Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

नवाज मियां, हमने पगड़ी पहनाई, तुम टोपी मत पहनाना

5
शेयर्स

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ अब मोदी के पक्के वाले दोस्त हो गए हैं. तभी तो अपनी नवासी के दावते-वलीमा में उन्होंने वही पगड़ी पहनी, जो उन्हें नरेंद्र मोदी ने गिफ्ट की थी.

बीते शुक्रवार को शरीफ की नवासी की शादी हुई थी. तब खुद मोदी उनसे मिलने लाहौर जा पहुंचे थे. वहां से वे शरीफ के जटी उमराघर के घर गए थे और वहां उन्हें एक गुलाबी राजस्थानी पगड़ी गिफ्ट की थी.

नवाज शरीफ की पार्टी पीएमएल-एन के एक सूत्र ने कहा, यह बात शरीफ की पड़ोसी देश के प्रति ईमानदार इरादे को दिखाती है. इससे ये भी पता चलता है कि शरीफ मोदी के गिफ्ट को कितनी अहमियत देते हैं.

बात सही है, भरोसा भी कर रहे हैं. लेकिन क्या है कि हमें बार बार 1999 याद आ जाता है. फरवरी में लाहौर समझौता हुआ था और मई में करगिल. कुर्सी शरीफ भाई के पास ही थी. तो इस बार टोपी मत पहनाना नवाज जी.

वैसे बता दें कि शरीफ की बेटी मरियम नवाज की बेटी मेहरूनिसा की  शादी हुई है मशहूर इंडस्ट्रियलिस्ट चौधरी मुनीर के बेटे रहील मुनिर से. रविवार को उनका दावते-वलीमा था.

इस प्रोग्राम में करीब 2,000 मेहमान शामिल हुए जिनमें सऊदी अरब से आए कुछ VVIP मेहमान भी थे. सूत्रों ने बताया कि UAE और ब्रिटेन में भी अगले महीने दावते वलीमा होगा क्योंकि शरीफ फैमिली के कुछ दोस्त लाहौर नहीं आ पाए.

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Nawaz Sharif dons pink turban gifted to him by Narendra Modi for his grand daughter’s wedding

क्या चल रहा है?

देश में कुछ लोगों की इन हरकतों से पुलवामा हमले के मास्टरमाइंड बहुत खुश होंगे

हर बार आतंकी हमलों के बाद हम एक ही गलती क्यों करते हैं?

अटैक पुलवामा में हुआ और कपिल शर्मा शो में सिद्धू को भयानक झटका लगा

पुलवामा अटैक के बाद अपने बयानों से न्यूज़ में आये थे.

ट्रॉफ़ी जीतने के बाद फ़ैज़ फ़ज़ल ने शहीदों के लिए जो किया वो बेहद अच्छा है

पूरा देश पुलवामा अटैक में शहीद हुए जवानों के साथ खड़ा है.

बार-बार बयान क्यों बदल रहा है आतंकी आदिल अहमद का पिता?

आदिल के आत्मघाती हमले में शहीद हुए हैं CRPF के 40 जवान.

शहीद की मां ने कहा - दीपू मेरे कैंसर का इलाज कराने वापस आएगा

मां ये मान ही नहीं पा रही कि बेटा दुनिया में नहीं रहा.

जब साथी जवानों ने शहीद कुलविंदर की पहचान उनकी सगाई की अंगूठी से की

कुलविंदर के घर में शादी की तैयारी हो रही थी...

शहीद के पिता ने कहा - जीना है तो मरना सीखो, कदम कदम पर लड़ना सीखो

दूसरे बेटे को भी फौज में भेजने तैयार हैं.