Submit your post

Follow Us

चलो! धड़ाधड़ कटते चालानों के बीच गडकरी ने कुछ तो राहत की खबर दी

5
शेयर्स

सुबह ऑफिस के लिए जाते वक्त पेट्रोल पंप पहुंचा. वहां एक लंबी लाइन लगी थी. पेट्रोल भरवाने के लिए नहीं. इंश्योरेंस करवाने के लिए. ये है धड़ाधड़ कटते चालानों का खौफ. मुस्तैद नजरों से साथ हाथ में मशीन लिए सफेद कपड़े पहने ट्रैफिक सिपाहियों का खौफ. तो ये खौफ जारी रहने वाला है. इसमें कोई छूट नहीं है. फर्जी उम्मीदें न लगाएं. और ये खबर अगर आपने इस विचार से खोली है कि कुछ जुगाड़ मिल जाएगा. बचने का. तो हमें खेद है. क्योंकि गडकरी जी को आपसे मतभेद है. ट्रैफिक नियम तो मानने ही पड़ेंगे गुरू.

गडकरी ने जो गुड न्यूज दी है. वो भी गाड़ियों को लेकर ही है. खबर ये कि आने वाले समय में डीजल और पेट्रोल वाहन बंद नहीं होने वाले हैं. खासतौर पर ऑटो इंडस्ट्री और कस्टमरों के बीच डीजल वाहनों के बंद होने का डर रहा है. तो ऐसा कुछ नहीं होने जा रहा है. कुछ दिन पहले ऐसी खबरें भी आई थीं कि नीति आयोग ने प्रस्ताव दिया है कि तिपहिया वाहनों को 2023 और 150सीसी से कम क्षमता वाले दो पहिया वाहनों को 2025 तक सड़कों से हटा कर उनकी जगह इलेक्ट्रिक वाहन लाए जाएं. पर ऐसा नहीं है. गडकरी ने कहा –

नितिन गडकरी पहली बार 2014 लोकसभा चुनावों में नागपुर से सांसद चुने गए थे
गडकरी ने ऑटो सेक्टर में मंदी पर खुलकर बोला.

ऑटो सेक्टर में नौकरी जाने की समस्या हमें पता है. हम भी मंदी का सामना कर रहे हैं. भारत में ऑटो सेक्टर ने बड़ी मात्रा में रोजगार दिया है. लोगों के बीच ये गलतफहमी है कि सरकार पेट्रोल और डीजल वाहनों को बंद करने जा रही है. ऐसा नहीं है. प्रदूषण कम करना हमारी प्राथमिकता है. दिल्ली में भी 20 फीसदी प्रदूषण कम हुआ है. हमने ऑटो सेक्टर से इंजन बीएस4 से बीएस 6 में जाने के लिए कहा है और इंडस्ट्री से जुड़े लोग भी माने हैं.

नितिन गडकरी ने एक और राहत का आश्वासन दिया है. पेट्रोल और डीजल के टैक्स में कमी लाने की मांग को लेकर. उन्होंने कहा कि वह इस बात को वित्त मंत्री के सामने उठाएंगे. जल्द कुछ कदम उठाने की कोशिश करेंगे.


लल्लनटॉप वीडियो देखें-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

यूपी के उर्स में हिंदुओं ने खाकर 43 मुस्लिमों पर केस किया, कहा - भैंसे की बिरयानी खिला दी

केस किया भी तो दो दिन बाद.

15 हज़ार की गाड़ी थी, 23 हज़ार का चालान ठोंक दिया

किन पांच चीज़ों पर एक स्कूटी का ऐसा चालान हुआ?

योगी आदित्यनाथ के 'प्रेरणा ऐप' को प्ले स्टोर पर 1-स्टार की रेटिंग क्यों मिल रही है?

यूपी के टीचर अब सेल्फी नहीं लेना चाह रहे हैं.

यूपी के स्कूल में नमक-रोटी खाते बच्चों का वीडियो बनाने वाला पत्रकार फंस गया

बदनामी से गुस्साए डीएम ने केस करने की धमकी दी थी!

मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार में आर्थिक मंदी पर क्या कहा?

मनमोहन सिंह की बात पढ़ेंगे तो समझ जाएंगे कि मंदी क्यों आई.

असम के विधायक हैं, विपक्ष के नेता हैं, लेकिन NRC की लिस्ट में नहीं हैं अनंत कुमार मालो

कई नेताओं और सैनिकों के साथ ऐसा ही हुआ है.

BJP ने बड़बोली प्रज्ञा ठाकुर को चुप कराने का आईडिया निकाल लिया है

और प्रज्ञा ठाकुर बहुते परेशान हो गयी हैं

इमरान खान की भयानक बेज्ज़ती बिजली विभाग के क्लर्क ने कर दी है

सोचा होगा, 'हमरा एक्के मकसद है, बदला!'

जज साहब ने भ्रष्टाचार पर जजों का धागा खोला, मगर फिर जो हुआ वो बहुत बुरा है

कहानी पटना हाईकोर्ट के जज राकेश कुमार की, जो चारा घोटाले के हीरो हैं.

अयोध्या में बाबरी मस्जिद को बाबर ने बनवाया ही नहीं?

ये बात सुनकर मुग़लों की बीच मार हो गयी होती.