Submit your post

Follow Us

इस मशहूर फिल्म डायरेक्टर ने कहा, 'हां मैं ट्रांसजेंडर हूं'

5
शेयर्स

याद है एक फिल्म आई थी. बेस्ड थी मशीनों और इंसानों की लड़ाई पर. मशीनें, जो पावर और दिमाग के लेवल पर भी इंसानों से आगे चली जाती हैं. फिर पूरी दुनिया पर वो कब्ज़ा कर लेती हैं. लेकिन एक छोटा सा हिस्सा धरती के कोने में कहीं अंदर बचा रह जाता है. वहां रहता था एक सैनिक मॉर्फियस. वो इस दुनिया से उठा कर ले गया नियो को. ट्रिनिटी की मदद ली थी इस काम के लिए. फिर नियो भाईसाहब की ट्रेनिंग होती है. लड़ने बचने की हर विद्या उनके दिमाग में कंप्यूटर से डाल दी जाती है. बन जाता है सुपर पावर. और फिर मशीनें एक दिन इंसानों पर भी हमला कर देती हैं. नियो उनका सामना करता है. मशीने लड़ाई बंद कर लौट जाती हैं. लेकिन उसकी कुर्बानी लेकर. अपनी जान देकर दुनिया को बचा लेता है. जैसा कि हर हॉलीवुड फिल्म में होता है.

कुछ कुछ याद आया? नहीं आया तो बता दें, मैट्रिक्स फिल्म की कहानी है. तीन पार्ट्स में आ चुकी है. रिलीज होती है तो हल्ला मच जाता है दुनिया भर में. लेकिन खबर ये नहीं कि इसका चौथा पार्ट आ रहा है. खबर मैट्रिक्स फिल्म के डायरेक्टर के बारे में है.

फिल्म के डायरेक्टर थे वाचोव्स्की ब्रदर्स. लॉरेंस और एंड्रू वाचोव्स्की. फिर 2012 में लॉरेंस ने अपना लिंग परिवर्तन करवा लिया और औरत बन गए. लोगों ने उन्हें वाचोव्स्की ब्रदर्स की जगह द वाचोव्स्कीज बुलाना शुरू किया.

बीते दिनों उनको भाई एंड्रू वाचोव्स्की ने भी अपना लिंग परिवर्तन करवा लिया. और वाचोव्स्की ब्रदर्स से वाचोव्स्की सिस्टर्स बन गए. लॉरेंस और एंड्रू अब लेना और लिली वाचोव्स्की कहलाते हैं. है न कमाल की बात!

lana and lilly
लिली (पहले एंड्रू, बाएं) और लेना वाचोवस्की

बीते दिनों हमने सिमरन का इंटरव्यू किया था. जो एक हिजड़ा हैं. सलीम किदवई से बात की, जो गे एक्टिविस्ट हैं. कुछ गे दोस्तों ने अपनी कहानियां हमसे शेयर की. सबमे एक ही चीज कॉमन मिली. ‘कमिंग आउट’ यानी पब्लिक में अपनी पहचान को स्वीकार करना सबसे कठिन काम होता है.’ ये कमिंग आउट का प्रोसेस था जो ‘अलीगढ़’ फिल्म में प्रोफेसर सिरास की जान ले लेता है. बीते दिनों लिली (पहले एंड्रू) के घर ‘डेली मेल’ अखबार से एक पत्रकार पहुंचा. उनके जीवन की जांच-पड़ताल करने. क्योंकि मैट्रिक्स जैसी मशहूर फिल्म का डायरेक्टर अपना सेक्स बदल ले, ये किसी भी अखबार के लिए मसालेदार खबर हो सकती है. लेकिन लिली ने डेली मेल के लिए लिखा एक करारा जवाब. ऐसा जवाब जिससे सिर्फ मीडिया को ही नहीं, हम सबको सीख लेनी चाहिए. पढ़िए, और समझिए, लिली का स्टेटमेंट:

‘सेक्स चेंज शॉकर: वाचोव्स्की भाई अब बने वाचोव्स्की बहनें’. ये वो हेडलाइन है जिसका मैं पिछले एक साल से इंतजार कर रही हूं. डरते हुए या फ्रस्ट्रेट होकर. एक-दो बार खबर बाहर आते-आते रह गई. ईमेल आते थे रिपोर्टर्स के. कि अपने सेक्स चेंज के बारे में मुझे क्या कहना है. मेरी मर्जी के बिना अगर छप जाती तो मैंने भी एक बयान तैयार रखा था. ऐसा कड़वा बयान जो बना था पेशाब, सिरके और पेट्रोल से.

lily wachowski

बयान में बहुत कुछ था. ट्रांसजेंडर्स की हालत पर. जो टॉर्चर वो झेलते हैं. उनका सुसाइड और मर्डर रेट. और हां. एक व्यंग्यात्मक उपसंहार भी लिखा था. कि किस तरह हमारे पिता ने अपने अंडकोश में इंजेक्शन से टिड्डे का खून मिला लिया था ये प्रार्थना करते हुए कि उन्हें सुपरवुमन लडकियां पैदा हों.

