The Lallantop
Advertisement

टीम की लगातार हार देख एक्शन में आया BCCI!

कुछ तो बड़ा होना चाहिए.

Advertisement
Rohit Sharma
रोहित शर्मा (फोटो - सोशल)
8 दिसंबर 2022 (Updated: 9 दिसंबर 2022, 17:15 IST)
Updated: 9 दिसंबर 2022 17:15 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

टीम इंडिया को लगातार मिल रही हार से हमारे और आपके जैसी जनता तो परेशान है ही. बॉस BCCI भी बहुत चिंतित है. इतना चितिंत की टीम की क्लास लगाने की तैयारी कर ली गई है. इशारे ऐसे मिल रहे हैं कि कड़े फैसले लेने का वक्त आ चुका है. दरअसल ख़बर है कि टीम के सीनियर मेम्बर्स के साथ मिलकर BCCI टीम इंडिया की परफॉर्मेंस पर रिव्यू मीटिंग करने वाला है. शायद बिल्कुल वैसी ही जैसी आपके-हमारे ऑफिस में होती हैं.

और जो शायद समय-समय पर ज़रूरी भी होता है, गोल और फोकस क्लियर करने के लिए. पिछले कुछ सालों में टीम इंडिया को कभी ऐसी मीटिंग की ज़रूरत नहीं पड़ी. ऐसा नहीं था कि हम इस दौरान हार नहीं रहे थे. लेकिन BCCI को ऐसी ज़रूरत नहीं महसूस हुई. वजह कई हो सकती हैं. लेकिन टीम की हालिया परफॉर्मेंस से बोर्ड को डर लगने लगा है. डर है जनता का भरोसा खो देने का. 

वैसे तो ये मीटिंग वर्ल्ड कप के बाद ही होनी थी. जब टीम ने सेमीफाइनल मुकाबले में इंग्लैंड के हाथों बुरी तरह अपनी भद पिटवाई, उसके बाद मीटिंग को लेकर सुगबुगाहट हुई. ये थोड़ा चौंकाने वाला था, क्योंकि हम सेमीफाइनल में कई बार हारे हैं. लेकिन बांग्लादेश के खिलाफ़ वनडे सीरीज में मिली हार से शायद BCCI के सब्र का बांध टूट गया है. उन्होंने भी ये उम्मीद नहीं की होगी कि सीनियर्स के लौट जाने के बाद भी हार का मुंह देखना पड़ेगा. वो भी तब जब वनडे वर्ल्ड कप की तैयारियों का आगाज़ हो गया है.

इंडियन एक्सप्रेस ने BCCI के एक अधिकारी के हवाले से बताया, 

‘हम टीम इंडिया के बांग्लादेश रवाना होने से पहले उनसे नहीं मिल पाए. क्योंकि कुछ पदाधिकारी व्यस्त थे. लेकिन अब जब टीम बांग्लादेश दौरे से वापस आ जाएगी तो हम इस मीटिंग को जल्दी करवाएंगे. ये एक शर्मनाक परफॉर्मेंस है. और हमने इस टीम से बांग्लादेश से हारने की उम्मीद नहीं की थी.’

टॉप ऑफिशियल का ये बयान पोज़िटिव इंटेंट वाला लगता है. और आज सिली पॉइंट में इसी बयान पर चर्चा करेंगे.

चर्चा की शुरुआत एक अहम सवाल से करते हैं? इंडियन क्रिकेट जिसमें खिलाड़ियों से बड़ा कुछ नहीं है. खिलाड़ियों के लिए कोच बदल दिए जाते हैं. रिव्यू मीटिंग पहले भी होती होंगी लेकिन लंबे समय बाद ऐसा कुछ सुनने मिल रहा है जब बीच सीरीज़ में बोर्ड के हवाले से खराब परफॉर्मेंस का वास्ता देकर रिव्यू मीटिंग की बात हो रही है. ये सुनकर इंडियन क्रिकेट फ़ैन्स को  कैसा लग रहा है? 

