Submit your post

Follow Us

जाना था जापान, गलती से पहुंचे अमेरिका, बोले- भारत है!

पारुल
पारुल

अमेरिका वमेरिका गए हो. ओबामा-ट्रंप को तो जानते ही हो. कुल मिलाकर टोटल बात ये है कि अमेरिका बड़ा मुल्क है. पूरी दुनिया में अपना रौला टाइट किए रहता है. इस अमेरिका को धोखे में खोजने का क्रेडिट जाता है सोनिया गांधी के मायके इटली के एक बंदे को. नामकरण संस्कार में नाम पड़ा क्रिस्टोफर कोलंबस. आपका ‘दी लल्लनटॉप’ जो नक्शेबाज सीरीज चला रहा है, आज उसकी छठी किस्त आई है. इसके बारे में बताएंगी प्यारी पारुल.


 

NAKSHEBAZ BANNER

क्रिस्टोफर कोलंबस

ये इटैलियन ट्रैवलर और एक्स्प्लोरर थे. चार बार अटलांटिक ओशन पार कर के घूमने गए थे. वैसे घूमने नहीं गए थे, पहले खोजने गए थे. फिर स्पेन की कॉलोनी बनाने. सेंचुरी में नंबर चल रहा था 15वीं.

ड्राइविंग फ़ोर्स:

बिज़नेस के चक्कर में समुद्री रास्तों और मार्केट इन दोनों की समझ कोलंबस को आ चुकी थी. अब कोलंबस कुछ बड़ा करना चाहते थे. इसीलिए स्पेन के राजा से घूमने की परमिशन मांगी. भारत और उसके आसपास की जगहों तक पहुंचने का नया समुद्री रास्ता खोजने के लिए. जिससे एशिया से इनका ट्रेड और फायदेमंद बन सके. लेकिन कोलंबस को एक ‘नई दुनिया’ ही मिल गई. यानी अमेरिका.

फैमिली बैकग्राउंड/इनकम लेवल:

क्रिस्टोफर कोलंबस के पापा ऊन के कपड़े बनाते थे. साथ में एक चीज़ की दुकान भी चलाते थे. कोलंबस खाली वक़्त में वहीं दुकानदारी किया करते थे. मतलब शुद्ध रूप से मिडिल क्लास परिवार. क्रिस्टोफर कोलंबस ने अपने करियर की शुरुआत बिज़नेस एजेंट बन कर की. और इसी वजह से इनका दूर-दराज आना-जाना लगा रहता था.

कोलंबस ‘मेरा एक सपना है’ यानी ऐम्बिशियस टाइप आदमी थे. सपनों से कहीं किसी का पेट भर पाता है. इतने से इनका मन भरा नहीं. इसीलिए इन्होंने कई भाषाएं सीखी. फिर हिस्ट्री-जियोग्राफी पढ़ना शुरू कर दिया. मार्को पोलो का ट्रेवल अकाउंट भी पढ़ गए. ये बड़े धार्मिक भी थे. अक्सर बाइबिल की बातें करते थे.

ट्रेवल रूट/जगहें:

अटलांटिक ओशन होते हुए क्रिस्टोफर कोलंबस को जाना था जापान. लेकिन पहुंच गए अमेरिका. इन्हें लगा कि ये भारत है. और काफी वक़्त तक लोगों को खबर नहीं थी कि ये भारत नहीं, एक नई जगह है. फिर पता चलने पर पूरी दुनिया में ऐलान कर दिया गया कि क्रिस्टोफर कोलंबस ने एक नई जगह ‘खोज’ ली है.

ये अमेरिका में सबसे पहले बहामास गए. फिर कैरिबियन आइलैंड और वहां से होते हुए अमेरिका के बीचों-बीच तक पहुंच गए. 3 अगस्त 1492 को तीन नाव लेकर कोलंबस निकले थे. वहां के नेटिव ‘अरावाक’ लोगों को ढेर सारे सोने के गहने पहने देख कर इनका दिमाग घूम गया. और इन्होंने उनमें से कुछ लोगों को ज़बरदस्ती साथ ले लिया. ताकि वो इन लोगों को सोने की खानों तक ले जाएं. फिर क्यूबा तक गए.

दूसरी बार में कोलंबस 17 नावों में करीब 1200 लोगों को लेकर पहुंचे. अमेरिका में यूरोपियन लोगों को बसाने के लिए. फिर तो ढेरों यूरोपियन सेटलर आते गए और अमेरिका के नेटिव लोगों को बेघर करना शुरू किया. कई नेटिव अमेरिकन ट्राइब पूरी की पूरी ख़तम हो गईं.

मुश्किलें:

क्रिस्टोफर कोलंबस को सफ़र शुरू होने से पहले परमिशन लेने में ही बड़ी मशक्कत करनी पड़ी. इनका प्रपोजल एक्सेप्ट ही नहीं किया जा रहा था. सफ़र के दौरान एक-दो बार वो नाव सहित अपने साथियों से बिछड़ गए थे. वैसे जो सबसे बड़ी गड़बड़ हुई वो ये थी कि कोलंबस को जाना था कहीं और, लेकिन पहुंच गए कहीं और. हालांकि बाद में ये सबसे अच्छी बात साबित हुई उनके लिए. उनके सामने बाद में जो एक मुसीबत आई उसमें खुद उनकी गलती थी. अमेरिका में गवर्नर बना दिए जाने के बाद उन्होंने इतनी ज्यादतियां कीं कि उनकी खूब शिकायत की गई. और उनकी गवर्नरशिप छीन ली गई.

आउटपुट:

कोलंबस ने अपने सफ़र के बारे में कुछ लेख लिखे थे. काफी बाद में दो किताबें भी लिखी थी, लेकिन वो धार्मिक किताबें थीं.

कोलंबस के अमेरिका ‘खोज’ लेने के बाद यूरोप के देशों के बीच जैसे कॉम्पिटिशन शुरू हो गया. अमेरिका उससे पहले बाकी पूरी दुनिया के कांटेक्ट से बाहर था. यहां ज़मीन थी, सोना-चांदी था. और ऐसे लोग थे जिन्हें इन सब के मार्केट वैल्यू के बारे में कुछ पता नहीं था. इस माहौल का फायदा उठाने की कोशिश स्पेन, ब्रिटेन, फ्रांस जैसे सभी देशों ने की.

आने वाले वक़्त में अमेरिका में बहुत कुछ हुआ. बचे हुए नेटिव लोगों को कंट्रोल किया गया. अफ्रीका से स्लेव्स लाए गए. और बहुत लंबे समय तक ब्लैक स्लेवरी चलती रही.


 

1. फाह्यान: वो ट्रैवलर, जो चीन से पैदल इंडिया आ गया

2.  वो पहला चाइनीज, जो बिना इजाजत इंडिया आया

3. इस बंदे ने दीये का तेल खोजने के चक्कर में घूम डाली दुनिया

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.