पर ऐसा हुआ नहीं. अखबारों और मैगजीनों ने ऐसा कुछ छापा नहीं. मैं भी ऑपटिमिस्ट हूं. मैंने सोचा लोगों की सोच में प्रोग्रेस हुई है. खैर.

पिछली रात में डिनर पर बाहर जाने के लिए तैयार हो रही थी. तभी दरवाजे की बेल बजी. दरवाजा खोला तो पोर्च में ऐसा आदमी खड़ा था जिसे मैं जानती नहीं थी.
This might be a little awkward (ये थोड़ा अजीब लग सकता है),” उसने अंग्रेजी एक्सेंट में कहा.

मैंने एक गहरी सांस भरी.

कभी-कभी ऑपटिमिस्ट होना कठिन होता है.

उसने बताया वो ‘डेली मेल’ का पत्रकार है. जो UK की सबसे बड़ी समाचार सेवा है. कोई छोटा-मोटा टेबलाइड नहीं है. और मुझे उसके साथ अगले दिन बैठना होगा. अपनी प्रेरक कहानी बतानी होगी. फोटो खिंचवानी होगी. नेशनल इन्क्वायरर जैसे किसी टेबलाइड से बचना होगा.

मैं और मेरी बहन लेना हमेशा प्रेस को अवॉइड करते आए हैं. अपनी कला के बारे में बात करना बहुत पकाऊ लगता है. और खुद के बारे में बात करना एक शर्मिंदगी भरा प्रोसेस लगता है. मुझे पता था कभी न कभी दुनिया को मेरा सच पता चलेगा. ट्रांसजेंडर होकर छिपना मुश्किल है. सबको पता चल ही जाता है. मुझे बस समय चाहिए था. थोड़ा समय, खुद को संभालने के लिए. कम्फ़र्टेबल होने के लिए.

पर शायद यहां मुझे अपने फैसले खुद लेने का हक नहीं है.

जब उस पत्रकार ने अपना कार्ड दिया, मैं दरवाजा बंद कर के सोचने लगी कि डेली मेल का नाम कहां सुना था. हां, ये वही ‘समाचार’ सेवा थी जिसने ट्रांसजेंडर टीचर लूसी मिडोस पर खबर की थी. इन्होंने एक समय लिखा था कि न ही सिर्फ लूसी एक गलत शरीर में कैद हैं, वो गलत काम कर रही हैं. मुझे लूसी की कहानी याद रह गई. इसलिए नहीं कि वो भी ट्रांसजेंडर थी. बल्कि इसलिए कि खबर छपने के 3 महीनों बाद उसने सुसाइड कर ली थी.

और आज एक बार फिर वो दरवाजे पर खड़े हैं. जैसे कह रहे हों, ये देखो एक और. चलो इसे बाहर निकालो. ताकि हम इसे देख सकें.

ट्रांसजेंडर होना आसा नहीं है. हम ऐसी दुनिया में रहते हैं जो स्त्री और पुरुष के अलावा किसी पहचान को नहीं मानती है. पूरी दुनिया आपकी दुशमन बन बैठती है.

andrew wachowski

मैं कुछ लकी ट्रांस लोगों में से एक हूं. जिसके पास परिवार का सपोर्ट है. ऑपरेशन, इलाज और थेरेपी करवाने के लिए पैसे हैं. लेकिन जिनके पास ये लक्ज़री नहीं होती, उनके लिए जीना बहुत कठिन हो जाता है. कई ट्रांसजेंडर मर जाते हैं. 2015 में ट्रांसजेंडर मर्डर रेट सबसे ज्यादा था. पीड़ितों में कई ट्रांसजेंडर ‘कलर्ड’ थे. यानी वाइट रेस के नहीं थे. ये तो सिर्फ वो डाटा है जिसे रिकॉर्ड कर पाया गया है. मर्डर तो बस औरतों और मर्दों के रिकॉर्ड होते हैं. ट्रांसजेंडर की मौत मौत ही कहां होती है?

हालांकि उस दौर से हम काफी आगे निकल आए हैं. जब ‘साइलेंस ऑफ़ द लैंब्स’ जैसी ट्रांस्फोबिक फिल्में बन रही थीं. लेकिन मीडिया में अब भी हमें ऐसे दिखाते हैं जैसे हम राक्षस हों. जैसे हम शिकारी हों. बाथरूम भी यूज नहीं करने देते. ये जो ‘बाथरूम बिल’ आते हैं, उन नियमों के साथ जो बच्चों को बाथरूम में हैरेसमेंट से बचाने के लिए बानाए जाते हैं, ये ट्रांस लोगों को बाथरूम से से बहार भी रखते हैं. ये हमें उन बाथरूमों को यूज करने पर मजबूर करते हैं जहां हमारी जान को खतरा होता है. जहां हमें पीटा जा सकता है. हमारा खून किया जा सकता है.

तो हां, मैं ‘ट्रांसजेंडर’ हूं.

और हां, मैंने ‘ट्रांजीशन’ किया है.

