांग्रेस सांसद काले कपड़े पहनकर संसद पहुंचे.”

कांग्रेस नेताओं के विरोध प्रदर्शन का स्क्रीनशॉट.

इसी तरह कई अन्य यूजरों ने पोस्ट शेयर करके कांग्रेस सांसदों पर संसद के बाहर राम जनमभूमि के शिलान्यास का विरोध करने का दावा किया है.

पड़ताल

इस दावे में कितना दम है इसे जानने के लिए हमने गूगल पर कुछ कीवर्ड सर्च किए. हमें रामजन्मभूमि के शिलान्यास के समय की कई मीडिया रिपोर्ट और कांग्रेस नेताओं के ट्वीट मिले. उनमें कहीं भी नहीं लिखा है कि कांग्रेस नेताओं ने रामजन्मभूमि के शिलान्यास का विरोध किया है. कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा का एक पोस्ट मिला जिसमें उन्होंने लिखा था कि राम सबके हैं, राम सब में हैं. 

केवल प्रियंका ने नहीं, कांग्रेस ने अपने आधिकारिक हैंडल से भी ट्वीट करके रामजन्मभूमि के शिलान्यास पर हार्दिक बधाई दी थी.

और राहुल गांधी? 

उन्होंने भी 5 अगस्त 2020 को ट्वीट करके राम के कई गुणों का वर्णन किया था.

इस सबसे यही लगता है कि कांग्रेस ने भी रामजन्मभूमि के शिलान्यास के वक्त इसका स्वागात ही किया था.

तो अब बात ये कि वायरल हो रही तस्वीर कब की है?

ये पता लगाने के लिए हमने तस्वीर को रिवर्स सर्च किया. मालूम पड़ा कि यह है तो विरोध प्रदर्शन की, लेकिन ये विरोध हुआ था महंगाई, बेरोजगारी और जीएसटी की दरों पर. 

अंग्रेजी अखबार Telegraph की वेबसाइट पर 5 अगस्त 2022 को छपी एक रिपोर्ट में वायरल तस्वीर मौजूद है. रिपोर्ट में बताया गया है कि राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस सांसदों ने महंगाई, बेरोजगारी और आवश्यक वस्तुओं पर जीएसटी दरों की वृद्धि को लेकर एक राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शन किया था. विरोध में नेताओं ने काले कपड़े पहनकर राष्ट्रपति भवन की ओर कूच किया था. यह तस्वीर उसी विरोध प्रदर्शन की है.

इस बात की तस्दीक उस वक्त छपी कई अन्य मीडिया रिपोर्ट से भी होती है. इन सांसदों को दिल्ली पुलिस ने राष्ट्रपति भवन पहुंचने से पहले हिरासत में ले लिया था. बाद में सभी को छोड़ दिया गया.

नतीजा

कुल मिलाकर, साफ है कि कांग्रेस नेताओं का महंगाई और बेरोजगारी के खिलाफ किए गए विरोध प्रदर्शन की फोटो को राम मंदिर शिलान्यास से जोड़कर भ्रामक दावे के साथ शेयर किया जा रहा है. 

पड़ताल की वॉट्सऐप हेल्पलाइन से जुड़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.
ट्विटर और फेसबुक पर फॉलो करने के लिए ट्विटर लिंक और फेसबुक लिंक पर क्लिक करें.

वीडियो: पड़ताल: ग्लेन मैक्सवेल ने अपनी टीम को जिताने के बाद सचिन तेंदुलकर के पांव छूए?

इस पोस्ट से जुड़े हुए हैशटैग्स