टीम के जैसे हालात हैं उसको देखकर शायद अच्छा ही लग रहा होगा. क्योंकि टीम इंडिया कहां जा रही इसका किसी को अंदाजा नहीं है. फ़ैन्स ने उम्मीद लगाई थी कि रोहित आएंगे तो चीज़े बदल जाएंगी. रोहित ने खुद कहा था कि खिलाड़ियों को खेलने की सिक्योरिटी दी जाएगी.

उम्मीद थी कि टीम इंडिया ICC या बड़े टूर्नामेंट्स जीतना शुरू कर देगी. लेकिन ऐसा नहीं हुआ. और हम इसके लिए रोहित को कोस भी नहीं रहे हैं. ICC इवेंट्स में हमें हमारी टीम इंडिया का हाल बखूबी पता है. और साथ में बता दें, हम इस मीटिंग से इसलिए खुश हैं क्योंकि हमारी टीम अब द्विपक्षीय सीरीज़ में भी हार रही है.

और फ़ैन्स के साथ BCCI भी अपनी प्यारी दुलारी टीम इंडिया से इसी का जवाब चाहती है कि आखिर हम किस गली जा रहे हैं? इस साल हमने विदेशी ज़मीन पर साउथ अफ्रीका, न्यूज़ीलैंड और बांग्लादेश से वनडे सीरीज़ हारी है. साउथ अफ्रीका और न्यूज़ीलैंड की कंडीशन हमारे लिए थोड़े अलग या मुश्किल कहे जा सकते हैं, लेकिन बांग्लादेश का हाल तो अपने घर जैसा ही है.

सवाल के घेरे में कप्तान के साथ कोच राहुल द्रविड़ भी आ गए हैं. सवाल उठ रहे हैं कि उनकी कोचिंग में टीम ने ना कोई अटैकिंग अप्रोच सीखी है और ना ही आखिर के ओवर्स में कोई गेमप्लान होता है. एक बार हमारे गेंदबाज़ पिटना शुरू कर देते हैं, तो रुकने का नाम नहीं लेते. इसके साथ बल्लेबाज़ी का ज़िक्र किया जाए, तो जो खिलाड़ी अटैकिंग अप्रोच लाते हैं, वो पूरी सीरीज़ सीटों पर बैठे हुए नज़र आते हैं.

रोहित, राहुल की जोड़ी के साथ इस मीटिंग में वीवीएस लक्ष्मण और विराट कोहली भी होंगे. लक्ष्मण की कोचिंग में टीम इंडिया ने हाल में तीन असाइनमेंट किए और इसमें में से दो जीते. न्यूज़ीलैंड वाले असाइनमेंट में T20 में जीत और वनडे में हार मिली थी. लेकिन प्रश्न ये है कि इन सीरीज़ में सिर्फ कुछ खिलाड़ियों ने ही अटैकिंग अप्रोच बनाए रखी. एक सवाल ये भी है कि विराट इस मीटिंग में क्यों हैं? संभवतः वो अभी भी लीडरशिप ग्रुप का हिस्सा हैं. अभी भी युवा खिलाड़ी उनको रोल मॉडल के तौर पर देखते हैं और विराट ने ही हमें अटैकिंग क्रिकेट खेलकर लगातार जीतना सिखाया था.

अब इस रिव्यू मीटिंग में क्या डिसकस होगा ये तो हमें नहीं पता. बस यही उम्मीद है कि बदलाव नज़र आए. एक कोशिश नज़र आए जो ये इशारा दे कि हमारी वर्ल्ड कप की तैयारियां कुछ वक्त के लिए डिरेल ज़रूर हुई थीं, लेकिन अब सब कुछ चंगा हो जाएगा…

राहुल द्रविड़ का हार पर बयान टीम इंडिया की इस हालत का असली कारण?

thumbnail

Advertisement

election-iconचुनाव यात्रा
और देखे

Advertisement

Advertisement