मेरे दोस्तों और घर वालों को मेरे बारे में पता है. मैं जहां काम करती हूं उन्हें पता है. सब मेरे फैसलों से खुश हैं. अपनी बहन का शुक्रिया करती हूं, जो ये पहले कर चुकी हैं. अपनी पत्नी, परिवार और दोस्तों के सपोर्ट के बिना ये मुमकिन नहीं था.

Matrix

लेकिन ‘ट्रांसजेंडर’ शब्द से मुझे तकलीफ है. या इस शब्द से जो लोग समझते हैं, उससे तकलीफ है. लोग शब्दों में छिपे नाजुक अर्थों को नहीं समझते. ट्रांसजेंडर होने की परिभाषा इतनी ही रह जाती है कि वो औरत या मर्द नहीं है. ‘ट्रांजीशन’ से जो लोग समझते हैं कि ये एक आइडेंटिटी छोड़कर दूसरी आइडेंटिटी अपनाने तक का सफ़र है. और वहीं ख़त्म हो जाता है. पर ऐसा नहीं है. ये एक प्रोसेस है जो ख़त्म नहीं होता. मैं पूरी जिंदगी ट्रांजीशन महसूस करूंगी. औरत और मर्द के बीच जो बड़ा सा फर्क है, उसमें तैरती रहूंगी.

जेंडर और क्वियर थ्योरी समझने की कोशिश करती हूं तो दिमाग भन्ना जाता है. बहुत मुशकिल है इसे समझना. खुद को समझना. एक दोस्त ने एक कोट दिया था. उसे देखती रहती हूं. उसमें लिखा है: “क्वियर होना ‘यहां’ और ‘इस समय’ को त्याग कर दूसरी दुनिया में छिपी संभावनाओं पर भरोसा करना है.”

मैं ऑपटिमिस्ट बनी रहूंगी. दूसरी दुनिया में छिपी संभावनाओं पर भरोसा रखूंगी. चाहे मुझे सिसीफस की तरह स्ट्रगल क्यों न करना पड़े. वो सिसीफस जिसे श्राप था कि वो बार-बार एक बड़े गोल पत्थर को धकेल कर एक पहाड़ की चोटी तक ले जाएगा. जहां से पत्थर फिर गिर पड़ेगा. लेकिन वो फिर से उसे चढ़ाने में जुट जाएगा.

-लिली वाचोव्स्की

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

आरामकुर्सी

कैसे डिज्नी-मार्वल और सोनी के लालच के कारण आपसे स्पाइडर-मैन छिनने वाला है

सालों से राइट्स की क्या खींचतान चल रही है, और अब क्या हुआ जो स्पाइडर-मैन को MCU से दूर कर देगा.

इस्मत लिखना शुरू करेगी तो उसका दिमाग़ आगे निकल जाएगा और अल्फ़ाज़ पीछे हांफते रह जाएंगे

पढ़िए मंटो क्या कहते थे इस्मत के बारे में, उन्हीं की कलम से निकल आया है.

वो रेल हादसा, जिसमें नीलगाय की वजह से ट्रेन से ट्रेन भिड़ी और 300 से ज्यादा लोग मारे गए

उस दिन जैसे हर कोई एक्सिडेंट करवाने पर तुला था. एक ने अपनी ड्यूटी ढंग से निभाई होती, तो ये हादसा नहीं होता.

'मेरी तबीयत ठीक नहीं रहती, मुझे नहीं बनना पीएम-वीएम'

शंकर दयाल शर्मा जीके का एक सवाल थे. आज बड्डे है.

गुलज़ार पर लिखना डायरी लिखने जैसा है, दुनिया का सबसे ईमानदार काम

गुलज़ार पर एक ललित निबंध.

जब गुलजार ने चड्डी में शर्माना बंद किया

गुलज़ार दद्दा, इसी बहाने हम आपको अपने हिस्से की वो धूप दिखाना चाहते हैं, जो बीते बरसों में आपकी नज़्मों, नग़मों और फिल्मों से चुराई हैं.

...मन को मैं तेरी नज्में नज़्में रिवाइज़ करा देता हूं

उनके तमाम किरदार स्क्रीन पर अपना स्कैच नहीं खींचते. आपकी मेमोरी सेल में अपना स्पेस छोड़ जाते हैं.

जब केमिकल बम लिए हाईजैकर से 48 लोगों को बचाने प्लेन में घुस गए थे वाजपेयी

कंधार कांड का वो किस्सा, जो लालजी टंडन ने सुनाया था.

शम्मी कपूर के 22 किस्से: क्यों नसीरुद्दीन शाह ने उन्हें अपना फेवरेट एक्टर बताया

'राजकुमार' फिल्म के गाने की शूटिंग के दौरान कैसे हाथी ने उनकी टांग तोड़ दी थी?

'मैं नहीं कहता तब करप्शन अपवाद था, पर अब तो माहौल फ़िल्म से बहुत ब्लैक है': कुंदन शाह (Interview)

आज ही के दिन 12 अगस्त, 1983 को रिलीज़ हुई थी इनकी कल्ट 'जाने भी दो यारो'.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.